23 शिकायतें सुनी, निस्तारण एक का भी नहीं

Sun 13-Aug-2017 07:40:45

- रेंज के अधिकारियों संग समीक्षा बैठक में क्राइम कंट्रोल के सख्त निर्देश

- जनता को कम जनप्रतिनिधियों को दिया ज्यादा समय, सभी फरियादों पर जांच के आदेश

KANPUR: कानपुर रेंज में क्राइम और लॉ एंड ऑर्डर की समीक्षा के लिए केडीए पहुंचे प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी ने जनशिकायतें भी सुनीं। दोनों अधिकारियों के पास कुल ख्फ् फरियादी पहुंचे। इस दौरान सभी मामलों में प्रमुख सचिव गृह व डीजीपी ने जांच कर आवश्यक कार्रवाई करने की बात लिख दी। तकरीबन ख्0 मिनट तक हुई जनसुनवाई के बाद डीजीपी सुलखान सिंह व प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार जनप्रतिनिधियों से मिलने चले गए, जिनसे ब्भ् मिनट तक चर्चा करने के बाद क्राइम मीटिंग में चले गए.

छेडछाड़ से लेकर मकान के विवाद की शिकायतें

डीजीपी सुलखान सिंह और प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार करीब सवा तीन बजे केडीए पहुंचे। इस दौरान एडीजी जोन अविनाश चंद्र, आईजी रेंज आलोक सिंह, डीआईजी कानपुर सोनिया सिंह समेत रेंज के सभी जिलों के कप्तान मौजूद रहे। जनसुनवाई में छेड़छाड़ से लेकर पुलिस के कार्रवाई नहीं करने की कई शिकायतें आई.

सफेदपोश भूमाफियाओं पर कसेगा शिकंजा

एंटी भूमाफिया टॉस्कफोर्स के सफेदपोश भूमाफियाओं पर हाथ नहीं डालने को लेकर डीजीपी ने कहा कि भूमाफियाओं को चिन्हित कर कानूनी कार्रवाई चलती रहेगी। ऐसा नहीं होगा कि एक बार सूची बन गई। जहां जहां लोगों ने जमीनों पर कब्जा कर रखा है उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए पुलिस पूरी तरह से स्वतंत्र है।

जनता और जनशिकायताें पर जोर

डीजीपी और प्रमुख सचिव दोनों ने ही सरकार की प्राथमिकताओं को लेकर अधिकारियो संग चर्चा की। उन्होंने थाना दिवस व तहसील दिवस को प्रभावी बनाने को कहा साथ ही पोर्टल से आने वाली शिकायतों के निस्तारण की मानीटरिंग करने के भी आलाअधिकारियों को आदेश दिए। आम जनता के प्रति सही व्यवहार न करने वाले और करप्शन करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश डीजीपी ने दिए हैं।

अपनी टीम बनाए अधिकारी

डीजीपी ने आलाअधिकारियों से साफ कहा कि लॉ एंड ऑर्डर ठीक रखने व क्राइम कंट्रोल के लिए वह योग्य थानेदारों की तैनाती करें। जो बिना दबाव में आए काम कर सकें। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को छूट दी गई है कि वह अपनी टीम बनाएं। जिसके अच्छे परिणाम भी अब दिखने लगे हैं.

inextlive from Kanpur News Desk

 
Web Title : 23 Complaints Heard Did Not Even Dismiss One