Do not play with your heart and health by snooze your morning alarm

News

अपने मॉर्निंग अलार्म को Snooze करने वालों के लिए ही है ये खबर, पढ़ लो बाद में पछताना न पड़े

by Chandra Mohan Mishra

Wed 13-Sep-2017 06:55:02

interesting news,science news,morning alarm,snooze alarm,bp,heart problem,morning alarm problem,international news

सुबह सुबह मोबाइल का अलार्म बंद करके फिर से सो जाने में बड़ा मजा आता है ऐसा बहुत सारे लोग कहते हैं। पर ऐसा करके आप कितनी बड़ी मुसीबत मोल ले रहे हैं, यह शायद किसी को भी नहीं मालूम होगा। हो सकता है कि यह खबर पढ़ने के बाद आप अपने मोबाइल का अलार्म स्‍नूज करना ही भूल जाऐं।

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में 6 से 7 घंटे की अच्छी नींद ले पाना बड़ा मुश्किल होता जा रहा है। हम में से बहुत सारे लोगों को रात में 12 बजे से पहले नींद नहीं आती अब ऐसे लोगों के लिए सुबह अलार्म बजते ही फटाफट उठ पाना बड़ा मुश्किल हो जाता है। देर रात सोने वाले ऐसे अधिकतर लोग मॉर्निंग में अपने मोबाइल अलार्म को बार-बार स्‍नूज करके फिर से बिस्तर में हो जाते हैं अलार्म स्‍नूज करने का यह सिलसिला कई कई बार चलता रहता है।

 

मत बजाइए दिल का अलार्म
अब सुनिए वो बात जो आपके दिल का अलार्म बजा देगी। एक इंटरनेशनल रिसर्च के मुताबिक सोते समय जब अचानक अलार्म बचता है तो उसे सुनकर हमारे दिल की धड़कन नार्मल से कई गुना बढ़ जाती है और BP चढ़ जाता है। अब अगर हम मोबाइल के अलार्म को 3 से 4 बार स्‍नूज करें तो उतनी ही बार आप अपने दिल की धड़कन पर जोर का झटका धीरे से देते हैं। अब जरा सोचिए कि दिन महीने और साल के हिसाब से अगर रोज ही अपने मोबाइल के अलार्म को बार-बार आगे बढ़ाऐंगे तो आपके दिल पर उस अलार्म से पढ़ने वाला बोझ कुछ ज्यादा ही हो जाएगा।

interesting news,science news,morning alarm,snooze alarm,bp,heart problem,morning alarm problem,international news

20 साल से एक ही टी-शर्ट पहन रहा है यह आदमी, वजह! दिल छू लेगी आपका

अगर सालों तक आप ऐसा ही करते रहें तो कुछ हो ना हो एक बात तो तय है कि आप अपने खूबसूरत से दिल पर काम के तनाव के अलावा यह अलार्म वाला बेवजह का बोझा भी लाद देंगे। रिसर्च के मुताबिक हम सभी को कम से कम 6 से 7 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए। कुछ लोगों को लगता है कि सिर्फ 4 या 5 घंटे की नींद  में ही उनका काम चल जाएगा। तो ऐसा सोचने वालों को रिसर्च बताती है कि जो लोग 6 घंटे से कम सोते हैं उन लोगों में डिप्रेशन और आत्महत्या की प्रवृत्ति नॉर्मल लोगों से कुछ ज्यादा ही होती है। यहीं नहीं कम सोने वालों को डिप्रेशन और अल्‍जाइमर की बीमारी होने की पॉसिबिलिटी भी औरों से ज्‍यादा होती है। तो जनाब जितना मर्जी सोइए या कहें कि जितने घंटे आपको सोने की छूट मिले, लेकिन उसके बाद अलार्म बजते हैं फटाफट उठ जाइए और अपने खूबसूरत से दिल पर और बोझा मत बढ़ाइए।

12 की उम्र से शादी के दिन तक हर रोज ली एक सेल्फी और बना डाला दुनिया का सबसे अनोखा वीडियो

Interesting News inextlive from Interesting News Desk

Related News
+