Five cricketers could not win the World Cup but won the Champions Trophy

Sports

5 महान क्रिकेटर जो अपने करियर में वर्ल्‍ड कप नहीं जीत पाए लेकिन चैंपियंस ट्राफी अपने नाम किया

Thu 18-May-2017 12:08:05

इंग्लैंड में होने वाली आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी को अब बस कुछ ही दिन बचे हैं। 1 जून से इंग्‍लैंड में इसकी शुरुआत हो जाएगी। ऐसे में चैम्‍िपयन ट्रॉफी से पहले उन दुनिया के उन 5 बड़े खिलाड़ियों के बारे में जानना जरूरी हैं जिन्‍होंने कभी वर्ल्‍ड कप नहीं जीता। वहीं अगर चैंपियंस ट्रॉफी में उनका प्रदर्शन काफी अच्‍छा रहा। उन्‍होंने चैंपियंस ट्रॉफी अपने नाम भी की। अब आप सोच रहे होंगे कि वो खिलाड़ी कौन हैं तो यहां पढ़ें...

स्टीफन फ्लेमिंग:
इसमें सबसे पहला नाम न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग का आता हैं। अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में इनका प्रदर्शन काफी अच्‍छा रहा है। अक्टूबर 2000 में फ्लेमिंग ने न्यूजीलैंड की ओर से खेलते हुए अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर अपनी टीम को एक बड़ी जीत दिलाई थी। उन्होंने केन्या में आईसीसी नॉकआउट ट्राफी जीतने के लिए भारत को हराया था। हालांकि स्टीफन फ्लेमिंग को लेकर वर्ल्‍ड कप में देखा जाए तो वह कभी नहीं जीत पाए। 1999 और 2007 विश्व कप में न्‍यूजीलैंड सेमीफाइनल तक पहुंच गया था। वहीं 2003 में भी उनकी टीम को हार का सामना करना पड़ा था।



क्रिस गेल:

चैंपियंस ट्रॉफी जीतने और वर्ल्‍ड कप हारने वाले क्रिकेटर्स में वेस्‍टइंडीज के तूफानी बल्‍लेबाज क्रिस गेल का नाम भी शामिल है। क्रिस गेल ने 2004 में ओवल में इंग्लैंड के खिलाफ चैंपियंस ट्राफी जीते थे। वहीं जब भी व क्रिस गेल इस टीम का हिस्‍सा बने कभी वर्ल्‍ड कप में वेस्‍टइंडीज को जीत का पुरस्‍कार नहीं मिला है। 19 वर्ष के दौरान कैरियर में वह अब तक चार बार वर्ल्‍ड कप में खेलने उतरे हैं। कई बार तो यह विश्व कप के क्वार्टर फाइनल तक पहुंचने में सफल रहे हैं लेकिन प्रतिष्ठित पुरस्कार नहीं जीत पाए हैं।



राहुल द्रविड़:
इस सूची में पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ भी शामिल हैं। 2002 में इन्‍होंने भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्‍सा होते हुए 2002 चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी। वहीं अगर इनके वर्ल्‍ड कप जीतने की बात की जाए तो हमेशा प्रशंसक निराश रहे। इन्‍होंने अपने 16-वर्षीय कैरियर में करीब 3 बार विश्व कप में हिस्सा लिया। सबसे खास बात तो यह है कि 2003 में भारत विश्व कप में अच्छा प्रदर्शन करते हुए फाइनल में पहुंच गया था। यहां पर उसने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था। जिसमें उसे हार का सामना करना पड़ा था।



ब्रायन लारा:
वेस्ट इंडीज के क्रिकेटर ब्रायन लारा का नाम भी इसमें शामिल है। इन्‍होंने अपने 16 साल तक चले गए करियर में 2004 चैंपियंस ट्रॉफी जीती थी। इंग्‍लैंड के खिलाफ उनकी यह शानदार कभी न भूलने वाली जीत थी, लेकिन वर्ल्‍ड कप जीतने में फेल साबित हुए। वहीं यह करीब 4 विश्वकपों में खेलने उतरे थे लेकिन जीतने में नाकाम रहे। 1996 में वह जीत के काफी करीब पहुंच चुके थे। उनकी टीम सेमीफाइनल में मोहाली में ऑस्ट्रेलिया के दबाव में हार गई थी। आखिर उनके साथ ऐसा क्‍यों होता रहा है शायद इसका जवाब तो सिर्फ वही दे सकते हैं।



जैक कैलिस:

जैक कैलिस का नाम साउथ अफ्रीका के बड़े क्रिकेटर्स में शामिल है। इन्‍होंने अपने 18 साल के करियर में करीब 4 बार चैंपियंस ट्रॉफी जीती। 1998 में तो इनकी टीम ने ढाका में वेस्‍टइंडीज को हराकर चैंपियंस ट्राफी अपने नाम की। वहीं इसके ठीक एक साल बाद वह वर्ल्‍ड कप जीतने में असफल रहे। 1999 के वर्ल्‍ड कप में तो जैक कैलिस की टीम सेमी फाइनल तक पहुंच गई थी लेकिन सफलता नहीं मिली।

दावा! यह खिलाड़ी आंखें बंद करके भी ठोक सकता है शतक

Cricket News inextlive from Cricket News Desk

Related News