Happy Birthday Arshad Warsi You Will shocked To Know His Very Hard Childhood Days

Entertainment

जब बंगला छोड़कर शिफ्ट होना पड़ा एक कोठरी वाले घर में, ऐसी है अरशद की उतार-चढ़ाव से भरी जिंदगी की कहानी

Wed 19-Apr-2017 10:30:01

19 अप्रैल 1968 को मुंबई के मुस्‍लिम परिवार में पैदा हुए एक बच्‍चा। जबरदस्‍त संघर्षों के बीच बीता इस बच्‍चे का बचपन। फिर अचानक बड़े होकर यही बच्‍चा दुनिया के सामने 'मुन्‍ना भाई' और 'सर्किट' बनकर आ जाता है। उसकी इस कामयाबी को देखकर लोग न सिर्फ शॉक्‍ड रह जाते हैं बल्‍कि उनकी तारीफ करते नहीं थकते हैं। इस शख्‍स को आज लोग अरशद वारसी के नाम से जानते हैं। सिर्फ यही नहीं इनकी जिंदगी में और भी बहुत सी ऐसी चीजें रही हैं, जिनमें कुछ आपको इंस्‍पायर करेंगी तो कुछ आपको चौंका देंगे। आइए, जानें इनके बारे में ऐसे ही कुछ सनसनीखेज सच।

1 . अरशद वारसी का बचपन काफी मुश्‍किलों में बीता। इसको लेकर खुद वह बताते हैं कि आज भी वह उन लोगों से ज्‍यादा नहीं जुड़ पाते हैं जो ये कहते हैं वह अपने मां-बाप के बिना नहीं रह सकते। इसके पीछे उनकी जिंदगी से जुड़ा एक बहुत बड़ा कारण जिम्‍मेदार है। वो ये कि वह आठ साल की उम्र से ही अपने घर और परिवार से दूर बोर्डिंग स्‍कूल में पढ़ रहे हैं। उस दौरान साल में दो ही बार उन्‍हें घर आने का मौका मिलता था। इन मौकों में भी कई बार इनके पेरेंट्स इनकी छुट्टियों को भूल जाते थे। ऐसे में पूरा स्‍कूल अपने-अपने घर चला जाता था और वह बोर्डिंग स्‍कूल में ही अकेले रह जाते थे। ऐसी स्‍थितियों में वह कभी अपने पेरेंट्स से ज्‍यादा अटैच ही नहीं हो पाए।

2 . स्‍कूल के दौरान वह एक बेहद अनोखी चीज किया करते थे। दरअसल दिल को खुश करने के लिए वह खुद को ही चिट्ठी लिखा करते थे और अपने दोस्‍तों को देते थे उनके नाम पर पोस्‍ट करने के लिए। इन चिट्ठियों को पढ़कर वह बहुत खुश होते थे।



3 . वह बताते हैं कि नौ साल की उम्र में उन्‍हें अपने पिता पर बहुत गुस्‍सा आया। कारण था कि वह वर्ल्‍ड क्‍लास जिमनास्‍टिक में हिस्‍सा लेने चाहते थे। दरअसल दो ब्रिटिश ट्रेनर्स ने उनको चुना था ट्रेनिंग के लिए, लेकिन उनके पिता ने उन्‍हें इसमें हिस्‍सा लेने से मना कर दिया।

पढ़ें इसे भी : अरशद की 6 Funny Tweets जो बताती हैं उनकी गंभीरता...

4 . हालांकि अरशद का फैमिली बैकग्राउंड काफी संपन्‍न था, लेकिन अचानक से एक दौर आया और सबकुछ बदल गया। ये वक्‍त था जब बोन कैंसर से पीड़ित इनके पिता दुनिया को अलविदा कह गए। इसके बाद इनके परिवार की आर्थिक स्‍थिति ऐसी बिगड़ी कि इन्‍हें भाई और मां के साथ अपना बंगला छोड़कर एक बैडरूम सेट वाले फ्लैट में आकर रहना पड़ा।

5 . उस दौरान वह क्‍लास 10 में थे। इन्‍हें स्‍कूल से भी निकाल दिया गया। ऐसे में अरशद भी पढ़ाई छोड़कर लग गए दो जून की रोटी कमाने में। अब इन्‍होंने एक कॉस्‍मैटिक सेल्‍समैन का काम शुरू किया। जगह-जगह धक्‍के खाने के बाद इन्‍होंने एक फोटो लैब में भी काम किया। काफी समय तक यहां काम करने के बाद इनकी मुलाकात बॉलीवुड डायरेक्‍टर महेश भट्ट से हुई।

पढ़ें इसे भी : जानिये क्‍या करती हैं बॉलीवुड स्‍टार्स की बीवियां

6 . फिर इन्‍होंने 'काश' और 'ठिकाना' जैसी फिल्‍मों के लिए महेश भट्ट के साथ बतौर असिस्‍टेंट काम किया। उस समय इनकी कमाई का सारा पैसा इनकी मां के इलाज पर खत्‍म हो जाता था। आखिरकार इनकी मां भी इनको छोड़कर हमेशा-हमेशा के लिए चली गईं।

7 . आप ये भी सच जानकर चौंक जाएंगे कि अरशद को डांस करना बहुत ज्‍यादा पसंद है। सिर्फ यही नहीं इन्‍होंने अपने संघर्ष के दिनों में अकबर सामी का डांस ग्रुप भी ज्‍वाइन किया। वह इस ग्रुप के साथ कई कॉम्‍पटीशंस में भी जाते थे। एक बार 21 साल की उम्र में लंदन में हुए वर्ल्‍ड डांस चैंपियनशिप में इन्‍होंने मॉर्डन जैज कैटेगरी में फोर्थ प्राइज भी जीता था। आखिरकार वह अकबर सामी डांस ग्रुप के डांसर और कोरियोग्राफर बन गए।



8 . इसी दौरान अरशद मल्‍हार कॉलेज फेस्‍टिवल में बतौर जज वहां पहुंचे। यहां इनकी मुलाकात पार्टिसिपेंट मारिया गोरेटी से हुई। अरशद को इनका डांस बहुत पसंद आया। फाइनली इनको अरशद के डांस ट्रूप में लीड डांसर बनने का मौका मिला। इस दौरान कई लोगों ने मारिया से कहा कि अरशद उनको प्‍यार करने लगे हैं। इसके बावजूद उन्‍होंने इस बात को तब तक एक्‍सेप्‍ट नहीं किया जब तक वह उनके डांस ड्रामा के लिए उनके साथ दुबई नहीं गईं।

पढ़ें इसे भी : Jolly LLB 2 की शूटिंग के दौरान घायल हुए अक्षय कुमार! फैंस को दिखाया ये सबूत

9 . यहां अरशद चाहते थे कि मारिया भी उनसे प्‍यार का इजहार करे। वह परेशान हो गए, लेकिन मारिया ने ऐसा नहीं किया। फाइनली उन्‍होंने मारिया को आधी गिलास बियर पिलाई और मारिया ने अपने दिल का सच उनके सामने कुबूल कर लिया। उसके बाद दोनों ने शादी कर ली और अब दोनों दो बच्‍चों के पेरेंट्स हैं। बता दें कि दोनों को एक बेटा और एक बेटी है। अब आप ही सोचिए कि भला इतने संघर्षों में बचपन बिताने वाले अरशद से ज्‍यादा अपने परिवार का सम्‍मान और कौन करता होगा।



10 . फिल्‍म लाइन में एक्‍टिंग की दुनिया में आने के बाद अरशद को पहला फिल्‍म फेयर अवॉर्ड फिल्‍म 'लगे रहो मुन्‍नाभाई' में एक्‍टिंग को लेकर मिला।

11 . अरशद एक बेहतरीन बाइकर भी हैं। इनको अलग-अलग तरह के मॉडल की बाइक चलाना बहुत पसंद है। सिर्फ यही नहीं वह एक बाइकर्स गैंग का हिस्‍सा भी हैं।    

12 . 2010 में रिलीज हुई फिल्‍म 'इश्‍कियां' बतौर को-प्रोड्यूसर इनकी पहली फिल्‍म थी।

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk

Related News