गर्मी से हाहाकार, पारा हो सकता है 47 पार

Tue 16-May-2017 12:30:05
Heat wave keeps residents indoors no respite today either
मई का आधा महीना गुजर चुका है। तापमान काफी ऊपर चढ़ गया है। हर कोई गर्मी से परेशान है। मौसम विज्ञानी की मानें तो गर्मी अभी और पड़ने वाली है।

47 के पार जा सकता है तापमान
जून आने में अभी करीब 15 दिन हैं। लेकिन गर्मी ने लोगों को इस कदर परेशान कर रखा है कि लोग अपना घर छोड़कर ठंडे प्रदेशों की  ओर रुख कर रहे हैं। देश में दिन के समय चिलचिलाती गर्मी के कारण जहां लोग घरों में ही बैठे रहे वहीं सोमवार को वर्किंग डे होने के कारण भी शहर के मुख्य बाजार सुने-सुने दिखे। स्किन को जला देने वाली इस गर्मी से बचाव के लिए लोगों को छाता लेकर तथा मुंह बांध कर बाजारों में जाते देखा गया। मौसम विभाग के जानकारों का कहना है कि गर्मी अभी और पड़ेगी और ज्यादातर गर्मीले इलाकों में तापमान 47 डिग्री के पार जा सकता है।


इन राज्‍यों में पड़ रही ज्‍यादा गर्मी
गौरतलब है कि यूपी, बिहार, मप्र समेत देश के तमाम हिस्सों में मई माह की शुरूआत में अधिकतम तापमान 32 डिग्री के आस-पास था। उसके बाद लगातार मौसम में गर्माहट बढ़ती गई तथा मई आधी बीत जाने के बाद अधिकतम तापमान ज्यादा गर्मीले क्षेत्रों में करीब 40 डिग्री से अधिक हो गया है।

जून के पहले सप्ताह केरल पहुंचेगा मानसून
जून के पहले सप्ताह में दक्षिण पश्चिमी मानसून केरल पहुंच सकता है। यह दावा भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने किया है। मौसम विभाग ने अपने एक बयान में कहा कि दक्षिण-पश्चिमी हवाओं की मजबूती और गहराई और लगातार बादल बनने की प्रक्रिया के साथ दक्षिण पूर्वी बंगाल की खाड़ी में हुई दक्षिण पश्चिमी मानसून की समय से पहले बारिश हुई। आम तौर पर, अंडमान समुद्र में प्रवेश करने के बाद, मानसून केरल के तट पर पहुंचने में लगभग 10 दिन लगते हैं।


बारिश से किसानों को राहत
सोमवार को कर्नाटक के अधिकतर हिस्सों में तटीय कर्नाटक के अधिकतर जगहों पर और तमिलनाडु, केरल, लक्षद्वीप, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश पर अलग-अलग स्थानों पर बारिश हुई। जानकारों का कहना है कि सामान्य मानसून से कृषि उत्पादन को बढ़ावा होने की उम्मीद है। कृषि भूमि के लिए बारिश के पानी की सख्त जरूरत होती है और इससे जलाशयों का स्तर बढ़ता है।

National News inextlive from India News Desk

Web Title : Heat Wave Keeps Residents Indoors No Respite Today Either