less electricity supply for companies and factories

Local

ऊर्जा प्रदेश में उद्योगों को नहीं मिल रही 'ऊर्जा'

Wed 13-Sep-2017 07:40:19

- औद्योगिक क्षेत्रों में रोजाना हो रहा 3- 4 घंटे का पावर कट

- उत्पादन पर पड़ रहा असर, लेबर को नहीं मिल पा रहा काम

- यूपीसीएल बोला मरम्मतीकरण जरूरी, बिजली सुचारू करने को दीपावली से पहले का रखा गया लक्ष्य

DEHRADUN: अब इससे बिजली का संकट कहें या फिर यूपीसीएल की नजरअंदाजी। लेकिन उद्योगों का कहना है कि ऊर्जा प्रदेश कहे जाने वाले राज्य में उद्योगों को बिजली की किल्लत झेलनी पड़ रही है। जिससे उद्योगों में न तो समय पर उत्पादन हो पा रहा है और न ही लेबर को काम मिल पा रहा है। ऐसे में उद्योगों को इस बात की चिंता भी है कि हाल ऐसा ही रहा तो दीपावली के मिले ऑर्डर भी समय पर पूरा नहीं हो पाएंगे। इधर, यूपीसीएल का कहना है कि ट्रांसफार्मर से लेकर विद्युत लाइनों के मेंटिनेंस के लिए शटडाउन लिया जा रहा है। लेकिन दीपावली के पहले तक हर क्षेत्र में विद्युत की आपूर्ति यथावत कर दी जाएगी।

दून में ब्भ्0 से अधिक हैं उद्योग

इंडस्ट्रीज एसोसिएशन की मानें तो दून के सेलाकुई क्षेत्र में तकरीबन साढ़े चार सौ छोटे- बड़े उद्योग हैं। ऐसे ही दून के आस- पास के क्षेत्रों में भी कई इंडस्ट्रीज हैं। लेकिन उद्योगपतियों के आरोप हैं पिछले कई महीनों से उद्योगों को पर्याप्त बिजली नहीं मिल पा रही है। जिसका सीधा असर उत्पादन पर पड़ रहा है। उद्योगपतियों को कहना है कि पिछले दिनों बिजली की उपलब्धता न होने के कारण उद्योगों को सप्ताह में दो दिन तक उत्पादन बंद करना पड़ा। इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के महासचिव अनिल मारवाह का कहना है कि वर्तमान समय में भी उद्योगों को करीब तीन- चार घंटे एवरेज की बिजली कट का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि सेलाकुई इंडस्ट्री में ख्ख्0 केवी सब- स्टेशन प्रस्तावित था, अभी तक पता नहीं चल पाया। वहीं, इंडस्ट्री एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के अध्यक्ष पंकज गुप्ता का कहना है कि बिजली की आपूर्ति से ज्यादा दिक्कत सिस्टम मैनेजमेंट में है। लाइनों, ट्रांसफार्मर व सब स्टेशनों को मेंटिनेंस की जरूरत है।

शटडाउन के पीछे मरम्मतीकरण जरूरी

यूपीसीएल के एमडी बीसीके मिश्रा का कहना है कि न केवल दून के औद्योगिक क्षेत्र बल्कि समूचे राज्य में मरम्मतीकरण की जरूरत है। चाहे ट्रांसफार्मर हों, बिजली की लाइनें हों या फिर मीटर हों। इसके लिए अधिकारियों को आदेश दिए गए हैं कि जल्द से जल्द दीपावली तक मरम्मतीकरण का काम पूरा कर दिया जाए।

इंडस्ट्रीज एरिया में बिजली व्यवस्था का हाल यह है कि आज भी एवरेज तीन- चार घंटे उद्योगों को बिजली कट की समस्या झेलनी पड़ रही है। इसका असर प्रोडक्शन व कर्मचारियों पर पड़ रहा है।

अनिल मारवाह, महासचिव, इंडस्ट्रीज एसोसिएशन।

उद्योगों में बिजली की आपूर्ति से ज्यादा दिक्कत सिस्टम मैनेजमेंट में है। हाल में एमडी यूपीसीएल ने विजिट किया है। भरोसा दिया है कि दीपावली से पहले उद्योग क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति सही कर दी जाएगी।

पंकज गुप्ता, इंडस्ट्री एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड।

कई सालों से बिजली की लाइनों, ट्रांसफामर्स व सब स्टेशन में नवीनीकरण की जरूरत है। काम चल रहा है। इसीलिए शटडाउन लिया जा रहा है। इंडस्ट्रीज एरिया में भी अब ख्ब् घंटे बिजली की व्यवस्था कर दी जाएगी।

बीसीके मिश्रा, एमडी, यूपीसीएल।

ईसी रोड पर बनेगा नया सब स्टेशन

यूपीसीएल ईसी रोड पर नया सब स्टेशन तैयार कर रहा है। इस क्षेत्र में लोड ज्यादा होने के लिए नए सब स्टेशन का लक्ष्य रखा गया है। यूपीसीएल के एमडी का कहना है कि यह सब स्टेशन इसी महीने में अस्तित्व में आ जाएगा।

inextlive from Dehradun News Desk

Related News