Mowgli girl lives with swamp of monkeys found in this forest of the up

Odd News

जंगल में मिली 'मोगली गर्ल' 10 सालों से रहती थी बंदरों के साथ

Thu 06-Apr-2017 02:02:03

आप चर्चित फिल्‍म द जंगल बुक के मोगली किरदार से तो अच्‍छे से परिचित होंगे। इसके अलावा जंगल जंगल बात चली है पता चला है...वाला गाना भी अच्‍छे से याद होगा। ऐसे में अगर आपसे कोई ये कहे कि मोगली की ये काल्पनिक कहानी हाल ही में सच हो गई है। उत्‍तर प्रदेश में एक रियल मोगली गर्ल मिली है। वह 10 सालों से बंदरों के साथ रहती थी। हो सकता इसे पढ़कर आप हैरान हो रहे हों, लेकिन यह सच है। यहां पर पढ़ें पूरा मामला...

जंगली गुड़िया बुला रहे
जी हां हाल ही उत्‍तरप्रदेश के बहराइच में एक रियल मोगली गर्ल यानी कि लड़की मिली है। जिसे लेकर क्षेत्रीय लोगों के साथ ही प्रशासन तक हैरान है। इन दिनों यह लड़की चर्चा का विषय बनी है। इस बच्‍ची को हाल ही में बहराइच के जिला अस्‍पताल लाया गया है। करीब 10 साल की यह लड़की बेहद रहस्‍यमयी है। इसे कुछ लोग मोगली गर्ल तो कुछ लोग जंगली गुड़िया नाम से बुला रहे हैं। यह बच्‍ची न इंसानों की तरह बात करती है और न इंसानों की तरह व्यवहार करती है।

बंदरों की तरह गुर्राती
सबसे बड़ी बात तो यह है कि यह बच्‍ची बोल भी नहीं पाती है। इसके अलावा जब यह लोगों को देखती है कि बंदरों की तरह गुर्राने लगी। नाखून व बाल बढ़े होने के साथ ही वह लोगों को बंदरों की तरह ही काटने और दौड़ाने की कोशिश करती है। अस्‍पताल में जब भी उसे खाना दिया जाता है कि तो वह कई बार थाली फेंक देती है। लोगों पर खाना भी फेंकती रहती है। जिससे उसे खाना खिलाना काफी मुश्‍िकल काम है। हालांकि अस्‍पताल कर्मी उसके उपचार में लगे हैं।   
300 मीटर के सफर के लिए ओला ने भेजा 149 करोड़ रुपये का बिल!
मोतीपुर रेंज में मिली

यह बच्‍ची हाल ही में कतर्नियाघाट वन्य जीव क्षेत्र के मोतीपुर रेंज में मिली है। कहा जाता है कि यह अक्‍सर इस जंगल में बंदरों के साथ दिखाई देती थी, लेकिन जब लोग उसे निकालने की कोशिश करते तो बंदर दौड़ा लेते थ्‍ो। ऐसा लगता था कि वह बंदरो के परिवार का सदस्‍य है। उसके बाद वह बच्‍ची भी गायब हो जाती थी। ऐसे में अभी बीती जनवरी में यूपी की 100 नंबर की पुलिस टीम गश्‍त पर निकली थी। इस दौरान यह बच्‍ची बंदरों के झुंड में दिखाई दी।
सहेली को बचाने के लिये मगरमच्‍छ से भिड़ गई 6 साल की मासूम
शरीर में चोट के निशान
इस दौरान पुलिस ने बेहद सतकर्तता बरतते हुए इसे निकालने का प्‍लान किया। पुलिस टीम ने उसे बड़ी मशक्‍कत के बाद बाद से बंदरों के बीच से निकाला। इसके बाद उसे मिहीपुरवा सी.एच.सी. में और फिर जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया। उसके शरीर पर चोट के निशान है। जिससे उसका उपचार किया जा रहा है। अब तक उस बच्‍ची की हालत में काफी हद तक सुधार हुआ है। अब वहीं इस पुलिस इस बच्‍ची से जुड़ी हर बात का पता लगाने की कोशिश कर रही है।

Weird News inextlive from Odd News Desk

 

Related News