patna news

Local

ये कैसी शराबबंदी जब चल रहा पीने पिलाने का दौर

Wed 13-Sep-2017 07:40:32

- पुलिस की कार्रवाई बता रही कानून की हकीकत

- पुलिस की वाहवाही है या कानून के पालन में खामी

- 24 घंटे के आंकड़े से जानिए पटना में शराब का अवैध कारोबार

PATNA : बिहार ड्राई स्टेट है यहां शराब नहीं मिलती है। पूरा देश इस बात को जानता है। सच तो ये है कि शराबबंदी में भी यहां पीने पिलाने का दौर चल रहा है। ये हम नहीं पटना पुलिस कह रही है। शराबबंदी के कड़े कानून के बाद भी जाम लड़ रहे हैं। अगर ऐसा है तो हम प्रदेश को कैसे ड्राई स्टेट कह सकते हैं। पटना पुलिस की ख्ब् घंटे की कार्रवाई राजधानी में शराबबंदी कानून की पोल खोलने के लिए काफ है। आइए आपको पुलिस के आंकड़ों से ही बताते हैं कि यहां किस तरह से शराब का अवैध करोबार और पीने पिलाने का दौर चल रहा है।

- जानिए क्या कह रही है पुलिस

प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी के डेढ़ वर्ष हो गए हैं। एसएसपी ने अपर पुलिस अधीक्षक को अब जिम्मेदारी दी है जिसमें उन्हें राजधानी को नशा मुक्त शराब मुक्त बनाने को लेकर अभियान चलाने को कहा है। पटना पुलिस के अफसरों के मुताबिक अब दृढ़ संकल्प लिया गया है कि राजधानी को नशा मुक्त बनाना है।

- पटना पुलिस की कार्रवाई से खुल रही पोल

थाना गिरफ्तारी बरामदगी गिरफ्तारी

गांधी मैदान - 7भ्0 एमएल की 8 बोतल -

पीरबहोर क् - शराब पीने में

कदमकुआं फ् 7भ्0 एमएल फ्म् और क् लीटर क्ख् बोतल पैसा व मोबाइल बरामद

कोतवाली म् - शराब पीने में

कंकड़बाग क् क्80 एमएल क्ख् बोतल -

सचिवालय क् - शराब पीने में

गर्दनीबाग क् - शराब पीने में

दानापुर क् - शराब पीने में

खगौल फ् - शराब पीने में

रूपसपुर ख् - शराब पीने में

जानीपुर क्फ् - शराब पीने में

आलमगंज ख् - शराब पीने में

खाजेकला ख् - शराब पीने में

चौक ख् - शराब पीने में

मालसलामी ब् - शराब पीने में

बाइपास क् - शराब पीने में

नौबतपुर क् फ्ख् लीटर देशी शराब -

बिहटा क् - शराब पीने में

मनेर क् - शराब पीने में

फतुहां क् - पूर्व के अपराध में

विक्रम फ् क्क् लीटर महुआ -

धनरुआ 7 - शराब पीने में

बाढ़ क् - शराब पीने में

- शराब बरामदगी से सवाल

सवाल ये है कि डेढ़ साल बाद भी पुलिस अपने थाना एरिया में पूर्ण शराबबंदी नहीं करवा पाई है। आए दिन थाना एरिया में शराब का अवैध कारोबार के साथ पीने पिलाने का काम चल रहा है। ऐसे में सवाल ये है कि क्या पुलिस को जब अभियान का आदेश मिलता है तभी कार्रवाई की जाती है। अगर पुलिस अभियान के अलावा गंभीर होती और कार्रवाई करती तो शायद इतनी बड़ी बरामदगी नहीं हो पाती। सूत्रों की मानें तो थाना एरिया में ही शराब का कारोबार फल फूल रहा है जिससे पीने पिलाने का दौर भी खूब चल रहा है। जब भी अभियान का आदेश आता है तभी गिरफ्तारी होती है नहीं तो पुलिस शांत रहती है।

- ख्ब् घंटे की कार्रवाई से लगाइए अंदाजा

पुलिस ने ख्ब् घंटे की कार्रवाई में ख्फ् थानों से भ्8 शराब तस्करों और इसके शौकीनों को गिरफ्तार किया है। इस कार्रवाई में लगभग भ्0 लीटर से अधिक शराब भी बरामद किया गया है। महुआ और देशी शराब भी अधिक मात्रा में बरामद हुई है। पुलिस ने नगदी और मोबाइल भी बरामद किया है।

- थानेदारों पर हो सख्ती तो कसेगा शिकंजा

पुलिस के जानकारों का कहना है कि जब तक थानों पर शिकंजा नहीं कसा जाएगा तब तक शराब का कारोबार ऐसे ही चलता रहेगा। अभियान में पुलिस वाहवाही लूटने के लिए कार्रवाई करती है फिर शांत हो जाती है। कानून बनाते समय ये भी कहा गया था कि जिस थाना एरिया में शराब बरामद होगी वहां के थानेदार पर कार्रवाई होगी, लेकिन इस आदेश का किसी भी थानेदार पर पालन नहीं किया गया। अगर ऐसा होता तो पटना के कई थानेदारों पर कार्रवाई हो जाती।

inextlive from Patna News Desk

Related News