side effect of gorakhpur incident

Local

सीएम के प्रोग्राम पर दिखा हादसे का असर

Sun 13-Aug-2017 07:41:02

मेडिकल कॉलेज चौराहे से लेकर कार्यक्रम स्थल युनाइटेड इंजीनियरिंग कॉलेज नैनी के बीच नदारद रहा आदमकद कटआउट और तोरण द्वार

ALLAHABAD: गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में दर्दनाक हादसे का असर इलाहाबाद में भी दिखाई दिया। उप्र का मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ तीसरी बार इलाहाबाद पहुंचे लेकिन उनके स्वागत में भाजपा की इलाहाबाद और महानगर इकाई के द्वारा न तो आदमकद कटआउट दिखा और न ही कही पर भी तोरण द्वार लगाया गया था। शहर के मेडिकल कॉलेज चौराहे से लेकर नैनी के युनाइटेड इंजीनियरिंग कॉलेज में आयोजित गंगा सम्मेलन समारोह के बीच पूरी तरह से सन्नाटा छाया रहा। आयोजन स्थल पर यह चर्चा जोरों पर रही कि गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में हुए हादसे की वजह से पार्टी की ओर से सीएम योगी आदित्यनाथ का स्वागत नहीं किया गया है.

दो बार हुआ था भव्य स्वागत

उप्र का मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ पहली बार हाईकोर्ट के स्थापना के 150वें वर्ष के समापन समारोह में शामिल होने के लिए दो अप्रैल को आए थे। उस दिन हाईकोर्ट से लेकर अलोपीबाग स्थित फोर्ट रोड चौराहे तक कार्यकर्ताओं ने पोस्टर व बैनर से पाट दिया था। उसके बाद सीएम तीन व चार जून को अपने दो दिवसीय दौर के दौरान इलाहाबाद पहुंचे थे। उस दौरान नजारा यह था कि शहर के एक छोर से लेकर दूसरे छोर तक पार्टी नेताओं की आदमकद कटआउट, पोस्टर व बड़ी- बड़ी होर्डिग्स लगाई गई थी। लेकिन तीसरी बार शनिवार को इलाहाबाद पहुंचने पर नजारा इसके उलट दिखाई दिया.

यह पूरी तरह से सरकारी कार्यक्रम था। इसलिए ऐसे आयोजनों में पार्टी की ओर से होर्डिग्स नहीं लगाई जाती है.

- अवधेश चंद्र गुप्ता,

अध्यक्ष भाजपा महानगर

inextlive from Allahabad News Desk

Related News