पांच देशों के अरबपति अपने घर में पैसा बनाकर, निवेश करने निकले दूसरे देश

Fri 21-Apr-2017 05:59:05
The countries millionaires are leaving in their droves
कोई भी धंधा तभी सफल होता है, जब उसके लिए मुफीद बाजार मिले। आपके पास नए-नए बिजनेस आइडियाज तो हैं, लेकिन समय और परिस्‍थिति अनुकूल नहीं हो पाती। जिस वजह से इन्‍हें या तो बिजनेस बदलना पड़ता है या देश। आज हम ऐसी ही कुछ पूंजीपतियों की बात करेंगे, जो अपने देश की तमाम अव्‍यवस्‍थाओं से तंग आकर बिजनेस करने पहुंच गए दूसरे देश...


1. टर्की :
साल 2015 में करीब 1,000 अरबपति टर्की छोड़कर चले गए थे। पिछले साल यह आंकड़ा पांच गुना बढ़ गया। और 2016 में कुल 6000 अरबपति अपना देश छोड़कर विदेश में बिजनेस करने चले गए। टर्की वैसे कोई गरीब देश नहीं है लेकिन यहां राजनीति, सुरक्षा और आर्थिक समस्‍या से जुड़े कई मसले हैं। जिन्‍होंने इन पूंजीपतियों को देश छोड़ने पर मजबूर कर दिया।


2. भारत :
पिछले एक दशक में भारत से पलायन करने वाले अरबपतियों की संख्‍या में काफी इजाफा हुआ है। साल 2016 में ही करीब 6,000 बिजनेसमैन भारत छोड़कर चले गए। इसकी वजह टैक्‍स में बदलाव, पेमेंट में उतार-चढ़ाव मुख्‍य है।


3. ब्राजील :
ब्राजील में बिजनेसमैनों के लिए हालात काफी अच्‍छे नहीं हैं। राजनीतिक अराजकता से लेकर करेप्‍शन और लो कमोडेटी प्राइस जैसे कई मुद्दे हैं जो अरबपतियों को अपना व्‍यापार फैलाने से रोकते हैं। इसीलिए यहां की इकोनॉमी भी अच्‍छी नहीं है। साल 2015 में पलायन करने वाले पूंजीपतियों की संख्‍या 2000 थी लेकिन साल 2016 में यह बढ़कर 8000 पहुंच गई।


4. चीन :
पिछले एक दशक में चीन से करीब 10 हजार अरबपति बिजनेसमैन पलायन कर चुके हैं। इनमें से 9000 तो सिर्फ 2016 में ही देश छोड़कर चले गए। इन अरबपतियों के देश छोड़कर जाने की असल वजह आजादी में दखल, मैनेजमेंट जॉब्‍स की कमी और चीन में बढ़ता वायु प्रदूषण है।


5. फ्रांस :
फ्रांस में भी पूंजीपतियों को देश छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा है। पिछले साल करीब 12,000 अरबपतियों ने दूसरे देश जाना बेहतर समझा। यहां पर ज्‍यादा टैक्‍स के चलते बिजनेस करना आसान नहीं है। वहीं कुछ लोग अपनी किस्‍मत अजमाने के लिए विदेश का रुख कर लेते हैं।

ये हैं दुनिया की मोस्‍ट डिमांडिंग जॉब, चाहिए निश्‍चित नौकरी तो इन्‍हें चुनें करियर

Interesting News inextlive from Interesting News Desk

Web Title : The Countries Millionaires Are Leaving In Their Droves