अमेरिकी बॉर्डर पर बिछड़े परिवारों को मिलाये जाने के बाद 1000 लोगों को देश छोड़ने का आदेश

2018-07-28T01:51:06+05:30

अमेरिकी बॉर्डर पर बिछड़े हजारों अप्रवासी परिवारों को मिलाये जाने के बाद उन्हें वापस उनके देश भेजने का फैसला किया गया है। सरकार ने इस बात की पुष्टि की है।

वाशिंगटन (आईएएनएस)। ट्रंप एडमिनिस्ट्रेशन ने शनिवार को बताया अमेरिकी बॉर्डर पर बिछड़े हजारों की तादाद में अप्रवासी परिवारों को मिलाये जाने के बाद उनमे से 1000 परिवारों को देश छोड़ने का आदेश जारी किया गया है। एक अदालत की सुनवाई के दौरान न्याय विभाग (डीओजे) के वकीलों ने कहा कि 392 अप्रवासी परिवार अभी भी अप्रवासन प्राधिकरणों की हिरासत में हैं, जबकि बाकी को निगरानी के तहत मुक्त कर दिया गया है। वकील सारा फैबियन ने बताया कि अभी भी 650 नाबालिग अपने परिवारों से दोबारा जुड़ नहीं पाए हैं, जिनमें 431 तो ऐसे बच्चे हैं, जिनके माता-पिता को वापस उनके देश भेज दिया गया है।
विभाग को मिला सात दिनों का समय
बता दें कि अदालत की बात को मानते हुए सरकार ने अप्रवासन विभाग को पांच से 18 साल की उम्र के बिछड़े 2,551 बच्चों को उनके माता-पिता से मिलाने के लिए 26 जुलाई तक मोहलत दी थी। गुरुवार को विभाग ने आधिकारिक तौर पर बताया कि वे अब तक 1,800 से अधिक बिछड़े परिवारों को मिला चुके हैं। अमेरिकन सिविल लिबर्टीज यूनियन (एसीएलयू) की शिकायत के बाद, जज ने कहा कि वह अप्रवासी परिवारों को तब तक उनके देश वापस भेज सकते जब तक उन्हें अपने बच्चों से मिला नहीं दिया जाता है। जज ने अधिकारियों को बिछड़े परिवारों को मिलाने के लिए सात दिनों का और समय दे दिया है।
ये था मामला
बता दें कि कुछ हफ्ते पहले 2,000 से अधिक बच्चों को उनके माता-पिता से दूर कर उन्हें सरकारी आश्रयों में रखा गया। दरअसल, मई की शुरुआत में अटर्नि जनरल जेफ सेशन ने अमेरिकी बॉर्डर पर आव्रजन नीति लागू करते हुए ऐलान किया था कि जो भी मेक्सिको की तरफ से बॉर्डर पार करेगा, उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा चाहे वो शरण ही क्यों न चाह रहा हो। तब से कई लोगों को हिरासत में लेकर उन्हें अपने बच्चों से अलग कर दिया गया है।

अमेरिका : बॉर्डर पर बिछड़े 58 अप्रवासी बच्चों को दोबारा उनके माता पिता से मिलाया गया

अमेरिका में 100 भारतीय हिरासत में, गैरकानूनी तरीके से देश में घुसने का आरोप


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.