बर्ड फ्लू के डर से पहरे में 11 हजार प्रवासी प¨रदे

2014-12-23T07:01:31+05:30

-मुख्य सचिव के निर्देश के बाद प¨रंदों की सुरक्षा और पुख्ता

-चंडीगढ़ में बर्ड फ्लू की पुष्टि के कारण यहां डेली मॉनिट¨रग

-41 प्रजातियों के 11 हजार पक्षियों से आसन झील गुलजार

VIKASHNAGAR (JNN) : देश के पहले कंजर्वेशन रिजर्व आसन वेटलैंड में उत्तराखंड के मेहमान बने ब्क् प्रजातियों के प¨रदों की सुरक्षा और बढ़ा दी गई है। मुख्य सचिव एन रविशंकर के निर्देश के बाद डीएफओ ने सुरक्षा व्यवस्था और पुख्ता की। दिन व रात में समय बदल बदल कर कई राउंड गश्त कराई जाने लगी है। चंडीगढ़ की सुखना झील में बर्ड फ्लू की पुष्टि के कारण आसन में रेंजर जवाहर सिंह तोमर डेली मॉनिट¨रग कर रहे हैं, ताकि बर्ड फ्लू के लक्षण दिखने पर तुरंत रोकथाम के कदम उठाए जा सकें।

प्रमुख सचिव ने किया था दौरा

बताते चलें कि रविवार को मुख्य सचिव ने आसन वेटलैंड का दौरा कर प्रवासी प¨रदों को निहारा था और सुरक्षा और पुख्ता करने के निर्देश डीएफओ को दिए थे, जिसके चलते डीएफओ डा। दिवाकर सिन्हा ने प्रवासी प¨रदों की सुरक्षा को तीस ट्रेनीज वन कर्मियों को लगाने के साथ ही रेंजर जवाहर सिंह तोमर व वन बीट अधिकारी प्रदीप सक्सेना को समय बदल-बदल कर रात दिन की गश्त कराने को कहा, ताकि शिकारियों से प्रवासी प¨रदों की सुरक्षा के साथ ही बर्ड फ्लू का लक्षण दिखने पर तुरंत पता चल सके। इसके लिए रोजाना मॉनीट¨रग भी शुरू कर दी गई है। आजकल करीब क्क् हजार प्रवासी परिंदे आसन झील में मेहमान बन चुके हैं।

सोने से दमकते हैं सुर्खाब के पंख

प¨रदों में सबसे ज्यादा संख्या रुडी शेलडक यानि सुर्खाब की है, जो अपने सोने से दमकते पंखों के कारण पक्षी प्रेमियों को लुभाता है। आसन नमभूमि क्षेत्र में अक्टूबर से मार्च माह तक प्रवास करने वाले पक्षियों की अभी तक ब्क् प्रजातियां ही आई हैं, ठंड बढ़ने के साथ ही कुछ नई प्रजातियों के पक्षियों के आने की उम्मीद जतायी जा रही है। पक्षियों के कलरव से झील गुंजायमान है। वर्तमान में पर्यटक जीएमवीएन के आसन पर्यटन स्थल पर बो¨टग के साथ ही बर्ड वॉ¨चग का भी आनंद भी उठा रहे हैं। डीएफओ का कहना है कि जनवरी माह में विशेषज्ञों से प्रवासी प¨रदों की विधिवत गणना कराई जाएगी। फिलहाल चकराता वन प्रभाग स्तर पर लोकल गणना चल रही है।

----------------

आसन वेटलैंड में पहुंचे पक्षी

पिनटेल्स, लिटिल ग्रेबी, इंडियन ग्रे हॉर्नबिल, कामन ¨कगफिशर, पाइड ¨कगफिशर, व्हाइट थ्रोटेड ¨कगफिशर, कामन मोरहेन, लिटिल कोरमोरेंट, इंडियन कोरमोरेंट, ग्रेट कोरमोरेंट, पर्पल स्वैप हेन, रीवर लैप¨वग, रेटल लैप ¨वग, फ्लाश फिश ईगल, डारटर, ग्रेट क्रेस्टेड ग्रेबी, पाइड अवोकेट, ब्लैक आईबीज, वूली नेक्टड स्टार्क, डुरंगो, इंडियन पांड हेरोन, लिटिल पांड हेरोन, फलाश गुल, रुडी शेलडक यानि सुर्खाब, मैलार्ड, कामन पोचार्ड, नार्दन शावलर, स्पाट बिल डक, ग्रे लेग गूज, बार हेडेड गूज, इरोशियन विजन, कॉमनटील, टफट डक आदि ब्क् प्रजातियां आ चुकी हैं।

ख्ख् वीकेएस-

inextlive from Dehradun News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.