पतिपत्नी के बीच है कलह या पारिवारिक सदस्यों में है मनमुटाव अपनाएं ये आसान उपाय

2018-10-09T02:05:21+05:30

यदि पारिवारिक वातावरण अच्छा नहीं है परिवार के सदस्यों में मनभेद है कलह है तो व्यक्ति हमेशा मानसिक रूप से आशान्त ही रहेगा पारिवारिक सुख के आभाव में उसका हर सुख अधूरा ही रहेगा। आज हम आपको यहां पर कुछ ऐसे महत्वपूर्ण उपाय बता रहे हैं जिनका पालन करके आपके परिवार में फिर से खुशियां आ जाएंगी।

संसार में हर व्यक्ति चाहता है कि उसका दाम्पत्य जीवन बहुत ही सफल हो, पति—पत्नी के मध्य बहुत ही मधुर सम्बन्ध बने रहें और हर मनुष्य के घर में उस परिवार के सभी सदस्यों के बीच प्रेम रहे। लेकिन इसके बावजूद कुछ ऐसे मतभेद हो जाते हैं, जिससे पारिवारिक कलह उत्पन्न हो जाती है।

यदि पारिवारिक वातावरण अच्छा नहीं है, परिवार के सदस्यों में मनभेद है, कलह है तो व्यक्ति हमेशा मानसिक रूप से आशान्त ही रहेगा, पारिवारिक सुख के आभाव में उसका हर सुख अधूरा ही रहेगा। आज हम आपको यहां पर कुछ ऐसे महत्वपूर्ण उपाय बता रहे हैं, जिनका पालन करके आपके परिवार में फिर से खुशियां आ जाएंगी।

नमक मिले पानी का पोछा लगवाएं


1. एक मुट्ठी गुड़, एक मुट्ठी नमक, एक मुट्ठी गेहूं, दो तांबे अथवा चांदी के सिक्के डालकर सफेद कपड़े में बांध कर घर में रखें। ऐसा करने से घर में पति-पत्नी या अन्य सदस्यों में बिल्कुल भी लड़ाई—झगड़े नहीं होंगे। इस उपाय को सोमवार, बुधवार, बृहस्पतिवार, शुक्रवार या रविवार को सूर्यास्त से पहले करें।

2. घर में रोज या सप्ताह में एक बार नमक मिले पानी का पोछा अवश्य लगवाएं।

3. यदि घर में पत्नी अपने हाथों में कम से कम 2 सोने की या पीली चूड़ी पहने तो भी दाम्पत्य जीवन में प्रेम और घर में सुख बना रहता है।

4. यदि व्यक्ति सुबह नाश्ते में पत्नी या मां के द्वारा केसर मिश्रित दूध का सेवन करें और काम में जाते समय नियमपूर्वक उनके हाथ से जबान में केसर लगाए और थोड़ी सी चीनी खाए तो घर में सदैव सुख—शांति और आर्थिक समृद्धि बनी रहती है।

गेंहू शनिवार को ही पिसवाएं

5. यदि घर में क्लेश रहता है, घर के सदस्यों में मनभेद रहते हैं तो घर में गेंहू शनिवार को ही पिसवाएं या खरीदें। साथ ही 100 ग्राम पिसे काले चने भी लें, जो उस आटे में मिला दें। जल्द ही स्थिति में सुधार होते हुए देखेंगे।

6. जब भी घर में खाने पीने की कोई वास्तु (मिठाई, फल आदि) आए तो सबसे पहले भगवान को भोग लगाएं फिर घर के बड़े—बुजुर्गो और बच्चों को देकर ही पति—पत्नी उस वस्तु का सेवन करें। यह बहुत ही चमत्कारी और परखा हुआ उपाय है। बुजुर्गो के आशीषों और बच्चों के खुशियों से घर में सर्वत्र हर्ष, शुभता का वातावरण बनेगा और उस घर में कभी भी अन्न और धन की कमी नहीं रहेगी।

7. यदि घर में पति—पत्नी में मतभेद होते हैं तो 11 गोमती चक्रों को लाल रंग की सिंदूर की डिब्बी में रखकर घर में रखें तो उनके बीच संबंध मधुर होते हैं।

जूते-चप्पल रखने का स्थान सुनिश्चित करें


8. यदि परिवार के सदस्यों में आए दिन झगड़े होते हों, परिवार में कलह हो तो परिवार का मुखिया रात्रि को अपने पलंग के नीचे एक लोटा जल रख दे और रविवार को छोड़कर सुबह स्नान, घर की पूजा के बाद "ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नम:" मन्त्र का जाप करते हुए वह जल पीपल को चढ़ाए। इससे परिवार में कलह दूर होती है, घर में प्रेम और शान्ति का वातावरण बनता है।

9. अपने घर में जूते—चप्पल रखने का स्थान सुनिश्चित करें। घर में जूते चप्पल इधर—उधर बिखेरकर या उलटे करके नहीं रखने चाहिए। इससे घर में कलह होती है, घर के मुखिया को मानसिक तनाव बना रहता है।

घर के बाहर श्वेतार्क गणपति का पौधा लगाएं

10. यदि किसी के घर में सदैव कलह बनी रहती हो तो घर के मुख्य द्वार पर बाहर की ओर श्वेतार्क गणपति (सफेद आक के गणेश) का पौधा लगाकर उसकी देखभाल करें। इसे लगाने से घर में सुख-शांति बनी रहेगी।

11. जिस घर में रोटी बनाते समय तवा गर्म होने पर पहले उस पर ठंडे पानी के छींटे डालकर फिर रोटी बनाई जाती है, उस घर से कलेश दूर—दूर रहता है, घर के सदस्यों के मध्य प्रेम भाव बना रहता है ।

12. यदि तमाम प्रयासों के बावजूद भी घर के सदस्यों के मध्य तालमेल का आभाव हो, घर में कलह रहती हो तो घर में निश्चित ही टूटा बर्तन, टूटा काँच/शीशी, पुराना टूटा जंग खाया अनुपयोगी लोहा आदि होगा, उसे शीघ्र ही घर से बाहर करें, घर के सदस्यों के आपसी सम्बन्धों में सुधार होने लगेगा।

-ज्‍योतिषाचार्य पंडित श्रीपति त्रिपाठी

रत्नों से चमक सकती है आपकी किस्मत, जानें आपकी राशि के लिए कौन सा रत्न है लकी

भूलकर भी शनिवार को ना करें ये 9 काम, झाड़ू खरीदने से आती है दरिद्रता

 



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.