13 दिसंबर का क्रिकेट इतिहास रोहित ने अपनाया था विराट अवतार तो कोहली पहला टेस्ट हारकर हुए थे शर्मसार

2018-12-13T08:15:03+05:30

13 दिसंबर का दिन भारतीय क्रिकेट इतिहास के लिए खुशी और गम दोनों के लिए याद किया जाता है। इसी दिन 2014 में जहां विराट कोहली को बतौर कप्तान अपने पहले टेस्ट में हार मिली थी। तो वहीं 2017 में आज के दिन रोहित शर्मा वनडे में तीन दोहरा शतक जड़ने वाले पहले और इकलौते बल्लेबाज बने। आइए पढ़ें दोनों मैचों की कहानी

कानपुर। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और उप कप्तान रोहित शर्मा के लिए 13 दिसंबर का दिन कभी नहीं भूलने वाला है। विराट के लिए यह दिन जहां शर्मसार करने वाला था वहीं रोहित का इस दिन 'विराट' अवतार हुआ था। दरअसल 13 दिसंबर 2017 को रोहित ने वनडे क्रिकेट की तीसरी डबल सेंचुरी जड़ी थी। इसी के साथ रोहित वनडे क्रिकेट इतिहास में तीन दोहरा शतक लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज बन गए।

मैदान पर दिखा रोहित का 'विराट' अवतार

यह मैच श्रीलंका के खिलाफ चंडीगढ़ में खेला गया था और टीम के कप्तान रोहित शर्मा ही थे। श्रीलंका ने टाॅस जीतकर भारत को बैटिंग का न्यौता दिया। भारत की तरफ से शिखर धवन और रोहित शर्मा ओपनिंग में आए। धवन तो 68 रन बनाकर आउट हो गए मगर हिटमैन रोहित अंत तक क्रीज पर डटे रहे। रोहित ने पूरे 50 ओवर बैटिंग की। इस पारी में रोहित ने 153 गेंदों में नाबाद 208 रन बनाए, जिसमें 13 चौके और 12 छक्के शामिल थे। रोहित की इस रिकाॅर्ड तोड़ पारी की बदौलत भारत ने श्रीलंका को जीत के लिए 393 रन का लक्ष्य दिया। श्रीलंकाई टीम आठ विकेट के नुकसान पर 251 रन ही बना सकी और भारत यह मैच 141 रन से जीत गया। ऐसे में रोहित शर्मा के लिए यह दिन काफी यादगार बना।
पहले मैच में कोहली को मिली हार
13 दिसंबर का दिन रोहित शर्मा के लिए जहां बेहद खास है वहीं उनके कप्तान विराट कोहली के लिए भुलाने वाला दिन है। दरअसल इसी दिन विराट कोहली को बतौर टेस्ट कप्तान पहले मैच में हार का मुंह देखना पड़ा था। क्रिकइन्फो पर मौजूद डेटा के मुताबिक, भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच 9 से 13 दिसंबर के बीच बाॅर्डर-गावस्कर ट्राॅफी का पहला मैच खेला गया था। इस टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लाॅर्क ने टाॅस जीतकर पहले बैटिंग का निर्णय लिया। कंगारुओं ने पहली पारी में 517 रन बनाए। जवाब में भारत ने पहली पारी में 444 रनों का स्कोर खड़ा किया। इसमें सबसे ज्यादा 115 रन विराट कोहली के बल्ले से निकले। फिर ऑस्ट्रेलिया ने दूसरी पारी में 290 रन पर घोषित कर दी। अब भारत को आखिरी इनिंग में जीत के लिए 364 रन चाहिए थे। इस बार फिर विराट कोहली के बल्ले से शतक निकला। कोहली दूसरी पारी में 141 रन बनाकर आउट हुए हालांकि वह टीम को जीत तो नहीं दिला पाए मगर अपने नाम कए अनोखा रिकाॅर्ड जरूर दर्ज करा दिया।
ऐसा है विराट का कप्तानी रिकाॅर्ड
इस मैच में विराट ने दोनों पारियों में शतक लगाया था। इसी के साथ विराट पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर ग्रेग चैपल के बाद बतौर कप्तान पहले टेस्ट की दोनों पारियों में शतक लगाने वाले दूसरे बल्लेबाज बन गए थे। हालांकि उनके इस रिकाॅर्ड की खुशी तब दोगुनी हो जाती जब वह भारत को मैच जिता देते। विराट ने अब तक 43 टेस्ट मैचों में कप्तानी की जिसमें उन्हें 25 मैचों में जीत मिली। विराट को बतौर कप्तान टेस्ट में पहली जीत 2015 में श्रीलंका के खिलाफ मिली थी। हालांकि अपनी कप्तानी में विराट ने 63.73 की औसत से 4270 रन बनाए। इसमें 17 शतक और 9 अर्धशतक भी शामिल हैं। इस दौरान उनके बल्ले से छह दोहरे शतक भी निकले।
पहली बार इस मैदान पर खेलेंगे भारत-ऑस्ट्रेलिया, बाहर से बनकर आती है यहां की पिच
भारत को हराने के लिए सामने आया रिटायर हो चुका ये ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.