300 असिस्टेंट प्रोफेसर्स के प्रोमोशन का रास्ता साफ

2018-09-11T10:25:57+05:30

वर्ष 2013 तक ओरिएंटेशन व रिफ्रेशर कोर्स करने वाले राज्य के सभी शिक्षकों को असिस्टेंड प्रोफेसर से एसोसिएट प्रोफेसर के रूप में प्रोन्नति दी जाएगी

ranchi@inext.co.in
RANCHI: वर्ष 2013 तक ओरिएंटेशन व रिफ्रेशर कोर्स करने वाले राज्य के सभी शिक्षकों को असिस्टेंड प्रोफेसर से एसोसिएट प्रोफेसर के रूप में प्रोन्नति दी जाएगी. इसकी स्वीकृति उच्च शिक्षा निदेशालय ने शुक्रवार को दे दी है. प्रोन्नत्ति की स्वीकृति के बाद ऐसे असिस्टेंड प्रोफेसर जिनकी नियुक्ति 1993 और 1996 में हुई है और 2013 में ओरिएंटेशन और रिफ्रेशर कोर्स कर चुके हैं वैसे 300 प्रोफेसर लाभान्वित होंगे. इससे कांस्टीट्यूएंट कॉलेजों के प्रोफेसरों को फायदा होगा. साथ ही उनके वेतनमान में भी वृद्धि होगी. बता दें कि हाइकोर्ट के निर्देश पर उच्च शिक्षा एवं तकनीकी विभाग द्वारा कमिटी गठित की गई थी, जिसकी रिपोर्ट पर निदेशालय ने प्रोमोशन को मंजूरी दी है.

यूजीसी रेग्यूलेशन होगा आधार
राज्य के शिक्षकों को यूजीसी रेग्यूलेशन 2008 के अनुसार प्रोमोशन दिया जाएगा. यूजीसी रेग्यूलेशन के अनुसार प्रोन्नति के लिए समय समय पर गाइडलाईन जारी की जाती है. पीएचडी की अर्हता रखने वाले शिक्षक को नियुक्ति के चार वर्ष बाद भी सीनियर लेक्चरर और इसके पांच वर्ष बाद एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर प्रोन्नत्ति देने का प्रावधान है. वहीं जिन शिक्षकों की नियुक्ति के समय एमफिल की अर्हता थी, ऐसे शिक्षकों को नियुक्ति के पांच वर्ष बाद सीनियर लेक्चरर और इसके पांच वर्ष बाद एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर प्रोन्नत्ति देने का लाभ मिलेगा. इसी प्रकार नियुक्ति के समय सिर्फ पीजी की अर्हता रखने वाले शिक्षकों को छह वर्ष में सीनियर लेक्चरर और इसके पावं वर्ष बाद एसोसिएट प्रोफेसर पद में प्रमोशन मिलेगा.


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.