रूस में हवाई अड्डे पर उतरा जलता हुआ विमान दो बच्चों समेत 41 लोगों की मौत

2019-05-06T03:34:22+05:30

रूस के मॉस्को हवाई अड्डे पर एक इमरजेंसी लैंडिंग के दौरान एक विमान में भीषण आग लग गई। इस हादसे में दो बच्चों सहित कम से कम 41 लोग मारे गए हैं।

मॉस्को (आईएएनएस)। रूस के मॉस्को हवाई अड्डे पर एक इमरजेंसी लैंडिंग के दौरान एक यात्री विमान में भीषण आग लग गई। इस हादसे में दो बच्चों सहित कम से कम 41 लोग लोगों की मौत हो गई है। एयरोफ्लोट फ्लाइट एसयू 1492 ने रविवार को मुरमान्स्क एयरपोर्ट से उड़ान भरा और उसके कुछ ही देर बाद प्लेन के पिछले हिस्से में आग लग गई और उसमें से काला धुआं निकलने लगा। सोशल मीडिया पर जारी वीडियो में यात्रियों को जलते हुए विमान से बचने के लिए आपातकालीन एग्जिट स्लाइड का उपयोग करते हुए दिखाया गया है। विमान में 73 यात्री और पांच क्रू सदस्य थे। मृतकों में दो बच्चे और एक फ्लाइट अटेंडेंट शामिल थे। एक गवाह ने कहा कि अगर कोई उस जलते हुए विमान में बच गया है तो यह एक चमत्कार है।

पायलट ने खोया संपर्क
बता दें कि सुपरजेट 100 विमान मॉस्को के शेरेमेयेवो हवाई अड्डे से मुरमान्स्क के लिए उड़ान भर रहा था लेकिन इसी बीच उसमें खराबी आ गई, जिसके चलते उसकी इमरजेंसी लैंडिंग करानी पड़ी। हवाई अड्डे पर एक आपातकालीन लैंडिंग करने के बाद, विमान के इंजन में रनवे पर आग लग गई, एयरोफ्लोट ने बताया कि चालक दल ने यात्रियों को बचाने के लिए सब कुछ किया। रूसी समाचार एजेंसी इंटरफैक्स ने बताया कि विमान ने फुल फ्यूल टैंक के साथ उतरा क्योंकि चालक दल ने हवाई यातायात नियंत्रकों के साथ संपर्क खो दिया था। अब तक मिली जानकारी के अनुसार, 37 लोग इस हादसे के बाद बच गए हैं।
किम पुतिन समिट : ट्रेन से रूस पहुंचे किम जोंग, कोरियाई प्रायद्वीप और द्विपक्षीय संबंधो पर करेंगे बात

पीड़ितों को मिलेगा मुआवजा

कुछ यात्रियों ने इस घटना के लिए खराब मौसम को जिम्मेदार ठहराया है। हालांकि, फिलहाल इस हादसे का मुख्य कारण पता नहीं चल पाया है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को दुर्घटना के बारे में जानकारी दी गई है और उन्होंने पीड़ितों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की है, जबकि प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव ने इस घटना की जांच के लिए एक विशेष समिति का आदेश दिया है। मरमांस्क के कार्यवाहक गवर्नर एंड्री चिबिस ने कहा कि इस हादसे में मारे गए प्रत्येक लोगों के परिवारों को एक मिलियन रूबल ($ 15,300) दिया जायेगा, जबकि अस्पताल में इलाज करा रहे पीड़ितों को 500,000 रूबल (7,650 डॉलर) मिलेंगे।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.