अमेरिका पहुंचे अजित डोभाल यूएस के विदेश मंत्री और बड़े अधिकारियों से करेंगे मुलाकात

2018-09-14T01:31:17+05:30

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल अमेरिका पहुंच गए हैं। वे यूएस के विदेश मंत्री माइक पोंपियों और वहां के बड़े अधिकारियों से मुलाकात करेंगे।

वाशिंगटन (पीटीआई)। भारत-अमेरिका के बीच नई दिल्ली में पिछले हफ्ते हुई सफल टू प्लस तू वार्ता के बाद भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल अमेरिका पहुंच गए हैं। वे वहां ट्रंप प्रशासन के बड़े अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, डोभाल शुक्रवार को अमेरिका के फौगी बॉटम स्थित विदेश मंत्रालय के हेडक्वाटर में विदेश मंत्री माइक पोंपियो से मिलेंगे। इसके अलावा डोभाल अपने अमेरिकी समकक्ष जॉन बोल्टन और थिंक टैंक कम्युनिटी के बड़े अधिकारियों से भी बातचीत करेंगे।
30 लाख भारतीय रहते हैं अमेरिका में
हालांकि, वाशिंगटन में स्थित भारतीय दूतावास और व्हाइट हाउस ने अभी तक डोभाल की यात्रा और उनकी मीटिंग्स के बारे में खुलकर कुछ नहीं कहा है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नौएर्ट ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि भारत अमेरिका का सबसे खास दोस्त है, दोनों देशों के लोगों के बीच काफी घनिष्ठता है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि अमेरिका में भारत के करीब 30 लाख लोग रहते हैं, इसलिए डोभाल का आना बहुत ही साधारण सी बात है।' बता दें कि ऐसा बयान हीथर ने उस सवाल के जवाब में रूप में दिया, जिसमें उनसे डोभाल की अमेरिकी यात्रा पर सवाल पूछा गया था।   
कई समझौतों पर हुए थे हस्ताक्षर
गौरतलब है कि भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारामण ने पिछले गुरुवार यानी कि 7 सितंबर को नई दिल्ली में 2+2 वार्ता के तहत अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री जैम्स मैटिस से बातचीत की थी। इस बैठक के दौरान दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडल ने ऐतिहासिक संचार संगतता और सुरक्षा समझौते (COMCASA) सहित भारत-अमेरिका संबंधों को गहरा बनाने के लिए कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई। 2+2 वार्ता में भारत के रूस और ईरान से संबंध, आतंकवाद, एच 1 बी वीजा जैसे खास मुद्दों पर बातचीत हुई, दोनों देशों ने COMCASA समझौते पर भी हस्ताक्षर किए। 

भारत में जन्मीं राजलक्ष्मी को अमेरिका में मिलेगा यंग स्कॉलर अवार्ड

हार्वर्ड में पढ़ाई मतलब कामयाबी, 48 नोबेल विजेता और 32 राष्ट्राध्यक्ष रहे हैं यहां के स्टूडेंट


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.