फेनी तूफान से निपटने की तैयारी पूरी ओडिशा में 8 लाख लोग भेजे जा रहे सुरक्षित स्थान पर

2019-05-02T16:07:56+05:30

चक्रवाती तूफान फेनी के 3 मई को ओडिशा में टकराने की आशंका है। इस दाैरान 180 किलोमीटर घंटे की रफ्तार से हवा चलेंगी और भूस्खलन की आशंका है। ऐसे में यहां सुरक्षा व्यवस्था कड़ी करने के साथ राहत व बचाव के खास इंतजाम किए गए हैं।

नई दिल्ली (पीटीआई)। बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवाती तूफान 'फेनी' को लेकर भारतीय माैसम विभाग के वैज्ञानिकों ने चेतावनी जारी की है। इस तूफान को लेकर सबसे ज्यादा खतरा ओडिशा और आंध्रप्रदेश बना है। 'फेनी' के 3 मई को ओडिशा में टकराने की आशंका है। इस दाैरान 180 किलोमीटर घंटे की रफ्तार से हवा चलेंगी और भूस्खलन की आशंका है। ऐसे में यहां आज से स्कूल आदि बंद हो गए हैं। वहीं न्यूज एजेंसी एएनआई के ट्वीट के मुताबिक राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की टीमें आंध्रप्रदेश के इचाकपुरम व श्रीकाकुलम पहुंच चुकी हैं।
चक्रवाती तूफान फेनी से ये इलाके हो सकते हैं प्रभावित

आईएमडी ने चेतावनी जारी की है कि तूफान तट से टकराते वक्त गंजम, खुर्दा, पुरी और जगतसिंहपुर के निचले इलाकों में 1.5 मीटर की ऊंचाई तक उठ सकता है। इस दाैरान भूस्खलन व तटीय इलाकों में पानी भरने की आशंका है। ओडिशा के गंजम, गजपति, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, भद्रक, जाजपुर और बालासोर जैसे तटीय जिलों में फेनी का असर पड़ेगा। वहीं पश्चिम बंगाल के पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर, दक्षिण और उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली और कोलकाता जिलों में भी इसका काफी असर होगा। इसके अलावा आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम्, विजयनगरम् और विशाखापत्तनम जिले प्रभावित होने की संभावना है।

फेनी तूफान की वजह से ओडिशा में 900 सेल्टर बने

फेनी तूफान को लेकर ओडिशा सरकार ने युद्ध स्तर पर इंतजाम किए हैं। यहां करीब 900 सेल्टर की व्यवस्था की है। इसके अलावा आपातकालीन भोजन वितरण के लिए दो हेलीकॉप्टरों की तैनाती की मांग की है। ऐसे में कैबिनेट सचिव ने रक्षा मंत्रालय को निर्देश दिया है कि ओडिशा सरकार की आवश्यकताओं को पूरा किए जाए। इसके अलावा फेनी विकराल रूप को देखते हुए भारतीय सेना और नौसेना को अलर्ट पर रखी गई हैं। तीनों ही सेनाओं की राहत टीमें बनाई गई हैं। एनडीआरएफ और भारतीय तटरक्षक बल को हाई अलर्ट पर हैं। वहीं नौसेना के जहाज अतिरिक्त गोताखोरों, डॉक्टरों, रबड़ की नौकाओं और राहत सामग्री के साथ तैयार खड़ें हैं।
माैसम : करीब 200 किमी की रफ्तार से टकराएगा फेनी तूफान, अगले आदेश तक ओडिशा में स्कूल-काॅलेज बंद
फेनी इफेक्ट : उत्तराखंड में आंधी व ओले गिरने के आसार, अलर्ट जारी
8 लाख लोगों को सुरक्षित स्थान में पहुंचाने का लक्ष्य
ओडिशा के चीफ मिनिस्टर ने बताया कि तटीय और निचले इलाकों में रहने वाले करीब 8 लाख लोगों को गुरुवार शाम तक सुरक्षित स्थान में पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। प्रशासन को निर्देश दिया है कि संवेदनशील क्षेत्रों से 100 प्रतिशत लोगों की निकासी सुनिश्चित की जाए। फेनी की वजह से मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी गई है। वहीं रेलवे ने 81 ट्रेनों को रद्द कर दिया है। भारतीय नौसेना, भारतीय तटरक्षक बल और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 78 टीमों को तैनाती के लिए बुलाया गया है। एनडीआरएफ ने आंध्र प्रदेश में 12, ओडिशा में 28 और पश्चिम बंगाल में छह टीमों को तैनात किया है। इसके साथ ही 32 टीमें नावों, पेड़ काटने वाले यंत्रों और दूरसंचार उपकरणों के साथ किसी भी स्थिति से निपटने के लिए स्टेंडबाय है।



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.