फंस गया इविवि में शिक्षक भर्ती का ऑनलाइन आवेदन

2019-03-26T06:00:17+05:30

- प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर एवं असिस्टेंट प्रोफेसर के खाली पदों पर होनी है भर्ती

इतनी हैं भर्तियां

66 प्रोफेसर

166 एसोसिएट प्रोफेसर

336 असिस्टेंट प्रोफेसर

(इविवि के विभिन्न विभागों और केन्द्रों में)

18 मार्च से होनी थी शुरुआत

- 08 मार्च को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार की ओर से संक्षिप्त विज्ञापन जारी किया गया था।

- 18 मार्च से विस्तृत विज्ञापन और आवेदन फॉर्म यूनिवर्सिटी के ऑफिशियल वेबसाइट www.allduniv.ac.in तथा pariksha.up.nic.in पर देखने व भरने की सूचना थी.

- 16 अप्रैल बताई गई थी आवेदन की अंतिम तिथि.

05 अप्रैल से शुरू हो सकेगी आवेदन की प्रक्रिया यूनिवर्सिटी की नई सूचना के मुताबिक.

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की शिक्षक भर्ती से अड़चनें हटने का नाम नहीं ले रही। कई तरह के विवाद और हंगामें से होकर गुजरी शिक्षक भर्ती को लेकर एक के बाद एक पेंच फंस रहा है। नया मामला शिक्षक भर्ती के ऑनलाइन आवेदन न शुरू हो पाने का है। इससे इंतजार में बैठे योग्यताधारी भावी शिक्षकों में गहरी नाराजगी देखने को मिल रही है।

दोबारा मांगा गया था आवेदन

कहा गया था कि यह नियुक्तियां एमएचआरडी और यूजीसी के निर्देशों के अधीन होंगी। वहीं अब समय बीत चुका है। लेकिन विस्तृत विज्ञापन तथा ऑनलाइन आवेदन का कुछ अता पता नहीं है। विश्वविद्यालय की ओर जारी नई सूचना में कह दिया गया है कि अब आवेदन की प्रक्रिया 05 अप्रैल से शुरु हो सकेगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद देशभर में ओबीसी, एससी और एसटी के आरक्षण रोस्टर को लेकर विवाद खड़ा हो गया था। इसके बाद केन्द्र सरकार को आरक्षित वर्ग के लिए नया अध्यादेश लाना पड़ा। इसके चलते विवि प्रशासन को भी शिक्षक भर्ती के लिए दोबारा से आवेदन मांगना पड़ा।

बता रहे स्पष्ट गाइडलाइन का है इंतजार

इस बीच केन्द्र सरकार ने सवर्ण वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर तबके (ईडब्ल्यूएस) के लिए 10 फीसदी आरक्षण का भी अध्यादेश पास कर दिया। जानकारों का कहना है कि पेंच 10 फीसदी आरक्षण को भर्ती में लागू किए जाने को लेकर ही फंसा है। इसे कैसे लागू किया जाए? इसको लेकर एमएचआरडी की ओर से कोई लिखित में आदेश विवि को नहीं भेजा गया है। इसी वजह से विवि प्रशासन को ऑनलाइन आवेदन अभी टालना पड़ा है। बताया जा रहा है कि विवि प्रशासन को स्पष्ट गाइडलाइन का इंतजार है। उधर, विवि में कुछ शिक्षकों का कहना है कि चुनाव आचार संहिता और चुनावी माहौल को देखते हुए लगता नहीं कि भर्ती प्रक्रिया इतनी जल्दी शुरु हो पाएगी।

इस समय विवि में कई महत्वपूर्ण काम चल रहे हैं। जिस वजह से आवेदन को टालना पड़ा है। जहां तक 10 फीसदी रिजर्वेशन को लागू किए जाने का सवाल है। इसके बारे में मैं 30 मार्च के बाद ही कुछ कह सकूंगा।

प्रो। अनुपम दीक्षित, डायरेक्टर फैकेल्टी रिक्रूटमेंट

inextlive from Allahabad News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.