अल्‍लाह के 99 नामों में से कोई नहीं जुड़ा हिंसा से मोदी

2016-03-18T09:13:00+05:30

विश्‍व सूफी फोरम के उद्घाटन के अवसर पर दिल्‍ली के विज्ञान भवन में बोलते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूफी मत और इस्‍लाम के महत्‍व से जूड़ी कई बातों का जिक्र करते हुए कहा कि अल्‍लाह के 99 नाम हैं पर उसमें से कोई भी हिंसा का पर्याय नहीं है।

आतंकवाद से लड़ना धर्म विरोधी नहीं
'व‌र्ल्ड सूफी फोरम' का उद्घाटन करते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद की बढ़ती समस्या के बीच सूफी विचार और महत्वपूर्ण होता जा रहा है। उन्होंने इसे इस्लाम की सबसे अहम देन में से एक बताया। साथ ही कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के खिलाफ नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि 'सबका साथ, सबका विकास' का जो नारा उन्होंने दिया है, उसके पीछे सूफी विचार ही है। दिल्ली का विज्ञान भवन गुरुवार को 'व‌र्ल्ड सूफी फोरम' के मौके पर विभिन्न संस्कृतियों का समागम बन गया। शांति और भाईचारे के नारे को आगे बढ़ाने के लिए दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से सूफी विचार को मानने वाले यहां आ जुटे थे। तीन दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस्लाम, कुरान और सूफी विद्वानों के हवाले से जो बातें कहीं, उसे सुनकर वहां मौजूद दुनियाभर के सूफी नेता, धर्मगुरु और विद्वानों ने खड़े होकर उनका जोरदार अभिनंदन किया।
सूफी का अर्थ ही है शांति
20 देशों से यहां पहुंचे अंतरराष्ट्रीय समुदाय का 'शांति की धरती पर स्वागत' करते हुए मोदी ने कहा, 'सूफी विचार आधारभूत रूप से आतंकवाद का विरोधी है। इस्लाम का शाब्दिक अर्थ ही है शांति। आज के समय में सूफीवाद का संदेश खास तौर पर अहम हो गया है क्योंकि आतंकवाद वर्तमान समय का सबसे बड़ा दु:स्वप्न बन गया है। आतंकवाद हमें बांटता है और हमें नष्ट करता है। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई किसी धर्म के खिलाफ नहीं है। आतंकवाद तरह-तरह से लोगों को उकसाने की कोशिश करता है और कारण बताता है, जिनमें से किसी को सही नहीं बताया जा सकता। मानवीयता के मूल्यों और अमानवीयता की ताकतों के बीच संघर्ष में सूफी विचार बेहद अहम भूमिका निभा सकता है।'
अल्‍लाह है प्‍यार का प्रतीक
आल इंडिया उलेमा एंड मशाइख बोर्ड (एआइयूएमबी) की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में मोदी ने कहा, 'सूफी का संदेश वैश्विक है। यह सभी को एक मानता है और किसी में भेदभाव नहीं करता।' उन्होंने कहा कि जब हम अल्लाह के 99 नामों के बारे में सोचते हैं, कोई भी हिंसा से जुड़ा नहीं है। पहले दो नाम करुणा और दया के प्रतीक हैं। अल्लाह रहमान और रहीम हैं। मोदी ने कहा कि सूफी विचार इस्लाम के दुनिया के सबसे अहम योगदान में से एक है। अफ्रीका से लेकर दक्षिण और मध्य एशिया तक, ईरान से लेकर भारत तक इसने सभ्यताओं के विकास में अहम योगदान किया है। यह कहता है कि अगर हम ईश्वर को प्यार करते हैं तो हमें उनके बनाए सभी लोगों से भी प्यार करना चाहिए। हजरत निजामुद्दीन औलिया और बुल्ले शाह ने यही संदेश दिया है कि ईश्वर सभी के दिल में रहता है। मोदी ने कहा कि सूफी विचार भारत में इस्लाम का चेहरा बन गया। भारतीय संगीत और कविता के विकास में इसका महत्व अद्भुत है। जिस तरह आतंकवाद की पहुंच लगातार बढ़ रही है, उस समय अमीर खुसरो ने जिस दुनिया की बात की थी, वह आज बहुत अहम हो गई है।
दुनिया में आतंकवाद के बढ़ते खतरे के बारे में मोदी ने कहा कि पिछले साल (2015) में ही 90 से ज्यादा देशों में आतंकवादी हमले हुए। सौ देशों में मां-बाप सीरिया में मारे गए बच्चों के दर्द के साथ सोते हैं। जो धर्म के नाम पर हिंसा कर रहे हैं, वे धर्म विरोधी हैं। विविधता प्रकृति की मूल वास्तविकता है।

inextlive from India News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.