बंद का मिलाजुला रहा असर

2018-09-11T06:00:59+05:30

JAMSHEDPUR: पेट्रोल व डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आहूत विपक्षी दलों के बंद का जमशेदपुर शहर में आंशिक असर रहा। शहरी इलाके की अधिकतर दुकानें खुली रहीं। शहर से सटे ग्रामीण इलाके में किसी- किसी जगह लोगों ने दुकानों को एहतियातन बंद रखा। वहीं शहर की सड़क परिवहन पर भी बंद का व्यापक असर नहीं दिखा, लेकिन आम दिनों के मुकाबले भीड़ व चहल- पहल थोड़ी कम रही। पूरे जिले में कोई ¨हसक या उपद्रव की घटना भी सामने नहीं आई। बंद समर्थक औपचारिकता निभाने के लिए सड़कों पर उतरे और पहले से खड़ी पुलिस के साथ वे गिरफ्तार होकर कैंप जेल चले गए।

पूर्वी सिंहभूम जिले के 23 थानों में बंद के दौरान कुल 831 बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया। शाम को उन्हें छोड़ भी दिया गया। जमशेदपुर में बंदियों को टेल्को स्थित सबुज कल्याण संघ में बनाए गए कैंप जेल में रखा गया था। बताते चलें कि जिले के अन्य 14 थाना क्षेत्र ऐसे रहे, जहां बंद समर्थक निकले ही नहीं, इस कारण इन 14 थानों में एक भी गिरफ्तारी दर्ज नहीं की गई.

जायजा लेते रहे डीसी- एसएसपी

बंद के दौरान उपायुक्त (डीसी) अमित कुमार, एसएसपी अनूप बिरथरे, सिटी एसपी प्रभात कुमार समेत अन्य प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी सड़क पर खुद जायजा लेते रहे। सुबह- सबुह ही डीसी एसएसपी ने पुलिस कंट्रोल रूम जाकर शहर भर में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज देखे। इसके पश्चात अलग- अलग स्थानों पर तैनात जवानों को आवश्यक दिशा- निर्देश दिए।

डॉ। अजय व बन्ना ने संभाला मोर्चा

पेट्रोल- डीजल के दाम बढ़ने के खिलाफ आहूत भारत बंद को सफल बनाने के लिए लौहनगरी में कांग्रेसियों ने मोर्चा संभाले रखा। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सह पूर्व सांसद डॉ। अजय कुमार खुद बिष्टुपुर में कार्यकर्ताओं के साथ बंद कराते रहे। उनके नेतृत्व में कांग्रेसियों ने बिष्टुपुर बाजार बंद कराया। बंद कराने निकले सभी कांग्रेसियों को बिष्टुपुर में ही पुलिस ने हिरासत में ले लिया। गिरफ्तार होने वालों में डॉ। अजय के साथ जिलाध्यक्ष विजय खां, रवींद्र कुमार झा, फिरोज खान, परितोष सिंह, अपर्णा गुहा, अखिलेश सिंह यादव, धर्मेंद्र प्रसाद, प्रिंस सिंह, संजीव रंजन, मौलाना अंसार खान, ऊषा सिंह, शिखा चौधरी, राहुल गोस्वामी, अफ्ताब खान शामिल थे। वहीं बन्ना गुप्ता ने बंद के समर्थन में कदमा बाजार में पदयात्रा करने के बाद आदित्यपुर में दुकानों को बंद कराया। इसी दौरान पुलिस ने उन्हें समर्थकों के साथ हिरासत में ले लिया। पदयात्रा के दौरान उनके साथ मनोज झा, शहजाद खान, प्रभात ठाकुर, बबूआ झा, राकेश जायसवाल, प्रकार बरूआ, रवि दुबे, संजय तिवारी, जेपी साहू समेत कई कार्यकर्ता शामिल थे.

जिले में बंद पूरी तरह बेअसर रहा। बंद के दौरान किसी प्रकार की कोई आगजनी या तोड़फोड़ की कोई घटना नहीं हुई। बंद के दौरान जिले के विभिन्न स्थानों पर पुलिस जवानों के साथ ही दंडाधिकारियों को तौनात किया गया था। पूर्वी सिंहभूम एक मात्र जिला रहा जहां बंद के दौरान रैफ की तैनाती की गई थी। जिला पुलिस प्रशासन द्वारा बंद समर्थकों पर निगरानी के लिए ड्रोन का भी इस्तेमाल किया गया।

अमित कुमार, डीसी, जमशेदपुर

बंद के मद्देनजर रैपिड एक्शन पुलिस (रैप) समेत जिला पुलिस के 3000 से अधिक जवान चप्पे- चप्पे पर तैनात किए गए थे। फोर्स को अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों से भी लैस किया गया था। बंद के दौरान जिला पूरी तरह शांत व ¨हसा मुक्त रहा। बंद समर्थकों की सर्वाधिक गिरफ्तारी (118 लोग) बहरागोड़ा थाना से की गई तो सबसे कम (दो लोग) कमलपुर थाने से गिरफ्तार किए गए।

- अनूप बिरथरे, एसएसपी, जमशेदपुर

पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस के मूल्य में बेतहासा वृद्धि से आम जनता परेशान है। व्यवसायी कराह रहे हैं। आटो वैन चालक, ट्रक, बस व बड़े वाहन मालिक भी त्राहिमाम कर रहे हैं। बेरोजगार नौजवानों को नौकरी नही मिलने से बेकारी का समस्या बढ़ रही है। हम मांग करते हैं कि पेट्रोलियम पदार्थो के दामों को सरकार अविलंब कम करे।

डॉ अजय कुमार, प्रदेश अध्यक्ष, कांग्रेस पार्टी (झारखंड)

inextlive from Jamshedpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.