तीन मिनट की देरी से बच गई बांग्लादेशी क्रिकेटरों की जान

2019-03-16T11:46:31+05:30

न्यूजीलैंड की मस्जिद में शुक्रवार को हुए हमले में बांग्लादेशी क्रिकेटर बालबाल बच गए। इस घटना के बाद टीम मैनेजर खालिद मसूद ने बताया कि उनकी टीम अगर तीन मिनट पहले मस्जिद पहुंच जाती तो खिलाड़ियों की जान भी जा सकती थी।

क्राइस्टचर्च (पीटीआई)। न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में शुक्रवार को मस्जिद में हुए हमले से पूरी दुनिया हैरान है। ये हमला उस वक्त हुआ जब न्यूजीलैंड दौरे पर गई बांग्लादेश क्रिकेट टीम मस्जिद जा रही थी। यह तो अच्छा था कि टीम तीन मिनट देरी से वहां पहुंची नहीं तो खिलाड़ियों की जान भी जा सकती थी। इस घटना के बाद बांग्लादेश क्रिकेट टीम के मैनेजर खालिद मसूद ने बताया, 'हम काफी खुशनसीब है। अगर तीन या चार मिनट पहले हम वहां पहुंच जाते तो जाहिर है सभी खिलाड़ी मस्जिद के अंदर होते।'

रद किया गया मैच

बता दें बांग्लादेश और न्यूजीलैंड के बीच तीसरा और आखिरी टेस्ट शनिवार को क्राइस्टचर्च में खेला जाना था। ऐसे में बांग्लादेश क्रिकेट टीम शुक्रवार को ही क्राइस्टचर्च पहुंच गई थी। मगर मस्जिद में हुए हमले में 49 लोगों की जान जाने के बाद बांग्लादेश का यह दौरा भी रद कर दिया गया। बांग्लादेश टीम के मैनेजर मसूद आगे कहते हैं, 'हम इस हमले में नहीं फंसे मगर जो कुछ भी हमने देखा वो किसी फिल्मी सीन से कम नहीं था। खून से लथपथ लोग मस्जिद से बाहर निकल रहे थे। इस हमले से ठीक 10 मिनट पहले हम सभी बस में बैठे थे। इस बस में 17 बांग्लादेशी क्रिकेटर बैठे थे।
डरकर सभी क्रिकेट बैठे एक कमरे में
बांग्लादेशी टीम मैनेजर की मानें तो इस हमले से सभी क्रिकेटर काफी डर गए थे। मसूद आगे कहते हैं, 'बांग्लादेश क्रिकेट टीम को होटल से बाहर नहीं निकलने दिया गया। रात का खाना सबने साथ बैठकर खाया। उस वक्त हर एक खिलाड़ी ने उस खौफनाक मंजर का जिक्र किया जो उन्होंने देखा। सभी काफी डरे थे। डिनर करते ही सभी खिलाड़ियों को एक ही कमरे में रखा गया।'
घर रवाना हुए सभी खिलाड़ी
शनिवार को बांग्लादेश क्रिकेट टीम के सभी खिलाड़ी घर के लिए रवाना हो गए। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने खिलाड़ियों के एयरपोर्ट पहुंचने की फोटो भी शेयर की है।

Bangladesh Team players were snapped at Christchurch Airport before heading back to Dhaka today (Saturday). pic.twitter.com/KvpsimqHCB

— Bangladesh Cricket (@BCBtigers) 16 March 2019


 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.