बवाल किया तो खैर नहीं

2012-06-25T21:25:00+05:30

Kanpur निकाय चुनाव में किसी तरह की कोई गड़बड़ी फैलाने वालों की खैर नहीं पुलिस ने जबरदस्त सिक्योरिटी अरेंजमेंट्स किए हैं इलेक्शन में पहली बार पैरा मिलेट्री फोर्स तैनात की गई है जिससे उपद्रवियों से तुरंत निपटा जा सके


वोटर्स को हिदायत

वोटर्स को साफ हिदायत दी गई है कि मतदान के बाद वो बूथ के इर्द-गिर्द या फिर चौराहों पर खड़े होकर पंचायत करते नजर न आएं। अगर वोटर्स ऐसा करते मिले तो उन्हें हवालात की हवा खानी पड़ेगी। इतना ही नहीं पुलिस ने इलेक्शन को प्रभावित करने वाले 600 हार्डकोर क्रिमिनल्स का खाका तैयार किया है। ऐसे अपराधियों की निगरानी के साथ उनकी वाइफ और गर्लफ्रेंड्स के सीक्रेट फोन नंबर्स भी सर्विलांस पर लगाए गए हैं।
गश्त पर रहेगी फोर्स
 निकाय चुनाव में पहली बार तीन कंपनी पैरा मिलेट्री फोर्स तैनात की गई है। फोर्स की एक-एक टुकड़ी को गश्त के लिए संवेदनशील व अतिसंवेदनशील इलाकों में डिवाइड कर दिया गया है। मतदान केन्द्र पर ड्यूटी के अलावा पैरा मिलेट्री फोर्स पूरे शहर में गश्त करती नजर आएगी। मतदान केन्द्र में 26 जोनल मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस अधिकारी मौजूद रहेंगे।
सीमाएं होंगी सील
सिटी की सीमाओं को सील करने के लिए 24 बैरियर लगेंगे। वहां 2 दरोगा, 2 सिपाही और 2 होमगार्ड की ड्यूटी लगेगी। इसके साथ ही सिटी के संवेदनशील और अतिसंवेदनशील इलाकों में 81 पिकेट ड्यूटी पर रहेगी। बैरियर से गुजरने वालों की सघन तलाशी ली जाएगी।
बूथ के पास तो खैर नहीं
एएसपी अजय कुमार साहनी ने बताया कि वोट देने के बाद कोई भी व्यक्ति अगर बूथ के इर्द-गिर्द घूमता नजर आया तो जेल जाएगा। वोट देने के वोटर्स को सीधे अपने घर जाना चाहिए। घर के बाहर या फिर चौराहे पर पंचायत करते अगर कोई वोटर्स नजर आया तो उसको धारा 144 का उल्लंघन करने के जुर्म में हवालात जाना पड़ेगा।
स्याही मत मिटाना
एएसपी ने बताया कि वोट के बाद अगर मतदाता के नाखूनों में लगी स्याही मिटी नजर आयी तो वो व्यक्ति जेल जाएगा। मतदाता के नाखूनों की स्याही को चेक करने के लिए स्पेशली हर बूथ पर एक सर्वेयर मौजूद रहेगा, जो ये चेक करेगा।
शस्त्र न ले जाना
वोटिंग के दौरान कोई भी वीआईपी या वीवीआईपी बूथ से 200 मीटर दूर ही शस्त्र ले जा सकता है। मतदान केन्द्र के पास शस्त्र ले जाने की परमीशन सिर्फ पुलिस अधिकारियों को ही है। उनके अलावा कोई भी केंद्र के अंदर शस्त्र नहीं ले जा सकता है।
शराब की दुकानें होंगी बंद
इलेक्शन के 48 घंटे पहले ही शराब की दुकानों को बंद कर दिया जाएगा। शराब की दुकानों पर नजर रखने के लिए 21 फ्लाइंड स्क्वॉयड की टीमें पूरे शहर में गश्त करेंगी।
क्रिमिनल्स बिगाड़ सकते हैं माहौल
"अगर वोट डालने के बाद हाथ में लगी स्याही किसी ने मिटाई तो वो जेल जाएगा। गड़बड़ी फैलाने वालों को किसी भी सूरत में छोड़ा नहीं जाएगा."
अजय कुमार साहनी, एएसपी, चुनाव प्रभारी



This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.