भारत बंद 13 प्वाइंट रोस्टर और सवर्णों को 10% रिजर्वेशन के खिलाफ पटना में सड़कों पर उतरे लोग

2019-03-05T12:06:30+05:30

यूनिवर्सिटीज में 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम और सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 परसेंट रिजर्वेशन दिए जाने के विरोध में आज आरजेडी की ओर से आज भारत बंद का अह्वाहन हुआ है। पटना में लोग सड़कों पर धरनाप्रदर्शन कर रहे हैं।

कानपुर। आज राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की ओर से आज भारत बंद का आह्वान किया गया है। आरजेडी ने मोदी सरकार द्वारा यूनिवर्सिटीज में 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम और सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 परसेंट रिजर्वेशन दिए जाने के विरोध में भारत बंद बुलाया है। पटना ब्यूरो के मुताबिक इसकी वजह से बिहार में आज दलित और आदिवासी संगठन मोदी सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरे हैं। लोग जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं।

बीजेपी नौकरियां और आरक्षण समाप्त कर रही

इस संबंध में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने मोदी सरकार व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरएसएस पर भी निशाना साधते हुए ट्वीट किया। तेजस्वी ने लिखा कि जब तक रामविलास पासवान और नीतीश कुमार जैसे नेता आरएसएस के पालने में खेलते रहेंगे तब इतक संविधान की जगह मनुस्मृति मानने वाले लोग दलितों-पिछड़ों के आरक्षण से खिलवाड़ होता रहेगा। बीजेपी नौकरियां और आरक्षण समाप्त कर रही है।

पिछड़ों और आदिवासियों की बारी ही नहीं आएगी

वहीं प्रदर्शन कर रहे लोगों का मानना है मोदी सरकार कि दलितों, पिछड़ों और आदिवासियों को रिजर्वेशन सिस्टम के तहत शिक्षण पदों पर मिलने वाले लाभ को समाप्त करने की तैयारी में है। उच्च शिक्षण संस्थानों की नियुक्तियों में 200 प्वाइंट वाली की जगह 13 प्वाइंट वाली रोस्टर व्यवस्था लागू करना इसका बड़ा उदाहरण है। वहीं पटना ब्यूरो के मुताबिक 13 प्वाइंट रोस्टर सिस्टम के तहत यूनिवर्सिटी में टीचर्स की नियुक्तियां सिलसिलेवार तरीके से होगी।

13 प्वाइंट रोस्टर के तहत विभाग ही इकाई होंगे

इस नए सिस्टम के तहत विभाग ही इकाई माने जाएंगे। वहीं धरने में बैठे लोगों का कहना है कि अगर किसी डिपार्टमेंट में 4 वैंकेसी हैं तो इनमें तीन पर सामान्य वर्ग और चौथे पद ओबीसी को रिक्रूट किया जाएगा। इसके बाद अगली बार वैकेंसी आने पर इसे एक की बजाय पांच से शुरू किया जाएगा। इस तरह 13 प्वाइंट तक ऐसे ही रिक्रूटमेंट होगा। ऐसे में तो दलितों, पिछड़ों और आदिवासियों की बारी ही नहीं आएगी।

भारत बंद का दूसरा दिन : पश्चिम बंगाल में बिगड़े हालात, हिरासत में लिए गए सीपीएम नेता, कई जगहों पर हिंसा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.