उत्तराखंड में मेडिकल टूरिज्म की बेहतर संभावना

2018-11-04T06:00:52+05:30

- एम्स के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति ने दी स्टूडेंट्स को उपाधि

- छह छात्राओं को राष्ट्रपति ने दिए गोल्ड मेडल

- कुल 162 स्टूडेंट्स को दी गई उपाधि

ऋषिकेश, ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) ऋषिकेश के पहले दीक्षांत समारोह में शामिल होने आए राष्ट्रपति रामनाथ को¨वद ने उत्तराखंड के जलवायु और प्राकृतिक सौंदर्य की जमकर तारीफ की। कहा कि उत्तराखंड का सही विकास हो तो उत्तराखंड यूरोप से भी बेहतर साबित होगा। कहा कि उत्तराखंड में मेडिकल टूरिज्च्म की अपार संभावनएं हैं।

योग, आयुर्वेद राजकीय धरोहर

एम्स परिसर में बनाये गए सभागार में दीक्षांत समारोह का राष्ट्रपति के साथ उत्तराखंड के रजच्यपाल बेबी रानी मौर्य, एम्स के अध्यक्ष व स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा, मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दीप ज््रच्जवलित कर शुभारंभ किया। राष्ट्रपति ने पीएचडी की एक एमबीबीएस की पांच और नर्सिग की दो स्टूडेंट्स को गोल्ड मेडल प्रदान किये। अपने संबोधन में राष्ट्रपति रामनाथ को¨वद ने सभी स्टूडेंट्स, शिक्षकों और अभिभावकों को शुभकामनायें दीं। उन्होंने कहा हिमालय की गोद में बसे उत्तराखंड की जलवायु हर ²ष्टिकोण से लाभदायक है। यहां योग, आध्यात्म, आयुर्वेद राजकीय धरोहर है। इस राज्य को मेडिकल टूरिस्ट स्टेट बनाने की क्षमता उत्तराखंड में है। कहा कि खुशी की बात है कि एम्स में आयुष विभाग काम कर रहा है। पर्वतीय क्षेत्र के दुर्गम लोगों को एम्स का ज्यादा से ज्यादा लाभ मिलने के साथ उत्तराखंड के 50 लाख लोगों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलना चाहिए.

एम्स को बढ़ाना चाहिए शोध कार्य

एम्स की सराहना करते हुये राष्ट्रपति ने कहा कि यहां स्वास्थ्य सेवाओं का स्तर जितना ऊंचा उठेगा। यहां के लोगों की महानगरों के चिकित्सा संस्थानों के निर्भरता घटेगी। एम्स शोध अनुसंधान की दिशा में भी काम कर रहा है। यह अच्छी बात है। उत्तराखंड जिसे स्वास्थ्य का खजाना कहा जाता था। वहां धूप की कमी व अन्य कारणों से महिलाओं में एनीमिया और लोगों में रक्तचाप व अन्य बीमारियां बढ़ रही है। एम्स को इस दिशा में शोध करना चाहिए.

देश में खुलेंगे 14 नए एम्स

एम्स ऋषिकेश के अध्यक्ष व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने खुशी जताई कि आयुष्मान भारत योजना से देश की 40 फीसदी आबादी जुड़ चुकी है। कहा कि कैंसर उपचार की ²ष्टि से ऋषिकेश एम्स श्रेष्ठ संस्थान बनेगा। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार 14 और नये एम्स खोलने जा रही है।

162 स्टूडेंट्स को दी उपाधि

इस अवसर पर 162 विद्याíथयों को उपाधि दी गई, जिनमें एक पीएचडी, 44 एमबीबीएस और 117 बीएससी नर्सिग के शामिल है। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, सांसद व पूर्व मुख्यमंत्री डा। रमेश पोखरियाल निशंक, सांसद माला राज्य लक्ष्मी शाह, मुख्य सचिव उत्पल कुमार, पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी, बीआरओ शिवालिक परियोजना के चीफ इंजीनियर एएस राठौर, एम्स की डीन प्रशासनिक प्रोफेसर सुरेखा किशोर, डीन प्ला¨नग लतिका मोहन, डीडीए अंशुमान गुप्ता, एमएस डा। ब्रह्मप्रकाश आदि मौजूद रहे।

inextlive from Dehradun News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.