ब्लैकमेलर बैठे हैं लगा के घात बेटियों का दोस्त बन करें बात

2019-05-23T06:01:07+05:30

- शहर में बढ़ रहे किशोरियों और युवतियों संग ब्लैकमेलिंग के मामले

- बदमाश पहले बना रहे दरिंदगी का शिकार फिर ब्लैकमेल कर ऐंठ रहे रुपए

- पैरेंट्स के डर से परिवार से बात नहीं करतीं लड़कियां, वीडियो वायरल करने की धमकी देते रहते ब्लैकमेलर

GORAKHPUR: घर के आंगन में शोरगुल कर ढेरों बदमाशियां कर बड़ी हुईं चंचल बेटियां अगर अचानक गंभीर हो जाएं तो इसे हल्के में न लें। ये कोई गंभीर विषय भी हो सकता है। हाल के दिनों में लगातार सामने आ रहे ब्लैकमेलिंग केसेज में ज्यादातर मामलों में किशोरियां ही शिकार हो रही हैं। कम उम्र में उन्हें अपने पराए की जरा भी जानकारी नहीं होती है और इसी का फायदा उठाकर बदमाश उन्हें बातों में फंसा दरिंदगी का शिकार बना अश्लील वीडियो बना ले रहे हैं। बाद में वीडियो वायरल करने की धमकी देकर उनकी जिंदगी तो बर्बाद कर ही रहे हैं साथ ही उनसे पैसे भी ऐंठ रहे हैं। वहीं लड़कियां पैरेंट्स के डर से इतनी बड़ी बात मन में दबाकर ब्लैकमेलर के हाथ की कठपुतली हो जाती हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह पैरेंट्स और बच्चों की दूरी भी है जिसकी वजह से इधर इस तरह के केसेज में काफी वृद्धि हुई है।

पैरेंट्स नहीं देते समय, किससे करें बात

एक्सप‌र्ट्स की मानें तो आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में पैरेंट्स काम के बाद बचा हुआ अपना समय व्हाट्सएप और फेसबुक पर देना ज्यादा सही समझते हैं। जिसे देखकर बच्चे भी इंटरनेट, मोबाइल और गेम में व्यस्त हो जाते हैं। जिससे पैरेंट्स और बच्चों के बीच एक बड़ा गैप हो जाता है। पहले तो बच्चे छोटी-छोटी बात पैरेंट्स से छुपाना शुरू करते हैं। बाद में वही झूठ बच्चों को आगे चलकर भारी पड़ जाता है। वे चाहकर भी अपने पैरेंट्स से अपनी प्रॉब्लम शेयर नहीं कर पाते हैं।

तत्काल करें शिकायत

ब्लैकमेलर के शिकार लोग इज्जत जाने के डर से थाने पर शिकायत करने से बचते हैं जिसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ता है। जबकि बाद में उन्हें थाने की शरण लेनी ही पड़ती है तभी उन्हें इस जंजाल से मुक्ति मिल पाती है। एक्सप‌र्ट्स का कहना है कि इसके बाद भी बच्चियों के मन से इन बातों को निकालकर उनका बेहतर भविष्य बन सकता है। लेकिन इसके लिए पैरेंट्स या पीडि़त को अपने साथ हो रहे शोषण का विरोध तत्काल करना होगा तभी ऐसे लोगों पर लगाम लग पाएगी।

केस 1

एक सप्ताह पहले खोराबार इलाके में एक ब्लैकमेंलिग का केस सामने आया है। यहां चौराहे पर दुकान चलाने वाले युनुस ने इसी इलाके की एक नाबालिग लड़की को पहले तो अपने प्रेम जाल में फंसाया। इसके बाद उस लड़की को सुनसान जगह पर बुलाकर उसके साथ अश्लील हरकत कर अपने दोस्त की मदद से वीडियो बना लिया। इसके बाद से ही युनुस लड़की को फोन कर पैसे की डिमांड करने लगा और पैसे नहीं देने पर वीडियो वायरल करने की धमकी भी देता रहा। धमकी देकर नियमित वो लड़की से पैसा लेता रहा। इस बीच जब लड़की ने पैसे देने से इंकार किया तो वह उसकी मां को वीडियो भेजकर ब्लैकमेल कर पैसे की डिमांड करने लगा। जिसके बाद घरवाले पुलिस की शरण में गए और तब जाकर ब्लैकमेलर पर कार्रवाई हुई।

केस 2

मई माह में ही गोरखनाथ इलाके में एक अधेड़ दुकानदार की करतूत भी उजागर हुई है। गोरखनाथ एरिया का तौफिक टॉफी और बिस्कुट की दुकान चलाता है। तौफिक पर आरोप लगा कि वह दुकान पर आने वाली 9 से 10 साल तक की बच्चियों के साथ गलत हरकत करता है। इसके बाद उन्हें डराता धमकाता भी है। इसी महीने में उसने एक और बच्ची के साथ रेप कर उसका वीडियो बना लिया। जिसे वायरल करने की धमकी देकर घरवालों का उसने मुंह बंद कर दिया। किसी तरह हिम्मत जुटाकर बच्ची की मां ने गोरखनाथ थाने में इसकी शिकायत की तब जाकर उसके ऊपर कार्रवाई हो सकी।

केस 3

इसी तरह 2018 में चिलुआताल इलाके में एक 13 साल की किशोरी को नशीला पदार्थ खिलाकर सामूहिक बलात्कार किया गया। इस दौरान दरिंदो ने रेप का वीडियो भी बना लिया। जिसकी वजह से दोनों पक्ष पंचायत कर मामले को रफा-दफा कर दिए जिससे वीडियो वायरल न हो। लेकिन कुछ ही दिन बाद उन दरिदों ने वीडियो भी वायरल कर दिया। जिसके बाद पीडि़त किशोरी के घरवालों ने थाने में शिकायत की। तब जाकर उन दरिंदो को सजा मिली।

केस 4

अभी मुश्किल से चार दिन पहले भी ब्लैकमेलिंग का बड़ा ही रोचक मामला सामने आया। इसमे कैंट इलाके में प्रतियोगी परीक्षा का फॉर्म भरवाने का झांसा देकर एक युवक ने युवती संग कोर्ट मैरिज कर ली। इसके बाद वह युवती को बदनाम करने की धमकी देकर घरवालों को ब्लैकमेल कर पैसे ऐंठता रहा। बाद में परेशान होकर युवती के पिता ने कैंट थाने में तहरीर दी। तब जाकर ब्लैकमेलर पर कार्रवाई हुई।

कोट

गलतियां छिपाने से नासूर बन जाती हैं। ग‌र्ल्स को चाहिए कि अपने पैरेंट्स से अपनी प्रॉब्लम्स शेयर करें। जो कोई भी उनका शोषण कर रहा है उसका तुरन्त विरोध करें। तभी वे आगे अपना भविष्य बना पाएंगी।

- प्रो। विनिता पाठक, डीडीयूजीयू

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.