गंदा पानी दे रहा जनता को जख्म बिजली कटौती डाल रही नमक

2019-05-12T06:00:13+05:30

- कई इलाकों में दूषित जलापूर्ति, जनता हो रही परेशान

- ट्रिपिंग होने से भी और बढ़ रही लोगों की मुसीबतें

LUCKNOW

एक तरफ लोग बढ़ते तापमान से परेशान है, वहीं दूसरी तरफ नलों से आ रहा गंदा पानी और दिन में कई बार हो रही बिजली कटौती से जनता की मुश्किलें और भी बढ़ गई हैं। हैरानी की बात तो यह है कि जिम्मेदारों की ओर से इस पर कोई ठोस एक्शन नहीं लिया जा रहा है। पानी-बिजली संकट को बयां करती दैनिक जागरण आईनेक्स्ट की खास रिपोर्ट---

पहला केस

पानी संकट

सेक्टर 16 इंदिरानगर कॉलोनी में कई दिन से दूषित जलापूर्ति हो रही है। शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है। कॉलोनी में रहने वाले आदित्य द्विवेदी ने बताया कि नलों से गंदा पानी आने से हालात खराब हैं।

दूसरा केस

लालकुआं, जानकीपुरम, अलीगंज, कन्हैया माधवपुर द्वितीय वार्ड के कई इलाकों में गंदा पानी आ रहा है। पार्षदों ने शिकायत दर्ज कराई लेकिन नतीजा सिफर रहा।

पहला केस

बिजली संकट

इंदिरानगर में देर रात एक ट्रांसफॉर्मर फुंक गया, जिससे लोगों को बिजली संकट का सामना करना पड़ा। दो से ढाई घंटे बाद बिजली आई, तब जाकर लोगों को राहत मिली।

दूसरा केस

फैजुल्लागंज, चिनहट, बटलर पैलेस आदि इलाकों में लंबे समय के लिए तो बिजली गुल नहीं हुई लेकिन बार-बार ट्रिपिंग होने से खूब परेशानी हुई।

अभी तक 10 ट्रांसफॉर्मर फुंके

लगातार बढ़ रहे लोड का आलम यह है कि पिछले 15 दिन में लेसा ट्रांसगोमती एरिया में 10 ट्रांसफॉर्मर फुंक चुके हैं। इन्हें रिप्लेस तो कर दिया गया है लेकिन इस दौरान जनता को बिजली संकट का सामना करना पड़ा। वहीं सिस गोमती एरिया में भी फुंके ट्रांसफॉर्मरों का आंकड़ा करीब करीब 8 से 10 है।

वाटर लाइन में लीकेज

जिन वार्डो में सालों पुरानी वाटर लाइन है, वहां पेयजल संकट की समस्या अधिक है। कारण है कि आए दिन वाटर लाइन में लीकेज हो रहा है। लालकुआं पार्षद सुशील तिवारी का कहना है कि लीकेज की समस्या होने से पेयजल संकट बढ़ रहा है।

मेयर ने मांगी रिपोर्ट

मेयर संयुक्ता भाटिया ने दूषित जलापूर्ति की गंभीरता को देखते हुए जलकल से पूरी रिपोर्ट तलब की है। जिससे सही स्थिति सामने आए और तत्काल समस्या दूर की जाए।

inextlive from Lucknow News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.