यूपी अतीक अहमद समेत 8 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल

2019-03-26T10:50:12+05:30

राजधानी से कारोबारी को अगवा कर देवरिया जेल में पीटने का मामला। पूर्व सांसद के पास जेल में ले गए थे गुर्गे अपहरण व डकैती समेत कुल 13 धाराओं में आरोप पत्र दाखिल।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW : राजधानी के कारोबारी को अगवा कर देवरिया जेल में ले जाने व उसकी पिटाई करने के मामले में पूर्व सांसद अतीक अहमद समेत आठ लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है। अतीक के गुर्गे रियल एस्टेट कारोबारी मोहित को गोमतीनगर से अतीक के पास देवरिया जेल ले गए थे, जहां उसकी जमकर पिटाई की थी। यही नहीं जेल में ही कारोबारी के प्रापर्टी के कागजातों पर हस्ताक्षर करवा लिए थे और उसकी गाड़ी भी छीन ली थी। एएसपी पूर्वी सुरेश चंद रावत के मुताबिक आरोपितों के खिलाफ अपहरण व डकैती समेत कुल 13 धाराओं में चार्जशीट दाखिल की गई है।

जांच के लिए बनी थी एसआईटी
एएसपी पूर्व ने बताया कि दिसंबर 2018 में मोहित जायसवाल की तहरीर पर एफआइआर दर्ज की गई थी। इस मामले की जांच के लिए एसआइटी गठित हुई थी। पड़ताल के दौरान सोमवार को एसआइटी ने इलाहाबाद निवासी पूर्व सांसद अतीक अहमद के अलावा मुख्तार, आलमगीर , बरकत अली अंसारी, दयानंद गुलाम सरवर, मोइनुद्दीन सिद्दीकी और इरफान के खिलाफ मारपीट, गाली गलौज, धोखाधड़ी, धमकी देने, अपहरण करने और डकैती समेत अन्य धाराओं में आरोप पत्र दाखिल किया है।
बेटे पर भी थी एफआईआर, जांच जारी
सीओ कृष्णानगर लाल प्रताप ने बताया कि विश्वेश्वर नगर आलमबाग निवासी मोहित जायसवाल ने अतीक के बेटे उमर के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराई थी। एसआईटी अभी उमर की भूमिका की जांच कर रही है। आरोपित उमर की संलिप्तता को लेकर विवेचना अभी जारी है। इस मामले में अधिकांश आरोपित या गिरफ्तार किए गए थे या फिर उन्होंने न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया था।
दो साल से परेशान था व्यापारी
मोहित का आरोप था कि इलाहाबाद निवासी देवरिया जेल में बंद पूर्व सांसद अतीक अहमद ने दो साल पहले उनसे मिलकर धनउगाही का दबाव बनाया था। डर के कारण पीडि़त ने रुपये दिए थे, जिसके बाद अतीक शांत हो गया था। घटना के चार माह पूर्व अतीक के दो गुर्गे फारूख और जकी अहमद ने मोहित से रंगदारी मांगी थी। इन्कार करने पर दोनों ने ऑफिस पर कब्जा कर लिया था। 26 दिसंबर 2018 को अतीक के एक गुर्गे ने मोहित को उसी की गाड़ी से अगवा कर देवरिया जेल में पूर्व सांसद के पास लेकर गया था। जेल में अतीक के अलावा उसके कई गुर्गे मौजूद थे, जिन्होंने मोहित की जमकर पिटाई की थी। इसके बाद पीडि़त की कंपनी एमजे इंफ्रा फारूख और जकी के नाम स्थानांतरित करवा ली थी। इस मामले में एसएसपी कलानिधि नैथानी के निर्देश पर अतीक अहमद, फारूख, जकी अहमद, उमर, जफरउल्लाह, गुलाब सरवर और 10-12 अज्ञात लोगों के खिलाफ लूट, अपहरण, मारपीट, बंधक बनाने समेत अन्य धाराओं में एफआइआर दर्ज की गई थी। इसके बाद गोमतीनगर स्थित सिल्वर अपार्टमेंट से सुलतानपुर के खरहा निवासी गुलाम और प्रतापगढ़ के कंजा सराय गुलामी निवासी इरफान को गिरफ्तार कर लिया गया था।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.