जानें क्यों है सीएम योगी को यूपी की जनता के साथ की जरूरत

2018-09-12T12:36:09+05:30

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कारपोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी कॉन्क्लेव का शुभारंभ किया है। इस दौरान उन्होंने लोकभवन में मौजूद लोगों को संबोधित भी किया।

lucknow@inext.co.in
LUCKNOW: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अगर जनता और उद्योग जगत साथ दे तो प्रदेश की सूरत बदलते देर नहीं लगेगी।खासकर स्वच्छ भारत अभियान।स्किल डेवलपमेंट।संस्कृत विद्यालयों के पुनरुद्धार।पर्यटन स्थलों के विकास।पार्कों का विकास।वेलनेस सेंटर्स की स्थापना में कारपोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी के तहत काफी संभावनाएं हैं।हम सही सोच से ही स्वस्थ समाज का निर्माण कर सकते हैं। मुख्यमंत्री मंगलवार को लोकभवन में कारपोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी कॉन्क्लेव के शुभारंभ के अवसर पर बोल रहे थे।इस अवसर पर उन्होंने इसकी वेबसाइट को भी लांच किया।वहीं पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष ललित खेतान ने रेडिको खेतान के सीएसआर फंड से मुख्यमंत्री को 51 लाख रुपये का चेक भेंट किया।
उद्योग जगत से मांगा सहयोग
योगी ने कहा कि तमाम योजनाएं बिना जनसहभागिता के सरकारी बनकर रह जाती हैं।हम मरीजों के लिए अस्पताल बना रहे हैं पर तीमारदारों के बारे में नहीं सोच रहे।जेल में जाने वाला हर व्यक्ति अपराधी नहीं होता।उससे मिलने आने वालों को यदि धूप से बचने को छांव और पीने का पानी मिले तो उसकी तकलीफ कम हो सकती है।पार्कों में ओपेन जिम और वेलनेस सेंटर्स बनाने से युवा इधर-उधर घूमने के बजाय अपनी सेहत बना सकते हैं।इन कामों में ज्यादा पैसा भी नहीं खर्च होता है।यदि हम किसी को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करते हैं तो इससे बड़ा काम दूसरा नहीं हो सकता।
सहयोग का आश्वासन दिया
वहीं औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि सीएसआर भारतीय संस्कृति के मूल में है।धर्मार्थ और लोक कल्याण के कार्य हमारी परंपरा का हिस्सा रहे हैं।कार्यक्रम में बताया गया कि सीएसआर के तहत पीएचडी चैंबर ने उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद और अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय (एकेटीयू) के साथ करार किये हैं।अगले साल इलाहाबाद में होने वाले कुंभ मेले में सीएसआर गतिविधियों के लिए पर्यटन विभाग से बातचीत हो रही है।फिक्की के एलके झुनझुनवाला और आईआईए के राष्ट्रीय महासचिव मनमोहन अग्रवाल ने भी अपने संगठन की ओर से सीएसआर गतिविधियों में सहयोग का आश्वासन दिया।

कुंभ वेबसाइट व एप का शुभारंभ, अब एक क्लिक पर मिलेगी प्रमुख स्नान की डिटेल

अब यहां टावर लगने पर मिलेगा मुआवजा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.