बो¨रग में गिरा दो वर्ष का मासूम खुदाई में जुटा प्रशासन

2015-09-12T07:01:22+05:30

पिता अपने साथ ले आए थे खेत पर, बो¨रग पर था बोरा, बैठ गया बच्चा

मौके पर पहुंचे अधिकारी, डीएम ने डाला डेरा, आगरा से मंगाई हैं मशीनें

फीरोजाबाद : सिरसागंज के गांव खमरपुर बैजुआ में उस वक्त खलबली मच गई। जब दोपहर में पिता के साथ आया दो वर्ष का मासूम कई फुट गहरी बो¨रग में गिर गया। आसपास के गांवों के ग्रामीण एकत्रित हो गए। मासूम के कई फुट गहरी बो¨रग में गिर जाने की खबर पर प्रशासनिक महकमे में भी खलबली मच गई। अफसरों की टीम मौके पर पहुंच गई। बच्चे तक ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए विशेष तौर पर ऑक्सीजन पाइप बो¨रग में डाला गया।

घटना दोपहर करीब सवा 12 बजे करीब की है। शहपुरी गांव निवासी बृजेश गांव खमरपुर बैजुआ में बंटाई पर खेत लेकर खेती करते हैं। शुक्रवार को उनके खेत में पानी लगना था। वह अपने दो वर्ष के बेटे किशन को भी साथ में ले गए। किशन ट्यूवबैल की बो¨रग के निकट खेलने लगा। ट्यूवबैल के पाइप के आसपास के हिस्से पर खुली हुई बो¨रग को एहतियात बतौर बोरे से ढंक रहा था। बताते हैं खेलते- खेलते किशन बोरे पर बैठ गया तथा बोरा खुल गया तथा किशन बो¨रग में गिर गया। बच्चे की चीख सुनकर पिता यहां पहुंचे तो बदहवास होकर वह उसे बचाने के लिए बो¨रग में उतर पड़े। आसपास के ग्रामीणों की भीड़ एकत्रित हो गई। बो¨रग की चौड़ाई कम होने के कारण बृजेश भी बो¨रग में फंस गए। बृजेश के बो¨रग में फंसने पर आसपास के ग्रामीणों ने रस्सी डालकर बृजेश को जैसे तैसे बो¨रग से बाहर निकाला।

इसके बाद नजदीकी गांव के प्रधान श्रीनिवास ने उपजिलाधिकारी चंद्रभानु को सूचना दी। एसडीएम चंद्रभानु गांव में पहुंचे। उन्होने जेसीबी मंगाकर खुदाई शुरू करा दी। कुछ देर बाद क्षेत्राधिकारी सदर जगदीश सिंह भी मौके पर पहुंच गए। इसके बाद जिलाधिकारी विजय किरन आनंद एवं एसडीएम सदर पंकज वर्मा मौके पर पहुंचे। डीएम ने खुदाई की रफ्तार को धीमी देख कर क्षेत्र की अन्य जेसीबी मंगवाकर खुदाई को तेज कराया। बो¨रग में फंसे हुए किशन को बचाने के लिए बो¨रग के निकट ही एक अन्य गड्ढा खोदना शुरू हो गया। शाम सात बजे तक करीब 25 फुट गहरा गड्ढा खुद गया था। इतनी गहराई में गड्ढा खोदने के बाद में गड्ढे से बो¨रग में एक छेद कर बच्चे की तलाश की गई तो बच्चा और नीचे फंसने की संभावना मिली। इसके बाद खुदाई फिर शुरू की गई। इधर डीएम ने आगरा फोन कर पोकलेन मशीन को मंगाया। शाम सात बजे पोकलेन मशीन के पहुंचने के बाद खुदाई की रफ्तार तेज हुई। खबर लिखे जाने तक प्रशासनिक अफसरों की मौजूदगी में खुदाई जारी थी। बच्चे को आक्सीजन देने के लिए बो¨रग के अंदर एक पाइल डाला गया है।

inextlive from Agra News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.