चित्रांगदा बोलीं फिल्मों से दर्शक करते हैं एक्टर्स के कैरेक्टर का परसेप्शन निजी जिंदगी पर भी पड़ता है ये असर

2018-11-04T03:35:12+05:30

एक्ट्रेस चित्रांगदा सिंह ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत साल 2003 में फिल्म हजारों ख्वाहिशें ऐसी से की थी। अपने अभी तक के करियर में चित्रांगदा ने गिनी चुनी फिल्में ही की हैं और ऐसे रोल्स प्ले किए हैं जो स्ट्रॉन्ग आइडियलिस्टिक और इंटेलिजेंट वुमन को प्रेजेंट करते हों।

features@inext.co.in
KANPUR : चित्रांगदा ने एक इंटरैक्शन में कहा कि फीमेल एक्टर्स की इमेज उनके ऑन-स्क्रीन रोल्स की वजह से स्टीरियोटाइप हो जाती है और इसके पीछे फिल्म फ्रैटर्निटी और ऑडियंस दोनों का ही हाथ होता है। वह कहती हैं, 'मुझे लगता है कि रियल लाइफ में एक्ट्रेसेज को वैसे ही देखा जाता है जैसे वो स्क्रीन पर रोल्स प्ले करती हैं।
शेयर किया अपना ये किस्सा
चित्रांगदा बोलीं, 'मुझे याद है कि कैसे मेरी पहली फिल्म के बाद लोगों को लगने लगा था कि मैं अपनी जिंदगी में सिर्फ कॉटन साडिय़ां ही पहनती हूं। और मैं इस बात को लेकर भी श्योर हूं कि रोल की डिमांड पर अगर कोई एक्ट्रेस बोल्ड सीन करती है तो भी उसको बिल्कुल वैसे ही रियल लाइफ में भी समझा जाता है। ये बहुत ही खतरनाक है और ऐसा नहीं होना चाहिए।'
Box Office Collection: 'बधाई हो' 100 करोड़ के इतने करीब, 'बाजार' टांय-टांय फिस्स

Box Office Collection: सैफ का 'बाजार' पडा़ मंदा, कमाई पर 'बधाई हो' और 'अंधाधुन' का कब्जा


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.