यूपीकोका से जनवादी आवाज को कुचलने की कोशिश

2017-12-30T07:00:21+05:30

बिगुल मजदूर दस्ता और दिशा छात्र संगठन की ओर से किया गया विरोध प्रदर्शन

ALLAHABAD: बिगुल मजदूर दस्ता और दिशा छात्र संगठन की ओर से केन्द्र सरकार द्वारा प्रस्तावित कोड ऑफ वेजेज बिल 2017 और यूपीकोका के विरोध में एकलव्य चौराहे से एजी ऑफिस तक पैदल मार्च निकालकर नुक्कड़ सभाएं की गई। प्रसेन ने कहा कि सरकार द्वारा पेश किया गया कोड ऑफ वेजिस बिल कर्मचारियों की सुविधाओं में कटौती करके उनके श्रम को निचोड़ने की खुली छूट दे रहा है। इस कोड में रोजगार सूची को हटाकर कुशल, अर्धकुशल और अकुशल की श्रेणी को समाप्त किया जा रहा है और न्यूनतम मजदूरी की दर को टाइम और पीस वर्क के हिसाब से तय किया जा रहा है।

इतिहास गवाह रहा है

प्रसेन ने कहा कि योगी सरकार द्वारा यूपीकोका बिल के जरिये जनवादी अधिकारों के लिए उठने वाली हर आवाज का गला घोंट देने की पूरी तैयारी की जा रही है। इतिहास गवाह रहा है कि ऐसे क़ानूनों का इस्तेमाल करके आम जनता के हक अधिकार के लिए आवाज उठाने वाले सामाजिक कार्यकर्ताओं को ही कुचला जाता रहा है और असली अपराधियों के लिए इन कानूनों का कोई मतलब नहीं होता। अमित ने कहा कि छात्रों, नौजवानों, कर्मचारियों और आम नागरिकों को संगठित विरोध करने में जुटना होगा। इस दौरान कोड ऑफ वेजिस बिल और यूपीकोका का पुतला फूंका गया। कार्यक्रम में राजू, अविनाश, अंजलि, प्रतिभा, नीशू, विकास, धीरेन्द्र, महाप्रसाद, धर्मराज आदि शामिल थे।

inextlive from Allahabad News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.