साढ़े तीन करोड़ से सुधरेगा मंडी का हाल

2017-04-13T07:41:28+05:30

- प्रदेश की विशिष्ट 21 मंडियों में गोरखपुर का भी नाम हुआ शामिल

- जर्जर दुकानें, सड़क, पेयजल, बिजली आदि व्यवस्थाएं की जाएंगी दुरुस्त

- मंडी प्रशासन ने राज्य मंडी परिषद डायरेक्टर को सौंप दिया है साढ़े तीन करोड़ का प्रपोजल

GORAKHPUR: बदहाल व्यवस्थाओं की मार झेलती आ रही महेवा मंडी की सूरत बदलने वाली है। मंडी का कायाकल्प करने की तैयारी में मंडी प्रशासन जुट गया है। लखनऊ में मंगलवार को हुई राज्य मंडी परिषद डायरेक्टर की मातहतों संग मीटिंग में प्रदेश की 21 विशिष्ट मंडियों का चयन किया गया है जिसमें गोरखपुर मंडी भी शामिल है। इस दौरान गोरखपुर के उप निदेशक प्रशासन विपणन केके सिंह ने साढ़े तीन करोड़ की लागत का प्रपोजल डायरेक्टर के सामने प्रस्तुत किया। जिसके तहत मंडी की जर्जर दुकानें, टूटी सड़कें, पेयजल, बिजली व्यवस्था सही कराने के साथ ही सौंदर्यीकरण का कार्य भी किया जाएगा। मंडी प्रशासन की मानें तो बजट मिलते ही मंडी की रूपरेखा बदलने का ये कार्य शुरू हो जाएगा।

टैक्स देकर भी नसीब नहीं सुविधा

महेवा मंडी में फल-सब्जी, गल्ला और मछली का कारोबार बड़े पैमाने पर होता है। मंडी से जुड़ी व्यवस्थाओं के नाम पर कारोबार का ढाई प्रतिशत, मंडी प्रशासन व्यापारियों से टैक्स के रूप में वसूल करती है। जिस हिसाब से मंडी प्रशासन हर साल साढ़े चौदह करोड़ रुपए टैक्स शासन को देती है। इसके बावजूद भी मंडी स्थापित होने के बाद से ही यहां किसी प्रकार का निर्माण कार्य नहीं किया गया है। मंडी में फल-सब्जी, गल्ला, मछली मिलाकर कुल 600 दुकानें हैं। इनमें से 200 से अधिक दुकानें जर्जर हो चुकी हैं। वहीं, सड़कें टूट चुकी हैं तो वहीं जल निकासी का भी प्रबंध नहीं है। इसके अलावा पेयजल की भी कोई व्यवस्था नहीं है। इन समस्याओं को लेकर लंबे समय से व्यापारी मंडी प्रशासन के सामने विरोध जताते रहे हैं। राज्य मंडी परिषद डायरेक्टर की मीटिंग में महेवा को विशिष्ट मंडी का दर्जा मिलने से यहां की स्थिति सुधरने की उम्मीद जगी है।

ये है प्रपोजल

- एनएच-28 से गल्ला मंडी तक हॉट मिक्स प्लांट से सड़क निर्माण

- नवीन फल-सब्जी मंडी में बने सीसी रोड पैच का कार्य

- सेफ्टी टैंक के साथ शौचालयों की मरम्मत का कार्य

- तीन नीलामी चबूतरों व दुकानों के आगे लगे शेड की मरम्मत

- फल-सब्जी मंडी के दुकानों की छतों की मरम्मत

- मुख्य मार्ग पर आरसीसी डिवाइडर, चेम्बरों में ढक्कन लगाने का कार्य

- मछली मंडी की दुकानों की मरम्मत व रंगाई-पुताई का कार्य

- गल्ला मंडी में रोड की पटरी व खाली जगह पर पार्किंग के लिए इंटरलॉकिंग का कार्य

- छत के साथ जर्जर दीवारों के प्लास्टर, दरवाजे व खिड़कियों की मरम्मत और जल निकासी के प्रबंध

- पांच यूरिनल का निर्माण

वर्जन

डायरेक्टर की मीटिंग में मंडी को नया रूप देने के लिए प्रपोजल सौंप दिया गया है। हरी झंडी मिलते ही जल्द से जल्द कार्य शुरू करा दिए जाएंगे।

- केके सिंह, उप निदेशक प्रशासन विपणन

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.