कर्नाटक निकाय चुनाव परिणाम कांग्रेस बनी नंबर वन बीजेपी ने बताया हार का कारण

2018-09-04T10:07:40+05:30

कांग्रेस ने सोमवार को कर्नाटक के 105 शहरी स्थानीय निकायों में सबसे ज्यादा सीटें जीतीं है।वहीं भाजपा को दूसरा स्थान मिला है।

बेंगलुरु (आईएएनएस)। विधानसभा चुनाव के चार महीने से भी कम समय में कांग्रेस ने कर्नाटक में अपनी मजबूत स्थिति की आेर इशारा किया है। उसने लोगों को यह जताया है कि  कांग्रेस-जेडी (एस) का गठबंधन लोकसभा चुनावों में अच्छे परिणाम हासिल कर सकता है। कांग्रेस ने कर्नाटक के 105 शहरी स्थानीय निकायों में सबसे ज्यादा सीटें जीतीं है। 31 अगस्त को आयोजित राज्य के 30 जिलों में 22 शहरी निकायों के लिए चुनाव में कांग्रेस ने 2,662 सीटों में से 982 जीती हैं। वहीं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 929 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर रही।जेडी-एस 375 सीटों पर काबिज रही।

यह लिखना बेमानी होगी कि कर्नाटक में कांग्रेस नहीं
शेष सीटों पर 329 निर्दलीयों के साथ अन्य विजयी हुए हैं। इस बार यहां बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने 13 सीटों पर जीत हासिल की। अन्य क्षेत्रीय दलों ने 34 सीटें जीतीं हैं। इस जीत के बाद कांग्रेस खेमें में खुशी की लहर दौड़ गर्इ। राज्य कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने  मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि चुनाव परिणाम ने उन लोगों को चुप कर दिया है जो कहते फिर रहे हैं कि कांग्रेस कमजोर हो गई है। इसलिए अब यह लिखना बेमानी होगी कि कर्नाटक में कांग्रेस नहीं है।लोकसभा चुनावों के लिए पूर्व में ही हम (कांग्रेस और जेडी-एस) चुनाव गठबंधन करेंगे। इससे हमारी जीत पक्की होगी।

कांग्रेस-जेडी-एस गठबंधन की वजह से नहीं जीत पार्इ

वहीं जेडी-एस नेता और मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने  परिणामों को गठबंधन सरकार के लिए जीत का आगाज बताया। उन्होंने कहा कि नतीजे बताते हैं कि जेडी-एस और कांग्रेस ने न केवल ग्रामीण मतदाताओं बल्कि शहरी मतदाताओं का भरोसा जीता है। वहीं बीजेपी राज्य इकाई के अध्यक्ष बीएस  येदियुरप्पा ने जेडी-एस और कांग्रेस को अपने खराब प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार ठहराया है। बीजेपी आैर सीटें जीत सकती थीं लेकिन कांग्रेस-जेडी-एस गठबंधन की वजह से नहीं जीत पार्इ। हालांकि इस दौरान उन्होंने यह भी भराेसा दिलाया कि बीजेपी ने तटीय जिलों के पारंपरिक गढ़ों में अच्छा प्रदर्शन किया है।

आगामी लोकसभा चुनाव में बहुमत हासिल करने पर भरोसा

भारतीय जनता पार्टी को आगामी लोकसभा चुनाव में बहुमत हासिल करने पर भरोसा है। बता दें कि पिछले शुक्रवार को राज्य के 22 जिलों में 29 नगर नगर पालिकाओं, 53 नगर नगर पालिकाओं, 23 नगर पंचायतों और तीन नगर निगमों के 135 वार्ड में चुनाव हुए। वहीं कोडागु जिले में नागरिक निकायों की 45 सीटों में भारी बारिश और बाढ़ की वजह से मतदान स्थगित कर दिया गया है। बता दें कि 2013 कर्नाटक में 4,976 सीटों के लिए आयोजित चुनाव में कांग्रेस ने 1,960 सीटें जीतीं थी। बीजेपी और जेडी-एस ने 90 सीटों पर जीत हासिल की थी।वहीं शेष 1,206 सीटें निर्दलीय उम्मीदवाराें ने जीतीं थी।

येदियुरप्पा का दावा कांग्रेस और जेडीएस के नेता बीजेपी में आने को तैयार, पार्टी कार्यकर्ता रखें निगाह

कर्नाटक में फिर फसा पेंच, अब कांग्रेस-जेडीएस में अब बजट को लेकर मतभेद


 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.