बमबाज की ईट पत्थर से कूंचकर हत्या

2017-08-21T07:41:15+05:30

मोबाइल कॉल डिटेल के जरिए पुलिस मृतक के हत्यारों तक पहुंचने में जुटी

घटना के बाद परिवार में छाया मातम, पति की मौत पर पत्नी हुई बेसुध

ALLAHABAD: कौशांबी के ग्राम प्रधान के भाई और शातिर अपराधी आशीष उर्फ मनोज कुमार की शनिवार रात किसी ने ईट व पत्थर से कूच कूच कर हत्या कर दी। रविवार सुबह झलवा के धुस्सा मोहल्ले के निकट हनुमान मंदिर परिसर में उसकी क्षत-विक्षत लाश मिलने से सनसनी फैल गई। सूचना पर पहुंची धूमनगंज पुलिस ने छानबीन करते हुए शव की शिनाख्त करवाई। हत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका। पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर अज्ञात हत्यारों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। वहीं उसकी हत्या से परिवार के लोगों में रोना पिटना मच गया।

मंदिर के निकट मिली लाश

कौशांबी जिले के पिपरी थाना क्षेत्र स्थित खटांगी गांव के रहने वाले अरविंद कुमार ग्राम प्रधान हैं। पिता शीतला प्रसाद की काफी साल पहले मौत हो चुकी है। मनोज पांच भाईयों में तीसरे नंबर का था और पेंटर का काम करता था। उसके भाई सुरेश जोकि पेशे से वकालत करते है वह कालिंदीपुरम में रहते है। परिजनों ने बताया कि शनिवार सुबह करीब नौ बजे मनोज पेटिंग करने के लिए गांव से इलाहाबाद आया था। इसके बाद वापस नहीं लौटा तो घरवालों ने सोचा शायद कालिंदीपुरम में रहने वाले भाई के यहां रूक गया होगा, रविवार की सुबह धुस्सा में हनुमान मंदिर के निकट कुछ लोगों ने लाश देखी तो शोर मच गया। सूचना पर सीओ श्रीश्चन्द्र समेत इंस्पेक्टर धूमनगंज मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर देखा कि हत्यारों ने मनोज की हत्या ईट, पत्थर व चाकू मारकर हत्या की है। घटना की जानकारी पुलिस को सुबह करीब छह बजे पुजारी ने दी। पुलिस ने देखा गया कि मनोज का पैंट उतरा था और शरीर पर शर्ट व जांघिया थी। पैंट की जेब से गांजा का चिलम मिला। लेकिन मोबाइल गायब था। पूछताछ के बाद मोहल्ले वालों ने मनोज के शव होने का अंदेशा जताया तो पुलिस उनके घर पहुंची। मौके पर आए भाई सुरेश ने शिनाख्त की। अरविंद की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।

जा चुका था कई बार जेल

इंस्पेक्टर अरुण त्यागी ने बताया कि मनोज शातिर चोर और बमबाज था। उसने कई घटनाओं को अंजाम दिया था। वह कई बार ताला तोड़कर चोरी करने और बम रखने के आरोप में जेल जा चुका था। उसके खिलाफ केवल धूमनगंज थाने में ही सात आपराधिक मुकदमे हैं। जबकि करेली, सिविल लाइंस, कैंट और पिपरी थाने में भी कई मुकदमें दर्ज है। यह भी कहा जा रहा कि मनोज एक लड़की को लेकर भी भाग गया था, जिसका केस पिपरी थाने में दर्ज है।

हत्यारे उठा ले गए मोबाइल

हत्या की जांच में जुटी पुलिस को घटनास्थल से मनोज का मोबाइल गायब मिला। ऐसे में पुलिस उसके मोबाइल की कॉल डिटेल निकलवा रही है ताकि उसके हत्यारों तक आसानी से पहुंचा जा सके। हालांकि पुलिस का मानना है कि मनोज का चोर व आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों से दोस्ती थी। यह भी संभव है कि सभी ने साथ में नशा किया हो और फिर किसी बात को लेकर दोस्तों ने ही मार डाला हो। मनोज के हत्या की खबर सुन पत्नी रीना बेसुध हो गई तो परिवार में मातम छा गया। बेटे आयुष व अर्जुन और बूढ़ी मां संतरा देवी भी रोती बिलखती रही।

मृतक पर कई आपराधिक मामले दर्ज थे। ईट और पत्थर से कूचकर हत्या की गई है। कई सुराग मिले हैं। जल्द ही कातिलों को गिरफ्तार कर मामले का पर्दाफाश कर दिया जाएगा।

श्रीशंचद्र, सीओ सिविल लाइंस

inextlive from Allahabad News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.