साइबर अटैक पिकैडली होटल का सर्वर हैक

2019-03-12T06:00:28+05:30

- राजधानी में पहली बार साइबर अटैक, सात साल का डाटा हैक किया

फैक्ट फाइल

- 27 फरवरी की रात को साइबर अटैक

- 07 साल का होटल का सारा डाटा चुराया

mayank.srivastava@inext.co.in

LUCKNOW :

राजधानी में पहली बार साइबर क्रिमिल्स ने अटैक किया है। हैकर्स ने कृष्णानगर स्थित होटल पिकैडली के मेन सर्वर में सेंध लगाकर लगभग सात साल का पूरा डाटा चुरा लिया। इतना ही नहीं उन्होंने ईमेल भेजकर डाटा वापस करने के ऐवज में रुपयों की मांग की है। जिस पर होटल के फाइनेंस कंट्रोलर ने कृष्णानगर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। वहीं होटल की साइबर टीम हैक हुए डाटा को रिकवर करने के प्रयास में जुटी हुई है।

मेन सर्वर पर डाला डाका

कृष्णानगर के कानपुर रोड इलाके में पिकैडली होटल है। इस होटल में जितेन्द्र कुमार फाइनेंस कंट्रोलर के पद पर कार्यरत है। उनका कहना है कि 27 फरवरी की रात करीब 11.45 बजे होटल के मेन सर्वर पर साइबर अटैक किया गया। हैकर्स ने वर्ष 2012 से लेकर 27 फरवरी 2019 तक का सारा डाटा इंक्रप्ट कर उसको ईटीएच फाइल में बदल दिया। होटल प्रशासन ने जब सर्वर पर मौजूद डाटा खोलने की कोशिश की तो डाटा नहीं खुला रहा।

ई- मेल पर भेजा रेनसम मैसेज

हैकर्स ने डाटा चुराने के बाद के बाद होटल को एक ईमेल भी भेजा है। डाटा ओपन करने के दौरान उसमें लिखकर आ रहा है। ((ALL YOUR DATA HAS BEEN LOCKED US। YOU WANT TO RETURN? write email- helpfilerestore@india.com) रंगदारी का मैसेज दिखने लगा। होटल के सर्वर पर साइबर अटैक की बात पता चलते ही होटल मैनेजमेंट के होश उड़ गए।

7 साल का डाटा चोरी

डाटा हैक होने के बाद होटल मैनेजमेंट के आईटी डिपार्टमेंट ने छानबीन शुरू की। पता चला कि वर्ष 2012 तक का सारा डाटा इंक्रप्ट हो चुका है जो अब पढ़ने लायक ही नहीं बचा है। होटल प्रशासन की साइबर टीम ने अपने स्तर से छानबीन शुरू की तो पता चला कि यह पूरी घटना रंगदारी के लिए हैकर्स ने अंजाम दी है।

क्रप्टो रैंसमवेयर वायरस का यूज

हैकरों ने होटल के मेन सर्वर पर हमले के लिए रैंसमवेयर वायरस का प्रयोग किया। साइबर के जानकार बताते हैं कि हैकर Ransomware वायरस को स्पैम मेल के जरिए किसी भी कम्प्यूटर पर भेजते हैं। स्पेम मेल खोलने पर वायरस अपने आप कम्प्यूटर में डाउनलोड हो जाता है और फिर सारे डाटा को इंक्रप्ट कर बेकार कर देता है। कभी कभी कुछ आपत्तिजनक वेबसाइट पर भी यह वायरस मौजूद होता है। जैसे ही कोई उस वेबसाइट को खोलता है वायरस कम्प्यूटर में इंट्री करके सारी फाइल को खराब कर देता है।

वायरस का असर

- रैंसमवेयर वायरस दो तरह के होते है

- पहला क्रप्टो रैंसमवेयर

- दूसरा लॉकर रैंसमवेयर

क्रप्टो रैंसमवेयर : ये कम्प्यूटर के सारे डाटा की फाइल को इंक्रप्ट कर उनको ऐसा बना देता कि फाइल और डाटा पढ़ने लायक ही नहीं रहता है

रैंसमवेयर : ये कम्प्यूटर को पूरी तरह लॉक कर देता है और फिर उस कम्प्यूटर का प्रयोग नहीं हो सकता है।

दर्ज कराई एफआईआर

होटल के सर्वर पर साइबर अटैक के मामले में शनिवार को होटल के फाइनेंस कंट्रोलर जितेंद्र कुमार सिंह ने कृष्णानगर पुलिस से शिकायत की। मामले की गंभीरता को देखते हुए कृष्णानगर पुलिस ने इस मामले 420 आईपीसी 65, 66सी, 66डी आईटी एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली। मामला साइबर क्राइम से जुड़ा होने की वजह से अब कृष्णानगर पुलिस इसको सुलझाने के लिए साइबर क्राइम सेल की मदद ले रही है।

सारे अकाउंट और डॉक्यूमेंट्स क्लोज

फाइनेंस कंट्रोलर जितेन्द्र बताया कि होटल के सर्वर में आने वाले लोगों की सारी इंट्री, बुकिंग की डीटेल, भुगतान संबंधित जानकारियों और महत्वपूर्ण दस्तावेज रखे थे। उनकी साइबर टीम ने हमला करने वाले साइबर जालसाजों से सम्पर्क न करने की बात कही थी। साथ ही होटल की टीम इंक्रप्ट हुए डाटा को दोबारा से हासिल करने में लगी है। उन्होंने बताया कि इस साइबर अटैक की वजह से काम में काफी नुकसान भी हुआ है।

कोट

होटल मैनेजमेंट की तहरीर पर केस दर्ज किया गया है। यह साइबर क्राइम का मामला है। हैकर्स ने सर्वर को हैक कर लिया है। इंस्पेक्टर कृष्णा नगर इस मामले की जांच कर रहे हैं। जरूरत पड़ने पर साइबर क्राइम सेल से भी मदद मांगी जाएगी।

- लाल प्रताप सिंह, सीओ कृष्णा नगर

शहर में पहली बार साइबर अटैक

- मई वर्ष 2017 में देश में बड़े पैमाने पर साइबर अटैक की घटना घटी थी। रैंसमवेयर वायरस ने कई कम्प्यूटरों के डाटा को हैक कर लिया था। साइबर हैकर्स ने इसके बदले बिटक्वाइन में रंगदारी मांगी थी।

- यूपी में 16 मई को गोरखपुर के कैंट स्थित भारत ट्रेडिंग कंपनी यमाहा शोरूम का कम्प्यूटर रैंसमवेयर वायरस के जरिए हैक कर लिया गया। हैकर्स ने 300 डालर की रंगदारी मांगी है। ये रंगदारी संदीप कुमार वैश्य से बिटक्वाइन में मांगी थी।

inextlive from Lucknow News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.