आबाद रहे सिल्ली नहीं पहुंचे दिल्ली

2014-05-18T07:01:44+05:30

- लोकसभा चुनाव में हुई हार ने सुदेश महतो के लिए खड़ी की विस सीट बचाने की चुनौती

RANCHI : लोकतंत्र में जनता ही सर्वोपरि है। वह जिसे चाहे सिंहासन पर बैठा दे, जिसे चाहे धूल में मिला दे। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के सबसे पुराने राजनीतिक दल ने खुद पर न सिर्फ जनता जनार्दन की अनदेखी का दाग लगाया, बल्कि अपनी सरकार में करप्ट मिनिस्टर्स को जगह देने के लिए बदनाम होकर अपनी किरकिरी करा ली। झारखंड में भी कमोबेश यही स्थिति रही। यहां की जनता ने सभी के चुनावी एजेंडों को दरकिनार करते हुए अपने- अपने हिसाब से अपने मतों का इस्तेमाल किया.

सुदेश के लिए आसान नहीं विस की राह

आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो सिल्ली से कंटीन्यू एमएलए रहे हैं। कहा जाता है कि उनकी पकड़ उस क्षेत्र में बहुत अच्छी है। पर, इस बार के लोकसभा चुनाव में दो पार्टियों जेवीएम और बीजेपी की सिल्ली विधानसभा क्षेत्र में वोट की समीक्षा की जाए, तो आजसू सुप्रीमो के लिए विधानसभा की सीट बचा पाना मुश्किल हो सकता है। क्रिकेट एसोसिएशन को लेकर जेवीएम कैंडीडेट अमिताभ चौधरी व सुदेश महतो के बीच तनाव का दौर चल रहा है। आंकड़े बता रहे हैं कि 16वीं लोकसभा चुनाव में आजसू सुप्रीमो को उनके घर में 53,285 वोट्स मिले। जबकि, बीजेपी के रामहटल चौधरी को सिल्ली क्षेत्र में 25,532 तथा जेवीएम कैंडीडेट अमिताभ चौधरी को 24,038 वोट्स मिले। राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें, तो अगर विधानसभा चुनाव में गठबंधन के तौर पर कोई पार्टी सिल्ली से चुनाव लड़ती है, तो आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो को उसमें दिक्कतें आ सकती हैं.

हटिया व रांची की जनता ने भी नकारा

हटिया विधानसभा क्षेत्र से आजसू पार्टी के एमएलए नवीन जायसवाल हैं। इस बार के लोकसभा चुनाव में आजसू पार्टी को उम्मीद थी कि हटिया विधानसभा क्षेत्र से आजसू सुप्रीमो को रिकॉर्ड तोड़ वोट्स मिलेंगे। पर, ऐसा नहीं हुआ। एमएलए की लाख कोशिशों के बावजूद हटिया विधानसभा क्षेत्र की जनता ने एक सिरे से सुदेश महतो को नकार दिया। आंकड़े बता रहे हैं कि हटिया में सुदेश महतो को 19,365 वोट्स मिले, जबकि अमिताभ चौधरी को 12,834 वोट्स से संतोष करना पड़ा। हटिया में बीजेपी ने 96,076 वोट लाकर हटिया एमएलए की लोकप्रियता पर भी सवालिया निशान लगा दिया। वहीं, रांची की जनता ने सुदेश महतो को एक सिरे से खारिज कर दिया। हटिया, सिल्ली और रांची में सुदेश महतो को यह उम्मीद थी कि उन्हें अच्छी- खासी बढ़त मिलेगी। रांची विधानसभा क्षेत्र से सुदेश महतो को 5,545, अमिताभ चौधरी को 3,264 वोट्स मिले। जबकि, बीजेपी ने 85,065 वोट्स हासिल किए.

तो बच सकती थी सुदेश की जमानत

अगर लोकसभा चुनाव में सुदेश महतो थोड़ा बूथ मैनेजमेंट पर ध्यान देते और निर्दलीय को अपने पक्ष में बैठाते, तो सुदेश महतो की जमानत बच सकती थी। आंकड़े बता रहे हैं कि जेवीएम, बीजेपी, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस के बंधु तिर्की समेत अनेक कैंडीडेट्स ने सिल्ली विधानसभा क्षेत्र से 1,32,945 वोट्स झटके। जबकि, छह विधानसभा क्षेत्र में सुदेश महतो को 1,42,945 वोट्स मिले। ऐसे में अगर उन्हें निर्दलीयों और छोटे- मोटे कैंडीडेट्स का साथ मिल जाता, तो जमानत भी बचती और सुबोधकांत सहाय को पछाड़कर दूसरे स्थान पर भी काबिज होते.

इन्होंने की सिल्ली में सेंधमारी

अमिताभ चौधरी- 24,038

रामटहल चौधरी- 25,532

सुबोध कांत सहाय- 9,811

बंधु तिर्की- 1,692

अमानुल्लाह- 574

दुर्गा मुंडा- 476

बहादुर उरांव- 669

बिशेश्वर महतो- 308

मान सिंह मार्डी- 423

युगेश्वर मरर दीन- 881

रंजीत महतो- 684

रामलाल महतो- 495

लाल ज्योतिंद्र नाथ शाहदेव- 605

विकास चंद्र शर्मा- 3,510

सुरेश टोप्पो- 686

अंजनी पांडेय- 170

अबुल हसन- 209

अमित कुमार सिंह- 301

अरशद अयूब- 557

कफीलुर रहमान- 519

चिंतामणि महतो- 213

थिद्देयूस लकड़ा- 195

बलराम कुमार बेदिया- 1,057

बिरेंद्र कुमार जायसवाल- 183

रामपोदो महतो- 203

साजिया हैदर- 300

रिजेक्ट- 993

टोटल- 1,32,945

inextlive from Ranchi News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.