जानें क्यों नहीं हो सकता कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का गठबंधन अजय माकन ने बताया कारण

2018-06-03T11:47:39+05:30

दिल्ली में आप से गठबंधन की बात पर कांग्रेस ने सफाई दी है। कांग्रेस का कहना है कि पार्टी का ऐसा कोई इरादा नहीं है। आम आदमी पार्टी आप की तरफ से बेवजह के दावे किए जा रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी दिल्ली में सीट मांग रही
नई दिल्ली (पीटीआई) । देशभर में भाजपा के खिलाफ बन रहे गठजोड़ बन रहे हैं। धुर विरोधी पार्टियां भी एक दूसरे का दामन थामने में पीछे नहीं हट रही हैं। ऐसे में हाल ही में बीते शुक्रवार को आम आदमी पार्टी (आप) की तरफ से कहा गया था कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के नेता आप के साथ गठबंधन करना चाहते हैं। आप  के राष्ट्रीय प्रवक्ता दिलीप पांडे का कहना था कि कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेता आम आदमी पार्टी से लगातार संपर्क कर रहे हैं। वे हरियाणा, दिल्ली और पंजाब में हमारा सहयोग चाहते हैं। इतना नहीं उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी दिल्ली में एक सीट मांग रही है। ऐसे में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी (डीपीसीसी) के अध्यक्ष अजय माकन ने पत्रकार वार्ता की। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस का आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन वाले मामले पर सफाई दी। अजय माकन ने कहा कि यह सब आप के बेवजह के बयान हैं।

केजरीवाल सरकार का ग्राफ गिर रहा

कांग्रेस कार्यकर्ता और नेता आप के साथ गठबंधन के पक्ष में नहीं हैं क्योंकि केजरीवाल सरकार का ग्राफ तेजी से गिर रहा है। काम नहीं करने की वजह से आप सरकार के प्रति लोगों में भारी नाराजगी है। अन्ना आंदोलन के माध्यम से केजरीवाल ने कांग्रेस को बदनाम करके नरेंद्र मोदी के लिए सियासी जमीन तैयार की थी। इससे इस पार्टी की शुुरुआत ही लोगों के गले नहीं उतरी। ऐसे में जिस पार्टी की लोकप्रियता दिनों दिन गिरती जा रही है उसके साथ गठबंधन का सवाल ही नहीं उठता है। खास बात तो यह है कि इस दौरान उन्होंने उदाहरण में दिल्ली विधानसभा और नगर निगम के साथ ही विधानसभा उप चुनाव में आप और कांग्रेस को मिले मत का जिक्र किया है। अजय माकन ने कहा दोनों पार्टियों को मिलने वाले मतों के प्रतिशत से भी अंदाजा लगाया जा सकता है। बता दें कि वर्ष 2013 में कांग्रेस ने आप को सरकार बनाने के लिए समर्थन दिया था।

पाकिस्तान ने फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, फायरिंग में BSF के दो जवान शहीद

कर्नाटक सीएम के पिता और जॉर्ज फर्नांडिस कभी हुआ करते थे एक ही पार्टी में


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.