फ्यूचर कॉलेज की ईबाइक ने जीता प्रथम पुरस्कार

2019-02-08T06:00:10+05:30

- इनोविजन- 2019 में स्टूडेंट्स ने पेश किए थे कई इनोवेटिव आइडिया.

बरेली:

बरेली कॉलेज में जिला विज्ञान क्लब की तरफ से लगाई गई डिस्ट्रिक्ट इनोविजन 2019 में फ्यूचर इंस्टीट्यूट की ई बाइक इनफिनिटी ने फ‌र्स्ट पुरस्कार जीता। इस प्रतियोगिता में डिस्ट्रिक्ट के कई इंजीनियरिंग कॉलेज एवं इंटर कॉलेज के स्टूडेंट्स ने अपने नवीन विचारों पर आधारित प्रोजेक्ट पेश किए। कार्यक्रम को सीडीओ सत्येन्द्र कुमार के निर्देशन में आयोजित किया गया था.

70 किलोमीटर एक बार चार्ज करने पर चलती है

फ्यूचर इंस्टीट्यूट के स्टूडेंट्स ने प्रतियोगिता में ई- बाईक इनफिनिटी को पेश किया था। इस बाइक की कीमत 30 हजार रुपए है और यह एक बार चार्ज करने पर 70 किलोमीटर का सफर तय करती है। इनफिनिटी बाइक को अधिक टार्क देने के लिए इसमें 9 सौ वॉट की बीएलडीसी मोटर का इस्तेमाल किया गया है। बाइक का चार्जिग यूनिट 3 घंटे में चार्ज कर देता है। बाइक की डिजायन को मजबूत बनाने के लिए तकनीक का भी समावेश किया गया है। यह बाइक 250 किग्रा तक वजन आसानी से ले जा सकती है। बाइक को संस्थान के छात्र करन हरित, सुशील गंगवार, बिलाल अहमद व टिंकू ने तैयार किया है.

लैब कोट सेरमनी से स्टूडेंट्स को समझाया फार्मेसी का महत्व

- श्वेत रंग शुद्धता का प्रतीक है उसी प्रकार आचरण रोगियों के प्रति रखें पवित्र

क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ :

इनवर्टिस विश्वविद्यालय के फार्मा विभाग ने व्हाइट कोट सेरेमनी का आयोजन थर्सडे को किया। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य फार्मेसी विभाग के छात्रों को लैब कोट वितरण करना तथा उनको लैब कोट की जिम्मेदारियों से परिचित करते हुए श्वेत रंग की महत्ता का एहसास करना था। कार्यक्रम के चीफ गेस्ट ड्रग इंस्पेक्टर विवेक यादव एवं उर्मिला वर्मा रहीं.

बताया फार्मेसी का इतिहास

स्टूडेंट्स को बताया गया कि श्वेत रंग शुद्धता का प्रतीक है उसी प्रकार फार्मासिस्ट का आचरण भी रोगियों के प्रति पवित्र रहे। दवा निर्माण से लेकर उसके उपभोग तक फार्मासिस्ट अपनी सभी जिम्मेदारियों का निर्वहन सुचिता के साथ करे। चीफ गेस्ट ने फार्मासिस्ट का महत्व बताते हुए छात्रों से कहा की फार्मासिस्ट स्वास्थ्य सेवाओं का अभिन्न अंग है। उर्मिला वर्मा ने आयुर्वेदिक दवाइयों के बारे में बताते हुए कहा कि अब भी दवाएं आयुर्वेद के सिद्धांत पर बनती हैं। छात्रों को फार्मेसी के इतिहास का संक्षिप्त वर्णन देते हुए उनको विभिन्न नियमों के बारे में भी बताया। इस मौके पर रोहिलखंड विश्वविद्यालय के डॉ। अमित वर्मा, विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो। वाईडीएस आर्य, डायरेक्टर एडमिन एलपी मिश्रा, डॉ। आरके शुक्ला, हिमांशु जोशी और अजीत कुमार यादव आदि मौजूद रहे.

inextlive from Bareilly News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.