इलेक्ट्रिक बसों से लें भूलभुलैया और रिवर फ्रंट का मजा

2019-04-01T06:00:09+05:30

- ई बसों से पर्यटकों को दिखाई जाएंगी राजधानी की ऐतिहासिक धरोहरें

- पर्यटकों को सस्ती सेवा देने के लिए बनाया जा रहा है प्लान

LUCKNOW: इस माह सिटी बस बेड़े में करीब 3 दर्जन नई इलेक्ट्रिक बसें शामिल हो जाएंगी। इन बसों के आने से पर्यटकों को भी काफी राहत मिलेगी। वे शहर की ऐतिहासिक धरोहरों की इन बसों से सैर कर सकेंगे। चारबाग से इन बसों का संचालन किया जाएगा।

टूरिस्ट को मिलेगी हेल्प

सिटी बस प्रबंधन के अधिकारियों के अनुसार सिटी में हर साल बड़ी संख्या में देश-विदेश से पर्यटक आते हैं। ये ऐसा साधन चाहते हैं, जो इन्हें यहां की ऐतिहासिक धरोहरों को इन्हें दिखा सकें। पर्यटकों की इसी डिमांड को देखते हुए सिटी बस प्रबंधन आईआरसीटीसी के अधिकारियों से संपर्क करेगा। वहीं प्राइवेट टूर ऑपरेटर्स से भी बात कर उनके पर्यटकों को भी बस सुविधा उपलब्ध कराएगा।

इसी माह से सुविधा

सिटी बस प्रबंधन के अनुसार बसों के आने के बाद इसी माह यह सुविधा शुरू करने की कवायद चल रही है। इन बसों का प्रचार भी किया जाएगा। इनमें यात्रियों को कई तरह के पैकेज देने की भी तैयारी है। पैसेंजर्स को लंच की सुविधा भी दी जा सकती है। इसके लिए टूरिस्ट को अलग से पैसा देना होगा। इन बसों के ड्राइवर और कंडक्टर को भी स्पेशल ट्रेनिंग दी जाएगी। ताकि वे टूरिस्ट के साथ ठीक से सामंजस्य बनाकर बातचीत कर सकें।

कोट

आने वाली नई ई बसों को राजधानी के 35 रूटों में बांटा जाएगा। हर रूट पर तीन से चार बसें चलाई जाएंगी। शहर में मौजूद पर्यटन स्थलों के लिए भी बस चलाने की तैयारी है। आने वाली सभी ई बसें छोटी और एसी हैं।

सतीश पाल, एआरएम

सिटी बस प्रबंधन

बॉक्स

इन जगहों पर घुमाने की तैयारी

बड़ा इमामबाड़ा (भूलभुलैया), लोहिया पार्क, हजरतगंज मार्केट, चिडि़याघर, अमीनाबाद मार्केट, छोटा इमामबाड़ा, रूमी गेट, हाथी पार्क, जनेश्वर मिश्रा पार्क, गौतमबुद्ध पार्क, रेजीडेंसी, शहीद स्मारक, चंद्रिका देवी मंदिर, छतर मंजिल, सूरज कुंड पार्क, मनकामेश्वर मंदिर, कुकरैल पिकनिक स्पॉट, बेगम हजरत महल पार्क, स्टेट म्यूजियम, पुराना हनुमान मंदिर, एलयू, सतखंडा, गोमती रिवर फ्रंट, रामकृष्ण महल, दिलकुशा कोठी आदि।

--------------------

आलमबाग से अंबेडकर पार्क चौराहे तक इलेक्ट्रिक बस आज से

प्रोटोटाइप इलेक्ट्रिक एसी बस सोमवार से आलमबाग बस स्टेशन से अंबेडकर पार्क चौराहे तक चलाई जाएगी। एआरएम सतीश पाल ने बताया कि पहले चरण में इसका संचालन आलमबाग से गोमती नगर और दूसरे चरण में आलमबाग से मेडिकल कॉलेज तक किया गया। अब इसे फिर से एक नए रूट पर चलाया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज रूट पर सबसे अधिक भीड़ थी। अब उसे शहर के उस रूट पर चलाया जा रहा है जहां ड्राइवर को अधिक ब्रेक नहीं लगाने होंगे। इसके लिए दूरी और किराया तय कर दिया गया है।

बाक्स

किराए एक नजर में

कहां से कहां तक दूरी किमी में किराया

आलमबाग बस स्टेशन से चारबाग 3.7 20

आलमबाग बस स्टेशन से सिकंदरबाग 6.7 25

आलमबाग बस स्टेशन से डालीबाग 7.6 25

आलमबाग बस स्टेशन से लोहिया पार्क 10.8 30

आलमबाग बस स्टेशन से हुसडि़या चौराहा 16.4 35

आलमबाग बस स्टेशन से सीएमएस 19.2 40

आलमबाग बस स्टेशन से जनेश्वर पार्क 22.1 45

आलमबाग बस स्टेशन से अम्बेडकर पार्क चौराहा 25.1 45

बॉक्स

खेप पहुंचना शुरू

इलेक्ट्रिक बसों की खेप राजधानी पहुंचाना शुरू हो गई है। दो और इलेक्ट्रिक बसें संडे को राजधानी पहुंच गई। सिटी बस प्रबंधन के अनुसार जल्द ही इन बसों को भी राजधानी की सड़कों पर उतारा जाएगा।

inextlive from Lucknow News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.