एफबीआई अधिकारी ने किया ऐसा काम जो हरा सकता था डोनाल्ड ट्रंप को हुआ खुलासा

2018-06-15T18:03:36+05:30

एफबीआई के पूर्व निदेशक जेम्स कोमे ने पिछले चुनाव में अमरीकी राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार रहीं हिलेरी क्लिंटन द्वारा एक निजी ईमेल सर्वर का इस्तेमाल करने के मामले की जांच में प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया था। इसका खुलासा न्याय विभाग की एक रिपोर्ट में किया गया है।

ऑफिसियल कामकाज के लिए एक निजी ईमेल का उपयोग
वॉशिंगटन (पीटीआई)।
अमरीका के न्याय विभाग ने एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें कहा है कि प्रमुख जांच एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) के पूर्व निदेशक जेम्स कोमे ने पिछले चुनाव में अमरीकी राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार रहीं हिलेरी क्लिंटन द्वारा एक निजी ईमेल सर्वर का इस्तेमाल करने के मामले की जांच में प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया था। इसके बाद उन्होंने जांच की रिपोर्ट के बारे में भी ठीक तरह से लोगों को नहीं बताया। न्याय विभाग की रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कोमे ने एफबीआई के ऑफिसियल कामकाज के लिए एक निजी ईमेल अकाउंट का इस्तेमाल किया था।
500 पृष्ठों की यह रिपोर्ट
बता दें कि न्याय विभाग और ऑफिस ऑफ द इंस्पेक्टर जनरल ने गुरवार को 500 पृष्ठों की यह रिपोर्ट जारी की। इसमें एफबीआई के कुछ कर्मचारियों के बीच हुई बातचीत और संदेशों का पता लगाया गया है, जिनमें तत्कालीन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ और उनकी प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के समर्थन में बयान थे।
डोनाल्ड ट्रंप को नुकसान पहुंचा सकते थे जेम्स
एफबीआई अमरीकी न्याय विभाग के अंतर्गत काम करने वाली एक इंटीरियर जांच एजेंसी है। 2016 में अमरीकी राष्ट्रपति चुनाव के प्रचार अभियान के दौरान हिलेरी क्लिंटन के ईमेल का मामला सामने आया था, जिसकी जांच एफबीआई ने की थी। इस पर विवाद पैदा होने के बाद अमरीका के न्याय विभाग ने उस जांच में एफबीआई द्वारा उठाए गए कदमों की समीक्षा कर अपनी रिपोर्ट दी है। न्याय विभाग ने अपनी रिपोर्ट में जेम्स कोमे की आलोचना करते हुए आरोप लगाया है कि एफबीआई के अधिकारी इस तरह के कदम उठाने की सोच रहे थे, जो उस समय अमरीका के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप को हराने में काफी मदद कर सकते थे।

कभी पढ़ाई के लिए दिव्‍या सूर्यदेवरा की जेब में नहीं थे पैसे अब बनीं जनरल मोटर्स की पहली महिला सीएफओ

रूस में फुटबॉल वर्ल्‍ड कप 2018 शुरू होने से पहले जानिए कहां खेला जाएगा 2026 का वर्ल्‍ड कप


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.