ऑनलाइन शॉपिंग साइट पर लोगों को ऐसे मिल रहा धोखा ऑफर्स पर जानें क्या करें क्या न करें

2019-05-11T09:30:53+05:30

सोशल साइट पर दिखने वाले विज्ञापनों पर भरोसा करने से पहले एक बार जांच जरूर करें हाल ही में ठगी के बहुत से मामले सामने आए हैं

- विज्ञापन देखकर बुलट का सौदा किया तय, 68 हजार जमा कराने के बाद भी नहीं आई गाड़ी

- सस्ता कैमरा लेने के चक्कर में गंवाई रकम, सोशल मीडिया पर देखा था कैमरे का विज्ञापन

AGRA@inext.co.in
AGRA: सोशल साइट पर दिखने वाले विज्ञापनों पर भरोसा करने से पहले एक बार जांच जरूर करें, नहीं तो आपको मोटी चपत लग सकती है। ऐसा ही एक मामला ताजनगरी में सामने आया है। शू कारोबारी ने महंगा कैमरा सस्ता खरीदने के लिए रुपया जमा करा दिया, लेकिन न तो कैमरा आया और न ही उसके रुपये वापस हुए। दूसरे केस में युवक को बुलट देने के नाम पर ठगा गया। दोनों ही मामलों में शुक्रवार को एसएसपी से शिकायत की गई है।

केस-1
ढोलीखार निवासी इमरान शू कारोबारी हैं। इमरान ने 16 अप्रैल को ऑनलाइन शॉपिंग साइट पर करीब 10 हजार का कैमरा 1999 रुपये में देखा। उसमें समर सेल ऑफर के तहत कैमरा कम कीमत पर मिल रहा था। इमरान ने कैमरा बुक कर दिया। कैश ऑन डिलीवरी सुविधा नहीं होने पर पेमेंट ऑनलाइन जमा कर दिया। उन्होंने एक जूसर भी बुक किया, था लेकिन इसका पेमेंट नहीं किया। इसके बाद कैमरा नहीं आया। कुछ दिन तक इंतजार किया, लेकिन कोई रिस्पॉंन्स नहीं मिला। पीडि़त ने एसएसपी से मामले की शिकायत की। मामला साइबर सेल भेजा गया है। साइबर सेल मामले की छानबीन कर रही है।

केस-2
डिफेंस कॉलोनी सदर निवासी युवक ने कुछ दिन पहले सोशल साइट पर एक बुलट का विज्ञापन देखा। किसी ने बेचने के लिए उसे डाला था। दिए हुए मोबाइल नंबर पर सम्पर्क किया, तो युवक ने अपना नाम जितेंद्र बताया। खुद को फौजी बताते हुए गुजरात में तैनाती बताई। शातिर युवक ने बुलट की कीमत 58 हजार रुपये बताई। युवक को फौजी पर विश्वास हो गया। युवक ने दिए गए अकाउंट नंबर पर 58 हजार रुपये जमा करा दिए। इसके बाद 5150 रुपये कोरियर चार्ज भी जमा करा लिया। प्रोसेसिंग चार्ज के नाम पर फिर से 5150 रुपये जमा करा लिए। इस तरह 685300 रुपये जमा करा लिए। इसके बाद बुलट नहीं भेजी। युवक ने फोन पर सम्पर्क किया तो आज-कल में आने का आश्वासन दिया, लेकिन गाड़ी अब तक नहीं आई। युवक को ठगी का अहसास हुआ। पीडि़त ने एसएसपी से मामले में शिकायत की है। मामला साइबर सेल भेजा गया है। टीम मामले की छानबीन में जुट गई है।

क्या करें, क्या न करें

किसी भी ऑफर पर एकदम से विश्वास न करें

पहले ऑफर को वेरीफाई कर लें

साइट के कस्टमर केयर नंबर से कॉन्टेक्ट कर जानकारी लें

सिक्योर साइट से ही शॉपिंग या लेनदेन करें

शातिरों द्वारा एक जैसे नाम की फर्जी साइट बना दी जाती हैं, इनसे बच कर रहें


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.