ठेकेदार ने ऑपरेटर को पीटा एफआईआर

2019-04-08T06:00:42+05:30

- राजघाट के नॉर्मल उपकेंद्र की घटना

- आउट सोर्सिग पर तैनात ऑपरेटर ने राजघाट थाने में दी तहरीर

- पीटने व अशब्द के इस्तेमाल का आरोप

GORAKHPUR: नॉर्मल उपकेंद्र पर आउट सोर्सिग से तैनात ऑपरेटर को मारने-पीटने के मामला सामने आया है। शनिवार की रात आंधी-पानी की वजह से शहर की बिजली गुल हो गई। आरोप है कि देर रात लाइट न आने की वजह से बिजली विभाग के ठेकेदार अपने साथियों के साथ मौके पर पहुंचे और ऑपरेटर से उलझ गए। आरोप है कि ठेकेदार ने अशब्द भाषा का इस्तेमाल करते हुए ऑपरेटर की पिटाई कर दी। जिसमें उनके चेहरे पर चोटें आईं हैं। उन्होंने इसकी जानकारी संबंधित जेई को दी। मौके पर पहुंचे जेई ने मामले की जानकारी हासिल की। उधर कर्मचारी ने राजघाट थाने में ठेकेदार के खिलाफ तहरीर दी है। पुलिस तहरीर के आधार पर मामले की जांच में जुटी है।

दी जान से मारने की धमकी

राजघाट एरिया के नॉर्मल उपकेंद्र पर आउट सोर्सिग से चंद्र भूषण मिश्रा ऑपरेटर के पद पर कार्यरत हैं। शनिवार की रात 9 बजे आंधी-पानी आने के कारण जेई के आदेश पर पब्लिक और विद्युत उपकरणों की सुरक्षा के लिए इस उपकेंद्र से निर्गत सभी फीडरों को बंद कर दिया। आरोप है कि रात करीब 9.30 बजे तुर्कमानपुर पटवारी टोला राजघाट के रहने वाले राहुल चौधरी अपने दो साथियों के साथ नॉर्मल उपकेंद्र पर आए। बिजली सप्लाई न होने का कारण पूछते हुए उलझ गए। अशब्दों का इस्तेमाल करते हुए ऑपरेटर की पिटाई कर दी। साथ ही शहर छोड़ने और जान से मारने की धमकी भी दी। थाने में तहरीर देते हुए ऑपरेटर ने मारपीट और सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने आदि धाराओं में केस दर्ज करने की गुहार लगाई है।

वर्जन

रात में मोहल्ले में काफी देर तक लाइट नहीं थी। इसकी जानकारी के लिए जब उपकेंद्र पहुंचा तो एसएसओ आरपी मिश्रा शराब के नशे में धुत थे। जब उनसे सप्लाई बाधित होने की वजह पूछी तो वह उल्टा अपशब्द कहने लगे। विरोध करने पर उन्होंने जान माल की धमकी भी दी है। इस संबंध में थाने में तहरीर दे दी गई है।

- राहुल चौधरी, ठेकेदार

बिजली विभाग के ऑपरेटर से मारपीट के मामले की जानकारी है। तहरीर मिली है। प्रकरण की जांच के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी।

- राजेश पांडेय, इंस्पेक्टर राजघाट

उपकेंद्र पर रात में विवाद हो गया था। मौके पर पहुंचकर दोनों पक्षों को बुलाकर समझाया गया है। जहां तक तहरीर देने की बात है तो इसकी जानकारी नहीं है।

- एके सिंह, अधिशासी अभियंता उपखंड प्रथम

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.