कितना खून बहेगा इस रंजिश में?

2014-09-07T07:00:44+05:30

- उधम-योगेश की गैंगवार में अब अगला कौन?

- अभी तक कई जान गवां चुके हैं इस गैंगवार में

MEERUT : योगेश भदौड़ा और उधम सिंह में नितिन की हत्या से पहले भले ही समझौते की बात सामने आ रही हो, लेकिन अब एक बार फिर ये रंजिश नया मोड़ ले सकती है। अभी तक योगेश और उधम की रंजिश में कई जान जा चुकी है। सवाल ये है कि अभी और कितने खून इस रंजिश में बहेंगे? जेल में बंद उधम सिंह और योगेश भदौड़ा के बीच सालों से चली आ रही रंजिश किसी से छुपी नहीं है। ये रंजिश जारी रही तो अभी और कई जान भी जा सकती हैं।

समझौते हुए विफल

इन दोनों के बीच समझौता कराने के लिए जाट महासभा, भारतीय किसान यूनियन और अन्य कई संगठन बीच में आए। कई बार समझौता भी हुआ, लेकिन फिर किसी गलतफहमी की वजह से ये दोनों एक दूसरे के सामने आकर खड़े होते दिखे।

यहां से शुरू हुई रंजिश

- नवंबर ख्009 को किनौनी मिल के जीएम सिद्धार्थ उपाध्याय की हत्या और कलीना के प्रधान साहब सिंह की हत्या की गई।

-क् नवंबर ख्0क्ख् को प्रमोद भदौड़ा की हत्या की गई। इन सभी हत्याओं में उधम सिंह का नाम सामने आया।

- 7 नवंबर ख्0क्ख् को करनावल में संदीप, सतवीर और राजू की हत्या की गई, जिसमें योगेश भदौड़ा का नाम सामने आया।

- ख्0 नवंबर ख्0क्ख् को सरूरपुर के नीटू की हत्या हुई, जिसमें उधम सिंह गैंग का नाम सामने आया।

- म् अक्टूबर ख्0क्फ् को ख्भ् वर्षीय कपिल पुत्र कृष्णपाल को मौत के घाट उतारा गया। कृष्णपाल अजय की हत्या में नामजद था। तब ये माना गया कि योगेश ने अपने भतीजे की हत्या का बदला कृष्णपाल के बेटे को मारकर लिया।

अब तक जारी है खून बहना

हाल ही में ख्ब् अगस्त को भदौड़ा निवासी डॉ। सुभाष पुत्र धर्मपाल को सरेराह गोलियों से भून दिया गया था। सुभाष के पिता की तेरहवीं में ही उधम सिंह ने प्रमोद भदौड़ा की हत्या की थी और मौका पाकर उधम सिंह ने गाजियाबाद में सरेंडर कर दिया था। तब कोर्ट जाते हुए उधम सिंह पर योगेश भदौड़ा गैंग ने हमला कर दिया था। इस हमले में उधम सिंह बाल-बाल बचा था।

inextlive from Meerut News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.