गोरखपुर से चुराते नेपाल में खपाते

2018-09-09T10:11:26+05:30

शहर में वाहन चोरों का ऐसा गैंग एक्टिव है जो व्यस्त बाजारों से बाइक चुराकर नेपाल में औनेपौने दाम में बेच देता है

- गुलरिहा पुलिस ने अरेस्ट किए दो शातिर, चार वाहन बरामद

- वाहन चेकिंग के दौरान गुलरिहा पुलिस को मिली कामयाबी

Gorakhpur@inext.co.in
GORAKHPUR: शहर में वाहन चोरों का ऐसा गैंग एक्टिव है जो व्यस्त बाजारों से बाइक चुराकर नेपाल में औने-पौने दाम में बेच देता है. गुलरिहा पुलिस ने शनिवार को इसी गैंग के दो सदस्यों को धर दबोचा. पुलिस ने दोनों के पास से चोरी की बाइक बरामद की है. पुलिस का कहना है कि महराजगंज जिले के ठूठीबारी-निचलौल बॉर्डर से बाइक पार कराकर चोर बेच आते थे. पकड़े गए बदमाश पहले भी वाहन चोरी के आरोप में जेल जा चुके थे. एसपी नॉर्थ रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि ये वाहन चोर महज 10 हजार रुपए में किसी भी बाइक का सौदा करते थे. यह गैंग 20 से ज्यादा वाहनों को बॉर्डर पार कर चुका है.

वाहन चेकिंग में पकड़े गए लिफ्टर
गुलरिहा के एसएचओ जयदीप वर्मा सरैया चौराहे पर वाहन चेकिंग कर रहे थे. तभी पुलिस ने एक बाइक सवार दो लोगों को रोका. उनके पास बाइक का कोई पेपर नहीं था. जांच पड़ताल में सामने आया कि दोनों मेडिकल कॉलेज से बाइक चुराकर ले आ रहे थे. पुलिस की सख्ती पर दोनों टूट गए. बताया कि वह लोग शहर के अलग-अलग हिस्सों से बाइक चुराकर नेपाल में बेचते हैं. ठूठीबारी-निचलौल बॉर्डर पर चेकिंग में लापरवाही का फायदा उठाकर वह नेपाल पहुंच जाते हैं. वहां पहले से तैयार खरीदार रुपए देकर डिलीवरी ले लेते हैं. चोरों का यह गैंग पल्सर जैसी बाइक को महज 10 हजार में बेच आता था.

खराब लॉक वाली गाडि़यां उठाते थे चोर
पूछताछ में दोनों की पहचान कुशीनगर के अहिरौली, जगदीशपुर निवासी अमित भारती और पीपीगंज के रामपुर कैथवलिया मोहल्ले के चंद्रशेखर के रूप में हुई. दोनों पहले भी बाइक चोरी में पकड़े जा चुके हैं. उनसे पूछताछ में सामने आया कि चोरों का यह गैंग शाहपुर, कोतवाली, गुलरिहा सहित कई जगहों से वाहन चोरी करता था. खराब लॉक वाली बाइक को चुराने में आसानी होती है. किसी चाबी को पत्थर पर घिसकर ऐसा बना देते हैं कि आसानी से लॉक खुल जाए. पुरानी बाइक के लॉक खराब होने से खोलने में आसानी होती है. चार जुलाई को भटहट कस्बे से बाइक चुराकर गैंग के सदस्य बेच चुके थे. वाहन चोरों की गिरफ्तारी में एसआई प्रमोद कुमार सिंह, गुलाब यादव, कांस्टेबल संदीप कुमार सिंह, जितेंद्र गौड़, जय प्रकाश और सत्येंद्र कुमार चौधरी की भूमिका रही.

 

पकड़े गए दोनों आरोपी पहले भी जेल जा चुके हैं. जेल से छूटने के बाद वह फिर से वाहन चोरी करने लगे थे. चेकिंग के दौरान पुलिस ने उनको पकड़ा है. इस गैंग से जुड़े अन्य लोगों की तलाश में पुलिस टीम लगी है.

- रोहित सिंह सजवाण, एसपी नॉर्थ


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.