रावणों से हार गई गोरखपुर पुलिस

2018-10-19T06:00:47+05:30

- एक लाख के ईनामी राघवेंद्र की तलाश में नाकाम

- पुलिस को खूब छका रहा शातिर बदमाश मिथुन गैंग

GORAKHPUR: जिले में सनसनीखेज अपराध कर पुलिस की छाती पर मूंग दल रहे शातिर बदमाशों की तलाश में पुलिस नाकाम रही है। दरोगा और सिपाहियों पर हमले के आरोपी मिथुन पासवान और उसके सहयोगी धीरू की तलाश में पुलिस खाली हाथ रही है। चौरीचौरा एसओ की लापरवाही से पुलिस के दामन पर लगे दाग धोने में पसीना छूट रहा है। गोली लगने के बावजूद फरार चल रहे हिस्ट्रीशीटर तक पुलिस नहीं पहुंच सकी। दोनों की तलाश में उनके तमाम नात- रिश्तेदारों से पूछताछ कर नतीजा शून्य रहा। उधर, झंगहा एरिया में दो बार हुए डबल मर्डर के आरोपी एक लाख के ईनाम राघवेंद्र की गिरफ्तारी में निकली पुलिस टीम निराश होकर लौट चुकी है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए ताबड़तोड़ छापेमारी की जा रही है। जल्द रिजल्ट सामने आ जाएगा। फिलहाल इस दशहरे में इन रावणों पर शिकंजा कसने में पुलिस नाकाम रही है.

मोस्टवांटेड, हिट लिस्ट में मिथुन और धीरू

चौरीचौरा एरिया के रौतनिया निवासी हिस्ट्रीशीटर मिथुन पासवान गैंग बनाकर हाइवे पर लूटपाट के लिए कुख्यात है। करीब 20 दिन पूर्व वह जमानत पर छूटा था। 14 अक्टूबर की रात चौरीचौरा पुलिस वारंटियों की तलाश में निकली। चौरीचौरा के एसओ के निर्देश पर एसआई घनश्याम वर्मा, कांस्टेबल वंश नारायण और शैलेंद्र सिंह वांरटियों की तलाश में निकले। दो बदमाशों के घर पर दबिश देने पर पुलिस नाकाम रही। एसओ के पहुंचने पर पुलिस टीम ने मिथुन पासवान के घर दबिश दिया। वहां बाहर से ताला बंद कमरे में पहले से मौजूद कई बदमाशों को जब पुलिस ने ललकारा तो भिड़ंत हो गई। बदमाशों ने पुलिस पर हमला कर दिया। फोर्स लेकर पहुंचने के बजाय थानेदार भी भाग खड़े हुए। हमले में घायल दरोगा ने पड़ोस के मकान में घुसकर जान बचाई। बाद में पहुंची पुलिस फोर्स हमले में घायल दोनों सिपाहियों को मेडिकल कॉलेज ले गई। पुलिस कर्मचारियों पर हमला कर फरार हुए मिथुन पासवान, उसके मामा धीरू पासवान के खिलाफ 50- 50 हजार का ईनाम जारी कर पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। पुलिस पर हमले की वजह से दोनों हिट लिस्ट में है.

20 से अधिक आपराधिक मुकदमें, बढ़ता जा रहा गैंग

रविवार रात हुई घटना के बाद पुलिस अधिकारियों की अगुवाई में पांच थानों की फोर्स लगाई गई। क्राइम ब्रांच और अन्य पुलिस टीम को मिथुन की तलाश की जिम्मेदारी गई। दरोगा की गोली लगने घायल मिथुन ने इंजीनियरिंग कॉलेज सिघडि़यां के पास डॉक्टर से इलाज कराया था। डॉक्टर को हिरासत में लेकर पुलिस कुछ न कबूलवा सकी। मंगलवार रात बालापार- टिकरिया रोड के दुर्गापुर, बोहा टोला सहित कई गांवों में दबिश देकर पुलिस ने बदमाशों के नात- रिश्तदारों सहित 15 लोगों को हिरासत में लिया। लेकिन कोई जानकारी सामने नहीं आ सकी। उनकी तलाश में सौ से अधिक लोगों को पकड़कर पुलिस पूछताछ कर चुकी है। धीरू पासवान के खिलाफ कैंट, खोराबार और चौरीचौरा थानों में 15 से अधिक मामले दर्ज हैं। जबकि, मिथुन पासवान चौरीचौरा थाना का मजारिया हिस्ट्रीशीटर है। उसके खिलाफ करीब 23 मामले दर्ज हैं। सभी मामले लूट, हत्या के प्रयास, गैंगेस्टर एक्ट सहित गंभीर धाराओं के हैं। पुलिस से जुड़े लोगों का कहना है कि मिथुन ने बेहद कम समय में 20 से अधिक बदमाशों का गैंग खड़ा कर लिया है। इन सभी बदमाशों पर निगरानी करने में पुलिस टीमें सफल साबित नहीं हो रहीं।

ढाई साल से फरार एक लाख का ईनामी राघवेंद्र

झंगहा एरिया के सुगहा में एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या का आरोपित एक लाख का ईनामी राघवेंद्र पुलिस की पकड़ से दूर है। तीन अगस्त को पुलिस ने राघवेंद्र की मां और बहन को अरेस्ट कर जेल भेजा था। झंगहा के सुगहा में पिछले दो साल के भीतर रिटायर दरोगा जयहिंद यादव, उनके भाई बलवंत यादव, बेटे कौशल यादव और नागेंद्र की हत्या हुई है। हत्याकांड का आरोपित राघवेंद्र कभी पकड़ा नहीं जा सका है। कोलकाता में रहकर नेटवर्क फैलाने वाले राघवेंद्र का जुड़ाव गोरखपुर, बिहार और कोलकाता के बदमाशों से है। उसकी तलाश में पुलिस टीम कई बार कोलकाता के चक्कर लगा चुकी है। वह भागकर विदेश न जा सके। इसलिए पुलिस ने उसका पासपोर्ट भी रद कर दिया है। इसके अलावा दोआबा के डान अच्छेलाल की तलाश चल रही है। 11 अगस्त को पुलिस मुठभेड़ में अच्छेलाल यादव के करीबी 25 हजार के ईनामी हरिओम कश्यप को पुलिस टीम ने अरेस्ट किया था। वर्तमान में 15 से अधिक बदमाशों को पकड़ने की जिम्मेदारी पुलिस टीम पर है।

इनकी तलाश में रहे नाकाम

बदमाश ईनाम थाना

राघवेंद्र यादव एक लाख झंगहा

मिथुन पासवान 50 हजार चौरीचौरा

धीरू पासवान 50 हजार चौरीचौरा

अच्छेलाल यादव 25 हजार झंगहा

गिरजा यादव 25 हजार पीपीगंज

जयंत सरकार 75 सौ रुपए शाहपुर

वर्जन

पुलिस टीम पर हमले के आरोपियों पर ईनाम बढ़ा दिया गया है। पुलिस की अलग- अलग टीम उनकी तलाश में जुटी है। कई लोगों से पूछताछ की गई है। जल्द ही बदमाशों को अरेस्ट कर लिया जाएगा।

- शलभ माथुर, एसएसपी

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.