बिजली कटौती बारबार कंज्यूमर्स में मचा हाहाकार

2019-06-10T06:00:40+05:30

- सिटी के कई एरियाज में फॉल्ट और जंपर टूटने से पांच घंटे गुल रही बिजली

- सहारा स्टेट, तारामंडल, कूड़ाघाट, पादरी बाजार, खोराबार इलाके में आती-जाती रही लाइट

GORAKHPUR: 24 घंटे बिजली सप्लाई के दावे करने वाला बिजली विभाग सिटी में मामूली फॉल्ट नहीं कंट्रोल कर पा रहा। आए दिन किसी न किसी एरिया में फॉल्ट, जंपर टूटने और ट्रांसफार्मर जलने से घंटों बिजली के लिए हाहाकार मच रहा है लेकिन विभाग के जिम्मेदार महज व्यवस्था दुरुस्त कराने के दावे करने में लगे हैं। शनिवार रात और रविवार दोपहर भी लोकल फॉल्ट के नाम पर सहारा स्टेट, तारामंडल, कूड़ाघाट, पादरी बाजार और खोराबार एरिया के लोगों को पांच घंटे की कटौती झेलनी पड़ गई। इस दौरान गर्मी से हलकान लोग बिजली अधिकारियों को फोन मिलाते रहे लेकिन कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिल सका। पांच घंटे बाद बिजली आई तो लोगों ने राहत की सांस ली।

शहर के सहारा स्टेट में शनिवार रात 10 बजे अचानक बत्ती गुल हो गई। बिजली उपकेंद्र पर कॉल करने पर बताया गया कि खोराबार एरिया में जंपर टूट कर गिर गया है। रात भर एरिया के लोगों को किसी तरह रात गुजारनी पड़ी। वहीं, रविवार सुबह तारामंडल और कूड़ाघाट एरिया में लाइट रुक-रुक कर आती-जाती रही। इसके अलावा पादरी बाजार के मानस विहार कॉलोनी में भी एक हजार वोल्ट लाइन के जंपर में फॉल्ट आ गया। इसकी जानकारी जैसे ही बिजली निगम के अफसर और कर्मचारियों को मिली, वे ठीक कराने में जुट गए। लेकिन सुबह 6 बजे से 9 बजे तक फॉल्ट नहीं ढूंढा जा सका। उधर एरिया के लोग लाइट न होने की वजह से उमस और गर्मी से जूझते नजर आए।

पानी के लिए तरसे लोग

छह बजे भोर में अचानक इलाके की लाइट गुल होने से लोग पानी के लिए तरस गए। सुबह का समय और छुट्टियों का दिन, सभी लोग अपने घर में पेंडिंग काम निपटाने में लगे थे। महिलाएं कपड़े धोने के लिए बाथरूम में पहुंचीं तो टंकी का पानी खत्म हो चुका था। उनके किचन का कार्य भी अधूरा पड़ा था। जिनके घरों में हैंडपंप लगा था उनके कार्य तो निपट गए लेकिन टंकी के पानी पर निर्भर लोगों को सांसत झेलनी पड़ गई।

फोन रिसीव न होने से बढ़ा दर्द

फॉल्ट की वजह से कटौती के बीच बिजली अधिकारियों का फोन रिसीव न होने से कंज्यूमर्स का दर्द और बढ़ जा रहा है। बिजली कटने के बाद कंज्यूमर कारण जानने को फोन करते रहे लेकिन रिस्पॉन्स नहीं मिल रहा है। कुछ दिन पहले कंज्यूमर द्वारा फोन रिसीव न होने की शिकायत के बाद चीफ इंजीनियर ने दो एसडीओ और दो जेई के खिलाफ चेतावनी पत्र जारी किया था लेकिन इसके बाद भी ज्यादातर अफसर फोन नहीं रिसीव कर रहे हैं।

बॉक्स

समय से फॉल्ट ठीक करने नहीं पहुंचता नाइट गैंग

शहर में दो लाख से अधिक बिजली कंज्यूमर्स हैं। इन्हें बेहतर बिजली सुविधा देने के लिए बिजली विभाग तरह-तरह के उपाय कर रहा है लेकिन उनकी समस्याओं को दूर नहीं कर पा रहा। इस गर्मी में ट्रांसफार्मर से फ्यूज उड़ने, जंपर टूटने और फॉल्ट की दिक्कत से बिजली निगम जूझ रहा है। रात में फाल्ट को ठीक करने के लिए चार उपकेंद्रों पर नाइट गैंग का गठन किया गया है लेकिन इस टीम की लेटलतीफी की वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जबकि टीम को एक गाड़ी और अन्य उपकरण भी मुहैया कराए गए हैं फिर भी शहर की बिजली दुरूस्त नहीं कर पा रहे हैं। इस तरह की तमाम शिकायतें बिजली निगम को मिल रही हैं।

ये है परेशानी

- अधिक लोड बढ़ने की वजह से ट्रांसफार्मर का फ्यूज उड़ जाना

- झूलते तारों का आास में टकराना फॉल्ट की मेन वजह

- जंपर का अचानक टूट कर गिर जाना

- अधिक लोड होने की वजह से ट्रांसफार्मरों का जलना आदि

कोट्स

शहर में इन दिनों कटौती अधिक बढ़ गई हैं। पूछने पर जवाब मिलता है कि जंपर टूटने की वजह से दिक्कत आई है। इसके चलते पब्लिक को गर्मी में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

जहूरूल्लाह

खोराबार एरिया में सबसे ज्यादा दिक्कत है। सहारा स्टेट में रात से ही लाइट की आंख मिचौली की वजह से यहां रहने वाले लोगों की परेशानी बढ़ जा रही है। बिजली अफसरों के मोबाइल बंद रहते हैं, कोई रिस्पॉन्स नहीं मिलता है।

पंकज शर्मा

हर माह बिजली निगम को बिल भुगतान किया जाता है और वे बेहतर सुविधाओं का दावा करते हैं लेकिन फिर भी 24 घंटे की बिजली नहीं मिल पा रही है। बिजली अधिकारी फॉल्ट और अन्य दिक्कतों का हवाला देकर पल्ला झाड़ लेते हैं।

भजुराम पांडेय

वर्जन

कुछ इलाकों में सुबह फॉल्ट की दिक्कत आई थी जिसे तत्काल ठीक करवा कर सप्लाई शुरू कर दी गई। साथ ही जिम्मेदारों को मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए गए हैं। शहर को भरपूर बिजली मिले यह हमारी जिम्मेदारी है।

- एके सिंह, अधीक्षण अभियंता शहर

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.