फ‌र्स्ट डिवीजन की टूटी आस फिर सेकेंड डिवीजन पास

2019-05-20T06:01:01+05:30

- सेकेंड डिवीजन पास हुआ गोरखपुर

- सुबह में वोटर्स ने दिखाया इंटरेस्ट, दोपहर में छाया सन्नाटा

- गर्मी ने किया परेशान, लेकिन फिर भी जमे रहे वोटर्स

GORAKHPUR: लोकसभा आम चुनाव में इस बार भी जिले को फ‌र्स्ट डिविजनर बनाने की आस पूरी नहीं हो सकी। सुबह 7 बजे से शाम छह बजे तक कुल 57.51 परसेंट वोटर्स ने अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल किया। इससे पिछले चुनावों की तरह इस बार भी गोरखपुर फ‌र्स्ट डिविजन के पास तक नहीं पहुंच सका। हालांकि 2014 आम चुनाव और लोकसभा उप चुनाव से ज्यादा लोगों ने इस बार पोलिंग की है, जिससे गोरखपुर लोकसभा सीट का परसेंटेज बढ़ा है। वहीं बांसगांव की बात करें तो यहां कोई खास फर्क देखने को नहीं मिला। पिछली बार जहां 54.16 फीसद वोटर्स ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था, वहीं इस बार 53.91 परसेंट वोटर्स ने वोट डाले।

शांतिपूर्ण हुआ मतदान

वोटर्स की चुप्पी और कैंडिडेट्स की टेंशन के बीच 2019 का चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से खत्म हो गया। गोरखपुर में कुछ स्थानों पर ईवीएम मशीन खराब होने की बात सामने आई, जहां जिला प्रशासन ने समय रहते ईवीएम चेंज कराकर पोलिंग शुरू करा दी। साथ ही कई बूथ्स पर कुछ वोटर्स के नाम लिस्ट में शामिल नहीं थे, जिसकी वजह से कैंडिडेट्स पहुंचे और सभी वैलिड आईडी रखने के बाद भी अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल नहीं कर सके।

ग्रामीण इलाकों में बरसे वोट

गोरखपुर लोकसभा का कैंडिडेट चुनने के लिए ग्रामीणों ने खासा उत्साह दिखाया। सुबह शहरी इलाकों में वोटर्स की लंबी लाइन लगी रही, लेकिन दोपहर बाद बूथों पर सन्नाटा पसर गया। जबकि, ग्रामीण विधानसभाओं में वोटर्स सुबह से लेकर देर शाम तक जमे रहे। यही वजह रही कि शहरी इलाकों के मुकाबले ग्रामीण इलाकों में जमकर पोलिंग हुई। सबसे ज्यादा अवेयर सहजनवां के वोटर्स दिखे, जहां 62 फीसद ने पहुंचकर अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल किया।

पहली बार प्रशासनिक अधिकारियों ने की वोटिंग

गोरखपुर में 2019 एक मायने में काफी अलग रहा और यह एक तरह से नया इतिहास बनाने जैसा रहा। ऐसा इसलिए कि पिछले चुनावों में पोलिंग की मॉनीटरिंग में बिजी प्रशासनिक अधिकारियों से हटकर इस बार अधिकारियों ने अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल किया। कमिश्नर जयंत नर्लीकर ने जहां बेतियाहाता स्थित एमपी सीनियर सेकेंडरी स्कूल में अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल किया, तो वहीं डीएम के विजेंद्र पांडियान ने सेंट एंड्रयूज कॉलेज में बने बूथ्स पर वाेट डाला।

मौसम ने भी नहीं किया सितम

मौसम के तेवर जिस तरह पिछले कई दिनों से काफी सख्त बने हुए थे, रविवार को इसमें काफी बदलाव देखने को मिला। सुबह से तेज धूप खिली, लेकिन दोपहर होते-होते कुछ धूप के बाद बदली ने लोगों को काफी राहत दी। इसका असर पोलिंग पर भी देखने को मिला। शहर के वोटर्स जो गर्मी और धूप से निजात पाने के लिए घरों से बाहर निकलने से कतराते थे, उन्होंने भी पोलिंग के लिए कदम घर से बाहर निकाला और अपने वोटिंग राइट का इस्तेमाल किया। इस दौरान मैक्सिमम टेंप्रेचर 38.9 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया, जबकि मिनिमम टेंप्रेचर 26.8 डिग्री सेल्सियस रहा।

शहर में सन्नाटा, आउटर में चहल-पहल

पोलिंग में इस बार भी शहर में सन्नाटा देखने को मिला। सभी बिजी रोड्स पर सन्नाटा छाया रहा, जिससे लोगों को कहीं जाने में मुश्किल नहीं हुई। वहीं शहर के आउटर्स में काफी चहल-पहल नजर आई। लोग दूर बने पोलिंग बूथ्स पर अपने घर वालों को साथ लेकर वोट डालने के लिए जाते नजर आए।

वोटिंग प्रतिशत

गोरखपुर में पोलिंग - 57.51

बांसगांव में पोलिंग - 54.16

inextlive from Gorakhpur News Desk


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.