हैप्पी बर्थडे कुंबले किसने दिया था जंबो नाम जहां सचिन नहीं लगा पाए वहां इन्होंने लगाया शतक

2018-10-17T08:16:30+05:30

टीम इंडिया के पूर्व स्पिन गेंदबाज अनिल कुंबले का आज 48वां जन्मदिन है। कुंबले भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल गेंदबाज रहे। रिटायरमेंट के बाद वह टीम इंडिया के कोच भी रहे। तो आइए आज उनके जन्मदिन पर जानें उनसे जुड़ी रोचक बातें

कानपुर। 17 अक्टूबर 1970 को बेंगलुरु में जन्में अनिल कुंबले को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था। वह दाएं हाथ के लेग स्पिनर रहे। अपनी जादुई गेंदबाजी से कुंबले ने बड़े-बड़े बल्लेबाजों को चलता किया है। कुंबले ने उस दौर में अपनी पहचान बनाई जब मुथैया मुरलीधरन और शेन वॉर्न जैसे स्पिन गेंदबाज दुनिया में राज करते थे। भारत की तरफ से सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज अनिल कुंबले ही हैं।
एक पारी में 10 विकेट लेने वाले गेंदबाज
अनिल कुंबले के नाम टेस्ट क्रिकेट में कई रिकॉर्ड दर्ज है मगर टेस्ट मैच की एक पारी में 10 विकेट लेने वाला कारनामा कोई नहीं भूल सकता। कुंबले ने यह रिकॉर्ड 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ बनाया था। उस वक्त टीम इंडिया के कोच पूर्व भारतीय क्रिकेटर अंशुमान गायकवाड़ थे। गायकवाड़ की कोचिंग में कुंबले ने ऐसी करिश्माई गेंदबाजी की एक पारी में 10 पाक बल्लेबाजों को पवेलियन भेज दिया। आपको बता दें दुनिया में सिर्फ दो गेंदबाज ऐसा कर पाए हैं। पहली बार 10 विकेट जिम लेकर ने लिए थे और दोबारा यह कारनामा कुंबले ने किया।
किस मैदान पर लिए सबसे ज्यादा विकेट
अनिल कुंबले ने टेस्ट क्रिकेट में वैसे तो बहुत बल्लेबाजों को चलता किया है। मगर एक मैदान पर सर्वाधिक विकेट लेने की बात करें तो कुंबले ने यह रिकॉर्ड दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर बनाया है। कुंबले ने यहां 7 टेस्ट मैच खेलकर 58 विकेट अपने नाम किए।  
ऐसा रहा है क्रिकेट करियर
कुंबले ने साल 1990 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। करीब 18 साल तक वह टेस्ट क्रिकेट का हिस्सा रहे। कुंबले ने आखिरी टेस्ट मैच 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। इस दौरान उन्होंने भारत की तरफ से कुल 132 टेस्ट मैच खेले जिसमें 619 विकेट अपने नाम किए, जिसमें एक मैच में 35 बार पांच विकेट और 8 बार दस विकेट लेने का कारनामा भी किया। वहीं वनडे क्रिकेट की बात करें तो इस दिग्गज गेंदबाज ने 1990 में श्रीलंका के खिलाफ डेब्यू करते हुए 2007 में बरमूडा के खिलाफ आखिरी वनडे खेला। कुंबले के नाम 271 वनडे मैचों में 337 विकेट दर्ज हैं। कुंबले वैसे तो अपनी जादुई गेंदबाजी के लिए जाने जाते रहे मगर इंटरनेशनल करियर में उनके नाम एक टेस्ट शतक भी दर्ज है जो उन्होंने 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ ओवल मैदान में बनाया था। बता दें इस मैदान पर सचिन तेंदुलकर भी कभी शतक नहीं लगा पाए हैं।
किसने दिया था जंबो नाम
अनिल कुंबले को उनके साथी खिलाड़ी जंबो नाम से बुलाते थे। उन्हें यह नाम किसने दिया इस बात की उत्सुकता हर किसी क्रिकेटप्रेमी को होगी। दरअसल कुंबले को जब भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनाया गया था उन्होंने फैंस के साथ टि्वटर पर लाइव वीडियो किया था जिसमें फैंस कुंबले से सवाल पूछ रहे थे। एक फैंस ने कुंबले से उनके निकनेम 'जंबो' के बारे में पूछा कि किस व्यक्ति ने उन्हें जंबो नाम दिया। जवाब में कुंबले ने काफी रोचक किस्सा सुनाया। उन्होंने कहा था, 'मेरा जंबो नाम किसी और ने नहीं बल्कि पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने रखा था। ईरानी ट्रॉफी के एक मैच में मैं रेस्ट ऑफ इंडिया की तरफ से कोटला में मैच खेल रहा था। वहीं सिद्धू मिडऑन पर खड़े फील्डिंग कर रहे थे। मैंने एक गेंद फेंकी जो टप्पा खकर तेजी से स्टंप में घुस गई। तब सिद्धू ने कहा ये तो 'जंबो जेट' है। हालांकि बाद में जेट नाम तो पीछे रह गया मगर साथी खिलाड़ी उन्हें जंबो जरूर बुलाने लगे।
कौन-कौन पुरस्कार मिले
अनिल कुंबले भारतीय क्रिकेट टीम के बेहतरीन खिलाड़ियों में एक रहे। वह टीम इंडिया के कप्तान के अलावा कोच भी रहे हैं। साल 1995 में उन्हें खेल पुरस्कार 'अर्जुन अवार्ड' से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा 1996 में कुंबले का नाम विस्डन क्रिकेटर ऑफ द ईयर में भी जुड़ा। वहीं 2005 में कुंबले को भारत सरकार ने पद्मश्री अवॉर्ड से भी सम्मानित किया।  
वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी का भी शौक
निजी जिंदगी में अनिल कुंबले को वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी भी बेहद पसंद हैं। अक्‍सर वह वाइल्‍ड लाइफ की फोटोग्राफी करने के बाद तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर भी अपने फैंस के लिए पोस्‍ट करते हैं। कुंबले वाइल्‍ड लाइफ संरक्षण की दिशा में भी विशेष रूप से सक्रिय हैं। कर्नाटक में उनके नाम पर 'द कुंबले फाउंडेशन - जंबो फंड' वन्य जीवों के संरक्षण के लिए काफी तेजी से काम कर रहा है।
अब स्मार्ट बैट से खेला जाएगा क्रिकेट ताकि लाइव मैच में दर्शक वो देख सके, जो कभी नहीं देखा
आज ही टेस्ट डेब्यू किया था इस भारतीय खिलाड़ी ने, जिन्हें आउट करने के लिए सचिन पाकिस्तान से जा मिले


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.