सदाबहार 88 साल

2011-09-26T12:55:00+05:30

The Bollywood legend Dev Anand turns 88 today

अपने दौर के मोस्‍ट डैशिंग और रोमांटिक हीरो माने जाने वाले देवानंद का आज बर्थडे है। सिक्‍सटीज और सेवेंटीज की लगभग सभी लीडिंग हीरोइन्‍स के साथ काम कर चुके देवानंद उस दौर की फिल्‍मों के लिए पारस पथ्‍थर माने जाते थे। यानि की उनका फिल्‍म में होना सक्‍सेज की गारंटी बन चुका था.

देवानंद ने  टैक्‍सी ड्राइवर, सीआईडी, काला पानी, ज्‍वैल थीफ, गाइड, जानी मेरा नाम, काला बाजार, मुनीम जी, पेइंग गेस्‍ट, हम दोनों और फंटूश जैसी कई सुपर हिट फिल्‍मों में काम किया। उनकी हर फिल्‍म ने सक्‍सेज की एक डिफरेंट स्‍टोरी लिखी। और यह सब तब था जब वे राजकपूर, गुरूदत्‍त, राजेंद्र कुमार और दिलीप कुमार जैसे शानदार और हिट हीरोज के बीच काम कर रहे थै।

26 सितम्‍बर 1923 में गुरदासपुर डिस्‍ट्रिक्‍ट में उनकी बर्थ हुई और नाम रखा गया धर्मदेव आनंद। गुरदासपुर अब नरलोन पाकिस्‍तान में है। ब्रिटिश दौर के सक्‍सेजफुल एडवोकेट किरोरीमल आनंद के सेकेंड सन हैं देवानंद। देव साहब के एल्‍डर ब्रदर फेमस डायरेक्‍टर प्रोड्यूसर चेतन आनंद थे यंगर ब्रदर एक्‍टर विजय आनंद थे। देवानंद की एक सिस्‍टर भी थीं शीलकांता कपूर जो फेमस डायरेक्‍ट एक्‍टर शेखर कपूर की मम्‍मी थीं। देवानंद ने गवरमेंट कालेज लाहौर से इंलिश में ग्रेजुएशन किया हुआ है।

1940 में देवानंद तब की बंबई और की मुंबई आ गए। यहां उन्‍होंने रु 200 सेलरी पर एज मिलेअ्री सेंसर ऑफिसर जाब शुरू की और साथ ही साथ अपने भाई चेतन के साथ इंडियन पीपुल्‍स थियेटर एसोशिएशन भी ज्‍वाइन कर ली।

जल्‍दी ही उन्‍हें अपनी डेब्‍यु फिल्‍म हम एक हैं ऑफर हुई जिसे प्रभात टाकीज ने प्रोड्यूस किया था। इसी फिल्‍म के दौरान उनकी मुलाकात गुरुदत्‍त से हुई और ऐसी गहरी फ्रेंडशिप हुई कि उन्‍होंने वादा किया कि जो पहले सक्‍सेज हांसिल करेगा वो दूसरे को सक्‍सेजफुल होने में हेल्‍प करेगा। इसी पसर्नल बांडिंग का असर था कि जब गुरुदत्‍त ने फिल्‍म डायरेक्‍ट की तो देवानंद ने उसमें एक्‍टिंग की और उसे प्रोड्यूस भी किया।

बाद में अपनी को एक्‍ट्रेस सुरैया के साथ देवानंद का जबरदस्‍त अफेयर चला और लगा कि जल्‍दी ही वे मैरिज कर लेंगे पर संरैया की फेमिली प्राब्‍लम्‍स की वजह से ऐसा हो ना सका और देवानंद अपनी दूसरी को स्‍टार कलपना कार्तिक से मैरिज कर ली। लेकिन देवानंद को जानने वालों का कहना है कि वह कभी भी उन्‍हें भूल नहीं सके।

देवानंद ने 2007 में अपनी ऑटोबायग्राफी रोमांसिंग विद लाइफ रिलीज की। उन्‍होंने कई फिल्‍मों को प्रोड्यूस और डायरेकट किया और तब्‍बू जैसे कई टेलेंटेड कलाकारों को लांच किया। देवानंद को अपनी लाइफ में कई अवाड्र हांसिल हुए। आज भी लाइफ को भरपूर तरीके से इंज्‍वाय करते हैं और कहते हैं कि अपनी आखिरी सांस तक काम करते रहेंगे। 87 की एज में भी वह अपने को यंग एट हार्ट मानते हैं और अब भी डिफरेंट फंक्‍शन्‍स और चैरिटीज में एक्‍टिवली पार्टीसिपेट करते नजर आते हैं।

We wish Dev Saheb a very Happy birthday

 


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy  and  Cookie Policy.